आप ने दिल्ली को शराब में डुबोने का काम किया: भाजपा

नयी दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए उस पर ‘‘दिल्ली को शराब में डुबोने’’ और शराब घोटाले से देश का ध्यान भटकाने की कोशिश करने का आरोप लगाया. भाजपा ने 2021-22 के लिए दिल्ली आबकारी नीति से संबंधित कथित ‘घोटाले’ को लेकर आप और अरविंद केजरीवाल सरकार पर लगातार हमला बोला है.

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने संवाददाता सम्मेलन में दावा किया कि सार्वजनिक रूप से उपलब्ध साक्ष्य बताते हैं कि शराब नीति को पलटने का फैसला केजरीवाल के आवास पर किया गया. उन्होंने कहा, ‘‘जो लोग (आप) खुद को ‘कट्टर ईमानदार’ कहते थे, वे ‘झूठों के सरदार’ लगते हैं. इस पार्टी की तेजी से उभरती वास्तविकता इसके नेताओं के असली चेहरों को उजागर कर रही है.’’

भाजपा प्रवक्ता ने यह भी आरोप लगाया कि आप में भ्रष्टाचार केवल एक नेता तक सीमित नहीं है, बल्कि पूरी सरकार इसमें डूबी हुई है.
उन्होंने दावा किया, ‘‘विभिन्न मुद्दों को उछाल कर वे पिछले कई महीनों से ऐसा माहौल बनाना चाहते हैं, जहां वे सच को दबा सकें या नकार सकें. इस हंगामे में दिल्ली को शराब में डुबोने वाले भागने की कोशिश कर रहे हैं.’’ त्रिवेदी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल के आवास पर ही आप ने तकनीकी समिति के निर्देशों को पलट दिया थ्रा. उन्होंने कहा कि इस तरह उनके पास भ्रष्टाचार के आरोपों से बचने का कोई रास्ता नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली आबकारी विभाग के नोटिस के बावजूद कि 200 से अधिक शराब की दुकानें अवैध हैं, उन्हें आवंटित किया गया. यह फैसला भी केजरीवाल के आवास पर ही लिया गया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘10 साल की इतनी कम अवधि में किसी अन्य पार्टी ने अपने आचरण और चरित्र में इतना बड़ा बदलाव नहीं दिखाया है. नई राजनीति के स्वघोषित चैंपियन ने जिस तरह से अपनी नैतिकता को बदला है, वह अभूतपूर्व है.’’

उपराज्यपाल वी के सक्सेना द्वारा 2021-22 के लिए दिल्ली आबकारी नीति को लागू करने में कथित अनियमितताओं की सीबीआई जांच की सिफारिश के बाद पिछले साल आप सरकार ने वापस ले लिया था. आबकारी नीति के संबंध में सीबीआई द्वारा दर्ज एक मामले में आरोपियों में से एक पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया था.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button