प्रधानमंत्री मोदी ने तीन करोड़ ‘लखपति दीदी’ बनाने के लिए मांगा देश की महिलाओं का समर्थन

जम्मू. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तीन करोड़ ‘लखपति दीदी’ बनाने के लिए मंगलवार को देश की महिलाओं से समर्थन मांगा. प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर में केंद्र की प्रमुख योजनाओं के लाभार्थियों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने देश के बाकी हिस्सों के लिए उदाहरण पेश किया है.

मोदी ने जम्मू की अपनी यात्रा के दौरान लाभार्थियों के साथ बातचीत की ताकि यह पता लगाया जा सके कि योजनाओं ने केंद्र शासित प्रदेश में लोगों के जीवन को कैसे बदला है. एक जनसभा के दौरान, मोदी ने कठुआ जिले के बसोहली क्षेत्र के एक स्व सहायता समूह (एसएचजी) की प्रमुख कीर्ति को आजीविका योजना के तहत ऋण योजना का लाभ उठाने और ग्रामीण महिलाओं की सफलता में योगदान करने के लिए प्रोत्साहित किया.

कीर्ति के स्व सहायता समूह ने तीन गायें खरीदी थीं और पूरा ऋण चुका दिया. अब कई महिलाओं के प्रयासों के कारण वह एक बड़ी गौशाला संचालित कर रही हैं. उन्होंने कहा, ”महिलाओं का जीवन बदल रहा है और वे ग्रामीण भारत में बदलाव का इंजन बन रही हैं. इन बदलावों का श्रेय प्रधानमंत्री द्वारा हमें उपहार में दी गई ऐसी योजनाओं को जाता है.” कीर्ति के योगदान की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने देश की महिलाओं से समर्थन मांगा और कहा कि वह तीन करोड़ महिलाओं को ‘लखपति दीदी’ बनाना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, ”आप एक क्रांति लाए हैं. आप जैसी बहनों के लिए मेरा एक बड़ा सपना है जो स्वयं सहायता समूहों में काम करती हैं. इनमें मैं तीन करोड़ महिलाओं को लखपति दीदी बनाना चाहता हूं.” प्रधानमंत्री ने कीर्ति से पूछा क्या वह इसमें उनकी मदद कर सकती हैं? कीर्ति ने जवाब दिया कि वह मोदी के ‘लखपति दीदी’ के मिशन का पूरा समर्थन करेंगी.

किसानों से लेकर एसएचजी सदस्यों तक, मोदी ने पांच लाभार्थियों के साथ बातचीत की. इनमें जम्मू से तीन और कश्मीर से दो शामिल थे. मोदी ने इस दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण (पीएमएवाई-जी), पीएम किसान, जल जीवन मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएमजेएवाई), आयुष्मान भारत, पीएम उज्ज्वला और प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम-कुसुम) जैसी योजनाओं के प्रभाव के बारे में लाभार्थियों से बात की.

प्रधानमंत्री ने उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा इलाके की स्नातकोत्तर उद्यमी शाहीन बेगम द्वारा निभाई गई अनुकरणीय भूमिका की सराहना की. दीनदयाल अंत्योदय योजना की लाभार्थी शाहीन ने एसएचजी और पोल्ट्री फार्म सहित विभिन्न इकाइयों की स्थापना करके कश्मीर में ग्रामीण महिलाओं के जीवन को बदल दिया है.

उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री को देते हुए कहा, ”आपकी योजनाओं ने हमारे जीवन को बदल दिया है. मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा बदलाव आएगा. यह हमारे लिए एक कठिन जीवन था लेकिन आपने इसे बदल दिया.” मोदी ने शाहीन के उद्यमिता कौशल के लिए प्रशंसा की और उसे शिक्षित करने के लिए उसके माता-पिता की भी सराहना की.

उन्होंने कहा, ”मैं आपको शिक्षित करने के लिए आपके माता-पिता के सामने शीश झुकाता हूं. आप एक सफल उद्यमी बन रही हैं. यह दिखाता है कि मोदी शासन के तहत सब कुछ संभव है.” कार्यक्रम के दौरान उन्होंने पुंछ जिले के गुर्जर लाल मोहम्मद का अभिवादन किया, जिन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) के तहत सफलतापूर्वक एक आवास का निर्माण किया है.
मोहम्मद ने मोदी और भारत की प्रशंसा में एक कविता सुनाई और उनके प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया.

प्रधानमंत्री ने जल जीवन मिशन और पीएम उज्ज्वला योजनाओं के लाभार्थियों पुलवामा के रियाज अहमद कोहली और किश्तवाड़ जिले के अठोली (पद्दार) से वीणा परिहार को बधाई दी. दोनों जम्मू-कश्मीर के दूरस्थ क्षेत्रों में क्रमश? पाइप से पानी की आपूर्ति और गैस कनेक्शन पाने वाले लाभार्थी हैं.

कोहली ने अपनी कहानी साझा की कि कैसे उनका दूरदराज का गांव जल जीवन मिशन के तहत लाभान्वित हुआ है. उन्होंने कहा, ”हमें आजादी के बाद पहली बार पानी के कनेक्शन मिले हैं. अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद हमें वन अधिकार कानून से लाभ मिला. हम आपको धन्यवाद देते हैं. मैंने प्रधानमंत्री से इस तरह बात करने के बारे में कभी सोचा तक नहीं था. हम भाग्यशाली हैं कि हम आपसे बात कर रहे हैं.”

Related Articles

Back to top button