गहलोत की नई भूमिका को लेकर अटकलें, , पायलट ने कहा: सभी नेता आलाकमान के निर्देशों का पालन करेंगे

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए प्रमुख विकल्प के रूप में उभरने की अटकलों के बीच पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि पार्टी के सभी नेता आलाकमान के निर्देशों का पालन करेंगे. पायलट ने कहा, ‘‘राजनीति में जो दिखता है वह होता नहीं, इसलिए इंतजार कीजिए. सब सामने आएगा.’’

पायलट ने कांग्रेस के अध्­यक्ष पद के चुनाव और इस पद के लिए गहलोत के नाम को लेकर जारी अटकलों के बारे में पूछे जाने पर यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘किसी ने पहले भी कहा है कि राजनीति में जो दिखता है वो होता नहीं, जो होता है व दिखता नहीं, इसलिए इंतजार कीजिए. सारा चुनाव कार्यक्रम घोषित हो चुका है, बहुत जल्द प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी और जो है सब सामने आएगा.’’

उन्­होंने कहा, ‘‘लेकिन, मैं अपने लिए बोलूं या औरों के लिए बोलूं, पार्टी का जो भी निर्देश हुआ है आज तक हम सब ने पूरी लगन व ईमानदारी से उसकी पालना की है और कम से कम राजस्­थान के तमाम नेता इस बात को कई बार बोल चुके हैं कि जो भी पार्टी आलाकमान कहेगा, हम उसका पालन करेंगे.’’ उल्लेखनीय है कि गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अपने नाम की अटकलों को एक तरह से सिरे से खारिज करते हुए हाल ही में कहा था कि आखिरी मिनट तक राहुल गांधी को फिर से पार्टी की बागडोर संभालने हेतु मनाने के लिए प्रयास किए जाएंगे.

दो लोकसभा चुनाव में पार्टी की लगातार हार के बाद, राहुल गांधी ने 2019 के संसदीय चुनावों के बाद कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था. वहीं अंतरिम अध्यक्ष के रूप में फिर से पार्टी की बागडोर संभालने वाली सोनिया गांधी ने भी अगस्त 2020 में नेताओं के एक वर्ग (ज­सिे जी-23 कहा जाता है) द्वारा खुलकर बगावत क­एि जाने के बाद पद छोड़ने की पेशकश की थी. हालांकि, पार्टी की केंद्रीय कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) ने उनसे पद पर बने रहने का आग्रह किया था. कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव 17 अक्टूबर को होना है और परिणाम 19 अक्टूबर को घोषित किया जाएगा.

पायलट ने राजस्­थान के विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों के हालिया छात्र संघ चुनाव में कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई के प्रत्याशियों के खराब प्रदर्शन पर कहा, ‘‘इन परिणामों पर पार्टी व एनएसयूआई को ंिचता करनी चाहिए कि ऐसे परिणाम क्यों आए. युवा देश के भविष्य की उम्मीद हैं और उन युवाओं की सोच से हमें काम करना चाहिए, सरकार को भी और संगठन को भी.’’ पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अपने अध्यक्ष का चुनाव करने के लिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया का पालन करती है. उन्­होंने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह बताए कि उसका अध्यक्ष कैसे चुना जाता है और मतदाता कौन हैं.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘कांग्रेस में खुले माहौल में चुनाव प्रक्रिया कराने का इतिहास रहा है, उसे हम बनाए हुए हैं. बाकी क­सिी भी राजनीतिक दल में, खासकर भारतीय जनता पार्टी में जो खुद को दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बोलती है, वहां मैं पूछना चाहता हूं कि नियुक्ति होती कैसे हैं, अध्­यक्ष को कौन चुनता है, कौन नामांकन भरता है?’’ पायलट ने कहा, ‘‘आज तक मैंने देखा नहीं कि वहां कोई पर्चा दाखिल कर उम्मीदवारी कर रहा हो…कांग्रेस में हो रहा है और अक्­टूबर में स्पष्ट हो जाएगा कि कौन पार्टी का अध्­यक्ष होगा.’’

महंगाई को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए पायलट ने कहा, ‘‘महंगाई इतनी बढ़ गई है जिसकी कोई सीमा नहीं है. केंद्र सरकार ने अब तक एक झूठा आश्वासन देना भी ठीक नहीं समझा कि हम महंगाई को काबू करेंगे. लोकसभा के सत्र में भी सरकार की ओर से इस बार में कोई आश्वासन नहीं दिया गया.’’ केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आगामी जोधपुर दौरे का जिक्र करते हुए पायलट ने उम्­मीद जताई कि शाह वहां पूर्वी राजस्­थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) को राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा देने के बारे में घोषणा करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button