चेपॉक मैदान के खेल क्षेत्र में जार्वो के घुसपैठ से सुरक्षा पर उठा सवाल

चेन्नई. सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर और मैचों के दौरान क्रिकेट मैदान पर घुसपैठ के लिए जाने जाने वाले डेनियल जार्विस उर्फ जार्वो रविवार को यहां भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच शुरू होने से पहले चेपॉक मैदान में एक बार फिर से घुसपैठ करने में सफल रहा.
जार्वो भारतीय टीम की जर्सी पहनकर मैदान में घुसने में सफल रहा लेकिन खिलाड़ियों तक पहुंचने से पहले ही यहां एमए चिदंबरम स्टेडियम में सुरक्षा अधिकारियों ने उसे पकड़ लिया.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने जार्वो को टूर्नामेंट में आगे के मैचों में भाग लेने से प्रतिबंधित कर दिया. इस मामले में हालांकि बड़ा सवाल यह है कि वह विशेष लोगों के लिए आरक्षित जगह पर कैसे पहुंचा. उसने कई सुरक्षा घेरा तोड़कर ‘खेल के मैदान (एफओपी)’ में कैसे प्रवेश किया.

आईसीसी के प्रवक्ता ने पीटीआई से कहा, ”संबंधित व्यक्ति को इस आयोजन में किसी भी अन्य मैच में भाग लेने से प्रतिबंधित कर दिया गया है. यह मामला अब भारतीय अधिकारियों के हाथ में है.” यह चौथी बार है ब्रिटेन के इस व्यक्ति ने भारतीय टीम के मैच में घुसपैठ की है. वह इससे पहले भारत के इंग्लैंड दौरे पर तीन टेस्ट मैचों के दौरान मैदान में घुसपैठ करने में सफल रहा था.

रविवार की घटना के बाद आईसीसी के साथ-साथ बीसीसीआई को भी र्शिमंदगी उठानी पड़ी होगी क्योंकि जब भारतीय टीम मार्च पास्ट के लिए लाइन में खड़ी थी तो भारत की जर्सी पहने जार्वो बड़े आराम से आयोजन स्थल में दाखिल हुआ और टीम के सबसे बड़े स्टार विराट कोहली के करीब जाने की कोशिश करने लगा.

आईसीसी प्रवक्ता ने कहा, ” आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप 2023 में शामिल सभी लोगों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है. हम यह समझने के लिए आयोजन स्थल के साथ काम करेंगे कि यह कैसे हुआ. हम देखेंगे कि क्या ऐसी घटना को दोबारा होने से रोकने के लिए अतिरिक्त सुरक्षा उपाय की जरूरत है.” भारतीय समर्थक टिकट खरीदने के लिए पूरी कोशिश कर रहे है तो वही जार्वो जैसे व्यक्ति के मैदान में पहुंचने से बीसीसीआई और टीएनसीए दोनों को र्शिमंदा होना पड़ा.

Related Articles

Back to top button