शेयर बाजार ने लगातार चौथे दिन बनाया नया रिकॉर्ड, सेंसेक्स पहली बार 81,000 अंक के पार

मुंबई. शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी का सिलसिला बृहस्पतिवार को लगातार चौथे कारोबारी सत्र में भी जारी रहा और बीएसई सेंसेक्स 627 अंक उछलकर पहली बार 81,000 अंक के ऊपर बंद हुआ. निफ्टी भी 24,800 अंक के नये शिखर पर पहुंच गया. आईटी, तेल एवं गैस तथा दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में लिवाली से बाजार में तेजी रही. तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 626.91 अंक यानी 0.78 प्रतिशत की तेजी के साथ नई ऊंचाई 81,343.46 अंक पर बंद हुआ. बाजार में शुरुआत कमजोर रही और एक समय यह 80,390.37 अंक के निचले स्तर तक आ गया था.

हालांकि, टीसीएस, इन्फोसिस और टेक महिंद्रा जैसे आईटी शेयरों तथा सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज में लिवाली से सूचकांक दोपहर के कारोबार में नुकसान से उबर गया. एक समय यह 806 अंक यानी 0.99 प्रतिशत की बढ़त के साथ नये रिकॉर्ड स्तर 81,522.55 अंक तक चला गया था. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती नुकसान से उबरते हुए 187.85 अंक यानी 0.76 प्रतिशत चढ़कर 24,800.85 के नये शिखर पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 224.75 अंक चढ़कर रिकॉर्ड 24,837.75 अंक तक चला गया था.

जियोजीत फाइनेंशियल र्सिवसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”आईटी कंपनियों के शेयरों में लिवाली के साथ प्रमुख कंपनियों के शेयरों में मजबूती से दोपहर के कारोबार में बाजार में तेजी आई और यह नई ऊंचाई पर पहुंच गया. देश की प्रमुख आईटी कंपनियों के जून तिमाही में अच्छे वित्तीय प्रदर्शन और रुपये की विनिमय दर में गिरावट से क्षेत्र को लेकर निवेशक उत्साहित हैं.” विश्लेषकों के अनुसार, सितंबर में अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा नीतिगत दर में कटौती की उम्मीद से अमेरिकी बॉन्ड प्रतिफल के नरम होने से भी भारतीय बाजार में एफआईआई का प्रवाह बढ़ा है. सेंसेक्स के शेयरों में टाटा कंसल्टेंसी र्सिवसेज सबसे ज्यादा 3.33 प्रतिशत वढ़ा.

इन्फोसिस का शेयर वित्तीय परिणाम आने से पहले 1.93 प्रतिशत मजबूत हुआ. बाजार बंद होने के बाद इन्फोसिस ने वित्तीय नतीजे जारी किए. कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ अप्रैल-जून तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 6,368 करोड़ रुपये रहा. इन्फोसिस ने चालू वित्त वर्ष के लिए वृद्धि परिदृश्य को भी बढ़ाया है. लाभ में रहने वाले अन्य शेयरों में बजाज फिनसर्व, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टेक महिंद्रा, हिंदुस्तान यूनिलीवर, भारतीय स्टेट बैंक और एचसीएल टेक्नोलॉजीज शामिल हैं.

इसके उलट एशियन पेंट्स, जेएसडब्ल्यू स्टील, एनटीपीसी और अदाणी पोर्ट्स प्रमुख रूप से नुकसान में रहे. हालांकि, मझोली और छोटी कंपनियों के शेयरों से जुड़े सूचकांक नुकसान में रहे. बीएसई स्मॉलकैप 1.15 प्रतिशत नीचे आया जबकि मिडकैप 0.99 प्रतिशत टूटा. एशिया के अन्य बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में जबकि दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान का निक्की नुकसान में रहे. यूरोप के प्रमुख बाजारों में दिन में कारोबार के दौरान तेजी का रुख रहा.

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.14 प्रतिशत की गिरावट के साथ 84.96 डॉलर प्रति बैरल रहा. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने मंगलवार को 1,271.45 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे. शेयर बाजार ‘मोहर्रम’ के मौके पर बुधवार को बंद था. बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी में शुक्रवार से ही रिकॉर्ड तेजी जारी है. चार सत्रों में दोनों मानक सूचकांक अबतक के उच्चतम स्तर तक गये. इस दौरान निफ्टी 485 अंक यानी 1.98 प्रतिशत जबकि सेंसेक्स 1,446 अंक यानी 1.79 प्रतिशत चढ़ा है.

Related Articles

Back to top button