सेंसेक्स 76,000 के शिखर पर पहुंचने के बाद फिसला, 20 अंक नुकसान में

मुंबई. उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में स्थानीय शेयर बाजारों में सोमवार को मामूली गिरावट रही. कारोबार के दौरान सेंसेक्स एक समय पहली बार रिकॉर्ड 76,000 अंक के स्तर के पार चला गया था जबकि एनएसई निफ्टी अपने अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था, लेकिन बाद में बिकवाली दबाव से इनमें गिरावट आई. कारोबार के अंतिम आधे घंटे में निवेशकों की मुनाफावसूली से बाजार में उतार-चढ़ाव आया.

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स मामूली 19.89 अंक यानी 0.03 प्रतिशत की गिरावट के साथ 75,390.50 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान चुनिंदा बैंकों, वित्तीय तथा आईटी शेयरों में लिवाली से यह 599.29 अंक उछलकर अबतक के उच्चतम स्तर 76,009.68 अंक तक चला गया था. हालांकि, निवेशकों ने रिकॉर्ड स्तर पर मुनाफावसूली की और सूचकांक दिन के उच्चतम स्तर से करीब 835 अंक लुढ़क गया तथा 75,175.27 अंक तक आ गया.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 24.65 अंक यानी 0.11 प्रतिशत की हल्की गिरावट के साथ 22,932.45 अंक पर बंद हुआ.
कारोबार के दौरान 50 शेयरों पर आधारित निफ्टी 153.7 अंक चढ़कर रिकॉर्ड 23,110.80 अंक पर पहुंच गया था. हालांकि, कारोबार समाप्त होने से पहले तेल, ऊर्जा और दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से यह करीब 240 अंक टूट गया.

सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर करीब एक प्रतिशत नीचे आया. इससे मानक सूचकांक नुकसान में आ गया. आईटीसी के शेयरों में बिकवाली से भी बाजार नुकसान में रहा. शेयर बाजार में लोकसभा चुनाव के नतीजे आने से पहले और वैश्विक बाजारों में तेजी से लगातार तीसरे दिन रिकॉर्ड तेजी रही. आम चुनाव के नतीजे चार जून को आएंगे.

इससे पहले, सेंसेक्स नौ अप्रैल को पहली बार ऐतिहासिक 75,000 अंक के स्तर के पार गया था. यह 31 कारोबारी सत्र में 1,000 अंक चढ़कर सोमवार को कारोबार के दौरान 76,000 अंक के स्तर पर पर पहुंचा. सेंसेक्स छह मार्च को 74,000 अंक पर पहुंचने के बाद 21 कारोबारी दिवस में नौ अप्रैल को 75,000 अंक के स्तर पर पहुंचा था. सेंसेक्स की कंपनियों में विप्रो, एनटीपीसी, सन फार्मा, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईटीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज नुकसान में रहीं. दूसरी तरफ इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी बैंक, लार्सन एंड टुब्रो तथा भारतीय स्टेट बैंक लाभ में रहने वाले शेयरों में शामिल हैं.

जियोजीत फाइनेंशियल र्सिवसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”तेजड़ियों को 23,000 के स्तर पर कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है. निवेशक चुनाव के नतीजे आने से पहले उथल-पुथल से बचने को उच्चस्तर पर मुनाफावसूली कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, ”कंपनियों की कमाई में वृद्धि बेहतर रहने, निजी पूंजीगत व्यय में गति आने की उम्मीद और विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली कम होने जैसे कारणों से बाजार पर सकारात्मक असर हो रहा है.” एचडीएफसी सिक्योरिटीज के खुदरा शोध प्रमुख दीपक जसानी ने कहा, ”रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में निफ्टी लगभग स्थिर रहा.” मझोली कंपनियों के शेयरों का सूचकांक बीएसई मिडकैप 0.63 प्रतिशत चढ़ा जबकि छोटी कंपनियों का सूचकांक स्मॉलकैप 0.09 प्रतिशत नीचे आया.

एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, जापान का निक्की, चीन का शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग बढ़त में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरुआती कारोबार में तेजी रही. अमेरिकी बाजार वॉल स्ट्रीट शुक्रवार को लाभ में रहा था. वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.38 प्रतिशत चढ़कर 82.44 डॉलर प्रति बैरल रहा. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को 944.83 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे.

Related Articles

Back to top button