सिख अलगाववादी पन्नू की हत्या की साजिश मामले में भारत के साथ ‘लगातार काम’ कर रहे हैं : अमेरिका

वाशिंगटन. अमेरिका के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि सिख अलगाववादी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने संबंधी आरोपों की जांच के लिए अमेरिका, भारत के साथ ”लगातार काम” कर रहा है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रधान उप प्रवक्ता वेदांत पटेल की यह टिप्पणी ऐसे वक्त आई है जब समाचार पत्र ‘वाशिंगटन पोस्ट’ ने अपनी एक खबर में अज्ञात सूत्रों के हवाले से कहा है कि पिछले वर्ष अमेरिकी धरती पर पन्नू को मारने की कथित साजिश में ‘रिसर्च एंड एनालिसिस विंग’ (रॉ) के एक अधिकारी शामिल थे.

भारत ने इन दावों को मंगलवार को सिरे से खारिज किया और कहा कि खबर में एक गंभीर मामले में ”अवांछित और निराधार” आरोप लगाए गए हैं और मामले की जांच जारी है. पटेल ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,” हम भारतीय जांच समिति की जांच के परिणामों के आधार पर भारत सरकार से जवाबदेही की उम्मीद करते हैं और हम लगातार उनके साथ काम कर रहे हैं….” वाशिंगटन पोस्ट की खबर के संबंध में पूछे जाने पर पटेल ने कहा,” हम भारत सरकार के समक्ष अपनी चिंताएं व्यक्त करते रहेंगे…..” विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जायसवाल ने मंगलवार को कहा, ”रिपोर्ट में एक गंभीर मामले में अवांछित और निराधार आरोप लगाए गए हैं.”

उन्होंने कहा कि कथित साजिश पर अमेरिका द्वारा दी गई जानकारी की पड़ताल करने के लिए भारत द्वारा गठित एक उच्चस्तरीय जांच समिति मामले में अब भी तफ्तीश कर रही है. उन्होंने कहा, ”भारत सरकार ने संगठित अपराधियों, आतंकवादियों तथा अन्य के नेटवर्क पर अमेरिकी सरकार द्वारा साझा की गईं सुरक्षा चिंताओं की जांच के लिए उच्च स्तरीय समिति गठित की है जिसकी जांच जारी है.”

जायसवाल ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ की खबर पर मीडिया के सवालों का जवाब दे रहे थे. उन्होंने कहा, ”इस पर काल्पनिक और गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणियों की जरूरत नहीं है.” ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ की खबर में रॉ के अधिकारी की पहचान विक्रम यादव के रूप में की गई है और आरोप लगाया गया है कि पन्नू को मारने की साजिश में वह शामिल थे.

पिछले साल नवंबर में अमेरिकी संघीय अभियोजकों ने भारतीय नागरिक निखिल गुप्ता पर अमेरिका में सिख अलगाववादी पन्नू की हत्या की नाकाम साजिश में भारत सरकार के एक आधिकारी के साथ मिलकर काम करने का आरोप लगाया था. भारत में आतंकवाद के आरोपों में वांछित पन्नू के पास अमेरिका और कनाडा की दोहरी नागरिकता है. उसे विधिविरुद्ध क्रियाकलाप (रोकथाम) अधिनियम के तहत केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आतंकवादी घोषित किया गया है. इससे कुछ महीने पहले कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने सितंबर में ब्रिटिश कोलंबिया में 18 जून को खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंटों की संलिप्तता का दावा किया था.

Related Articles

Back to top button