राउज एवेन्‍यू कोर्ट में ED की दलील- मुख्यमंत्री केजरीवाल शराब घोटाले का सरगना…

नई दिल्‍ली: प्रवर्तन निदेशालय (ED) की याचिका पर राउज एवेन्‍यू कोर्ट में सुनवाई हुई. ED ने जज से दिल्‍ली शराब घोटाला से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सीएम अरविंद केजरीवाल की 10 दिन की रिमांड मांगी है, ताकि इस हाईप्रोफाइल मामले में उनसे गहनता से पूछताछ की जा सके. ईडी की ओर से कोर्ट में दलील पेश कर रहे ASG राजू ने कहा कि PMLA के विभिन्न प्रावधानों का पालन किया गया.

केजरीवाल को लिखित में वजह बताई गई है. गिरफ्तारी के आधार के बारे में उन्‍हें जानकारी दी गई है और उनके घरवालों को भी सूचित किया गया है. ASG राजू ने कहा कि केजरवाल को दिल्ली में 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया, हम केजरीवाल की 10 दिन हिरासत की मांग कर रहे हैं.

उन्‍होंने बताया कि गिरफ्तारी के 24 घंटे के अंदर केजरीवाल को कोर्ट के सामने पेश किया गया. ईडी की ओर से पेश एएसजी एसवी राजू ने अपनी दलील में कहा कि शराब कारोबारियों से घूस मंगाने के मामले में दिल्ली के मुखमंत्री किंगपिन और मुख्य षड्यंत्रकारी हैं.

ईडी का पक्ष

ASG राजू ने कहा कि मनीष सिसोदिया ने भी मामले में मुख्य भूमिका निभाई. सिसोदिया की जमानत सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था. केजरीवाल ने इस भ्रष्टाचार का षड्यंत्र रचा. उन्‍होंने आगे बताया कि घूस (किकबैक) में मिले पैसे का इस्‍तेमाल गोवा चुनाव में हुआ. ED की ओर से दलील दी गई कि मनीष सिसोदिया ने विजय नायर को केजरीवाल के घर बुलाया और शराब नीति से जुड़े दस्तावेज दिए. केजरीवाल आबकारी नीति तैयार करने में सीधे शामिल थे. विजय नायर उनके लिए काम कर रहा था. ASG राजू ने कहा कि विजय नायर केजरीवाल और के. कविता के लिए काम कर रहा था. साउथ ग्रुप में मिडल मैन की भूमिका में था.

Related Articles

Back to top button