गुजरात में विपक्ष के लिए सीमित स्थान, भाजपा की स्थिति मजबूत: मुख्यमंत्री

गांधीनगर. गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने दावा किया है कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की स्थिति मजबूत है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता एवं नीतियों ने राज्य में विपक्ष के स्थान को संकुचित कर दिया है तथा ऐसी सीमित जगह में कुछ लोग आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बजाय आम आदमी पार्टी (आप) को चुन सकते हैं।

पटेल ने कहा कि राज्य की वित्तीय स्थिति अच्छी है और ‘आप’ की नि:शुल्क सेवाएं देने की संस्कृति राज्य एवं समाज के लिए दीर्घकाल में लाभकारी नहीं हैं। पटेल ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य में भाजपा की स्थिति मजबूत है और वह लोगों के लगातार संपर्क में है।

गुजरात विधानसभा चुनाव में ‘आप’ की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर पटेल ने कहा, ‘‘देखिए, लोकतंत्र में हर राजनीतिक दल को चुनाव लड़ने का अधिकार है, लेकिन कृपया समझिए कि भाजपा लगातार उसी तीव्रता के साथ काम कर रही है, लोगों से जुड़ रही है और उनके साथ रह रही है।’’

पटेल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बढ़ती लोकप्रियता और उनकी जन समर्थक नीतियों के कारण भाजपा गुजरात में मजबूत स्थिति में है और विपक्ष की जगह सिकुड़ रही है, इसलिए ऐसे में कुछ लोग कांग्रेस के बजाय ‘आप’ को चुन सकते हैं।’’ उन्होंने स्थानीय चुनावों में भाजपा के प्रदर्शन का हवाला देते हुए कहा कि इस बार पार्टी को गांधीनगर नगर निगम में भी लंबे समय के बाद स्पष्ट बहुमत मिला है।

विभिन्न चुनावों में ‘आप’ द्वारा नि:शुल्क सेवाएं देने के वादों संबंधी सवाल के जवाब में पटेल ने कहा कि यह राज्य की अर्थव्यवस्था और समाज के लिए दीर्घकाल में उचित नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यह ‘आप’ की जिम्मेदारी है कि एक राजनीतिक दल होने के नाते वह इस प्रकार की चीजें करने से बचे। जहां तक गुजरात की बात है, हमारा राजकोषीय घाटा 1.6 प्रतिशत है और हम राज्य के समग्र विकास पर ध्यान केंद्रित करते हैं।’’

यह कहे जाने पर कि पटेल आज उसी पद पर हैं, जिस पर किसी समय मोदी थे, तो मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी केवल एक ही हैं और उनका कोई सानी नहीं है। पटेल ने कहा, ‘‘कृपया एक बात समझिए, हमें नरेंद्र भाई के किए गए अच्छे कार्यों को उनके मार्गदर्शन एवं नेतृत्व में आगे लेकर जाना है, लेकिन नरेंद्र मोदी केवल एक हैं और पूरी दुनिया में उनका कोई सानी नहीं है।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या इस बार कुछ वरिष्ठ विधायकों को टिकट नहीं दिए जाने की संभावना है, उन्होंने कहा, ‘‘देखिए, भाजपा में चुनाव लड़ने के लिए किसी का टिकट पक्का नहीं होता, मुख्यमंत्री का भी नहीं। हर कोई पहले पार्टी कार्यकर्ता है और उसे संगठन एवं समाज के लिए काम करना होगा।’’

गुजरात में इस साल दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने हैं। पटेल को पिछले साल सितंबर में तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के स्थान पर मुख्यमंत्री बनाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

This will close in 10 seconds