हैदराबाद के समीप भारतीय वायुसेना का प्रशिक्षु विमान दुर्घटनाग्रस्त, दो पायलट की मौत

नयी दिल्ली. हैदराबाद के समीप सोमवार सुबह भारतीय वायुसेना का एक प्रशिक्षु विमान दुर्घटनाग्रस्त होने से उसमें सवार दो पायलट की मौत हो गयी. स्विट्जरलैंड में डिजाइन और निर्मित प्रशिक्षण विमान पिलाटस पीसी-7 एमके द्वितीय से जुड़ी यह पहली ऐसी दुर्घटना है. भारतीय वायुसेना ने दुर्घटना की वजह का पता लगाने के लिए ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ के आदेश दिए हैं.

वायुसेना ने एक बयान में कहा, ”हैदराबाद स्थित वायुसेना अकादमी से नियमित प्रशिक्षु उड़ान के दौरान एक पिलाटस पीसी-7 एमके द्वितीय प्रशिक्षु विमान आज सुबह दुर्घटनाग्रस्त हो गया.” बयान में कहा गया, ”भारतीय वायुसेना अत्यंत खेद के साथ यह पुष्टि करती है कि विमान में सवार दोनों पायलट को जानलेवा चोटें आयीं. आम लोगों की जान या संपत्ति को कोई नुकसान नहीं हुआ.”

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों पायलट की मौत पर शोक व्यक्त किया. सिंह ने ‘एक्स’ पर कहा, ”हैदराबाद के पास हुए इस हादसे से दुखी हूं. यह बेहद दुखद है कि दोनों पायलटों की जान चली गई. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोकसंतप्त परिवारों के साथ हैं.” पिलाटस पीसी-7 एमके द्वितीय एक प्रशिक्षण विमान है जिसे पिलाटस एयरक्राफ्ट द्वारा स्विट्जरलैंड में डिजाइन और निर्मित किया गया है. विमान एरोबेटिक्स, उपकरण, सामरिक और रात्रि उड़ान सहित सभी बुनियादी प्रशिक्षण देने में सक्षम है.

मई 2012 में, भारत ने वायुसेना के लिए 75 पिलाटस पीसी-7 एमके द्वितीय विमान खरीदने का सौदा किया था. भारतीय वायुसेना के पायलट पिलाटस पीसी-7 एमके द्वितीय विमानों और किरण एमके-1/1ए विमान पर बुनियादी प्रशिक्षण लेते हैं. वायुसेना अब स्वदेशी तौर पर विकसित प्रशिक्षण विमान खरीद रही है. मार्च में, रक्षा मंत्रालय ने भारतीय वायुसेना के लिए 6,800 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से 70 एचटीटी-40 बेसिक ट्रेनर विमान खरीदने के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के साथ एक समझौता किया.

एचटीटी-40 में लगभग 56 प्रतिशत स्वदेशी सामग्री है, जो प्रमुख घटकों और उप-प्रणालियों के स्वदेशीकरण के माध्यम से धीरे-धीरे 60 प्रतिशत से अधिक हो जाएगी. उम्मीद है कि यह विमान नव-नियुक्त पायलट को प्रशिक्षण देने के लिए भारतीय वायुसेना के बुनियादी प्रशिक्षक विमानों की कमी को पूरा करेगा. जून में, भारतीय वायुसेना का एक किरण प्रशिक्षण विमान कर्नाटक के चामराजनगर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, लेकिन दुर्घटना से पहले दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकल आए.

Related Articles

Back to top button