शेयर बाजार में जबर्दस्त लिवाली से सेंसेक्स, निफ्टी ने बनाया नया रिकॉर्ड

मुंबई. भारतीय रिजर्व बैंक की तरफ से रिकॉर्ड लाभांश भुगतान की मंजूरी दिए जाने के बीच बृहस्पतिवार को बैंक, पेट्रोलियम एवं वाहन कंपनियों के शेयरों में जबर्दस्त लिवाली से स्थानीय शेयर बाजार के दोनों मानक सूचकांक अपने अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए.

बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी दोनों ही सूचकांकों ने 1.6 प्रतिशत से अधिक की छलांग लगाई और नए रिकॉर्ड के साथ बंद हुए.
बीएसई के 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक सेंसेक्स ने 29 जनवरी के बाद की अपनी सबसे ऊंची छलांग लगाई और 1,196.98 अंक के लाभ के साथ यह 75,418.04 अंक के अपने अबतक के सबसे ऊंचे मुकाम पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 1,278.85 अंक यानी 1.72 प्रतिशत बढ़कर 75,499.91 के अपने सर्वकालिक उच्चस्तर पर भी गया.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के निफ्टी ने भी इस जबर्दस्त तेजी का फायदा उठाते हुए नया रिकॉर्ड बनाया. निफ्टी 369.85 अंक यानी 1.64 प्रतिशत बढ़कर 22,967.65 अंक के अपने उच्चतम स्तर पर बंद हुआ. दिन में कारोबार के दौरान यह 395.8 अंक यानी 1.75 प्रतिशत उछलकर 22,993.60 के नए सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंचा था.

जियोजीत फाइनेंशियल र्सिवसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”बैंक एवं वाहन क्षेत्रों के शानदार प्रदर्शन से मानक सूचकांक ने रिकॉर्ड बढ़त बनाई. आरबीआई का रिकॉर्ड लाभांश भुगतान एक अप्रत्यक्ष कर कटौती के समान है और बॉन्ड प्रतिफल घटने की उम्मीद है.” रिजर्व बैंक ने बुधवार को कहा था कि वह वित्त वर्ष 2023-24 के लिए सरकार को रिकॉर्ड 2.1 लाख करोड़ रुपये का लाभांश देगा जो बजटीय अनुमान से भी दोगुना है.

सेंसेक्स की कंपनियों में से महिंद्रा एंड महिंद्रा, लार्सन एंड टुब्रो, एक्सिस बैंक, मारुति सुजुकी, अल्ट्राटेक सीमेंट, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी बैंक, भारती एयरटेल, आईसीआईसीआई बैंक, टाइटन, टाटा कंसल्टेंसी र्सिवसेज और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर बढ़त के साथ बंद हुए. दूसरी तरफ सन फार्मा, पावरग्रिड और एनटीपीसी के शेयरों में गिरावट रही.

एक्सिस सिक्योरिटीज के प्रमुख (बुनियादी एवं मात्रात्मक शोध) नीरज चदावर ने कहा, ”रिकॉर्ड लाभांश भुगतान को आरबीआई की मंजूरी के बाद शेयर बाजार में उत्साह था. यह बेहतर राजकोषीय स्थिति और नरम बॉन्ड प्रतिफल की ओर इशारा करता है. अगर चुनाव के नतीजे बाजार की उम्मीदों के अनुरूप रहते हैं, तो हमें उम्मीद है कि जून के पहले सप्ताह में निफ्टी नई ऊंचाई पर पहुंच जाएगा.” व्यापक बाजार में बीएसई मिडकैप सूचकांक 0.58 प्रतिशत चढ़ गया जबकि स्मालकैप में 0.27 प्रतिशत की बढ़त रही.

क्षेत्रवार सूचकांकों में वाहन खंड में सर्वाधिक 2.28 प्रतिशत की बढ़त रही जबकि पूंजी उत्पाद खंड में 2.13 प्रतिशत और बैंकिंग खंड में 1.98 प्रतिशत की तेजी रही. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के खुदरा शोध प्रमुख दीपक जसानी ने कहा कि निफ्टी में प्रतिशत अंक के संदर्भ में पिछले छह महीनों की सबसे बड़ी तेजी 23 मई को देखी गई.

इस तेजी के बीच एनएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का कुल बाजार पूंजीकरण पांच लाख करोड़ डॉलर पर पहुंच गया. एशिया के अन्य बाजारों में जापान का निक्की बढ़त के साथ बंद हुआ जबकि दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, चीन का शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग गिरावट पर रहे. यूरोप के अधिकांश बाजार दोपहर के कारोबार में बढ़त में थे. अमेरिकी शेयर बाजार बुधवार को नकारात्मक दायरे में बंद हुए थे.

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.33 प्रतिशत चढ़कर 82.17 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बुधवार को 686.04 करोड़ रुपये के शेयर बेचे.
बुधवार को सेंसेक्स 267.75 अंक चढ़कर 74,221.06 अंक पर और निफ्टी 68.75 अंक बढ़कर 22,597.80 अंक पर बंद हुआ था.

Related Articles

Back to top button