छत्तीसगढ़ : तीन लोकसभा क्षेत्रों में 167 मतदान दलों को ले जाने के लिए होगी हेलीकॉप्टर की व्यवस्था

रायपुर. छत्तीसगढ़ में निर्वाचन आयोग ने नक्सली खतरे और भौगोलिक स्थिति को देखते हुए तीन लोकसभा क्षेत्रों के 167 मतदान केंद्रों में मतदान दलों को लाने-ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर का उपयोग करने की योजना बनाई है. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. राज्य की 11 लोकसभा सीटों के लिए तीन चरणों में 19 अप्रैल, 26 अप्रैल और सात मई को चुनाव होंगे और वोटों की गिनती चार जून को होगी.

नक्सल प्रभावित बस्तर (एसटी) लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में पहले चरण में 19 अप्रैल को मतदान होगा. जबकि तीन अन्य निर्वाचन क्षेत्रों महासमुंद, राजनांदगांव और कांकेर (एसटी) में 26 अप्रैल को मतदान होगा. राज्य की सात लोकसभा सीटों – रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर, रायगढ़ (एसटी), कोरबा, जांजगीर-चांपा (एससी) और सरगुजा (एसटी) में सात मई को अंतिम चरण में मतदान होगा.

राज्य के उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी शैलाभ साहू ने बताया, ”हमने पहले दो चरणों में 167 बूथों पर कुल 1,003 मतदान कर्मचारियों को हवाई मार्ग से लाने का फैसला किया है.” साहू ने बताया कि इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग से 10 हेलिकॉप्टर मांगे गए हैं. उन्होंने कहा कि योजना के अनुसार बस्तर लोकसभा क्षेत्र के 156 मतदान केंद्रों पर 919 मतदान र्किमयों को हेलीकॉप्टर के माध्यम से भेजा जाएगा तथा कांकेर लोकसभा क्षेत्र के नौ बूथों और महासमुंद लोकसभा के गरियाबंद क्षेत्र के दो मतदान केंद्रों पर 84 र्किमयों को भेजा जाएगा.

साहू ने बताया कि नक्सली खतरे और कुछ स्थानों की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल करने का फैसला किया गया है. राज्य में पिछले वर्ष हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय वायु सेना ने छह दिनों के लिए आठ एमआई-17 हेलिकॉप्टर के साथ 404 उड़ानें भरी थीं, जिससे बस्तर संभाग के पांच जिलों सुकमा, बीजापुर, कांकेर, दंतेवाड़ा और नारायणपुर में 853 मतदान दल के सदस्यों की तैनाती और निकासी की सुविधा मिली.

Back to top button