सिंगापुर की ‘कार-लाइट’ नीति से कार मालिकों की संख्या घटकर एक तिहाई हुई

सिंगापुर. सिंगापुर के एक वरिष्ठ मंत्री ने सोमवार को कहा कि उनके देश में कार मालिकों की संख्या घटकर कुल परिवारों का करीब एक तिहाई रह गई है जबकि यह संख्या 2013 में 40 फीसदी थी. मंत्री ने कहा कि सरकार देश को ‘कार-लाइट समाज’ बनाने की दिशा में बढ़ रही है. सिंगापुर ने ‘कार-लाइट’ की नीति अपनाई है जिसके तहत निजी वाहनों की जगह सार्वजनिक वाहनों के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाता है.

‘द स्ट्रेट्स टाइम्स’ अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, सरकार का लक्ष्य एमआरटी (मास रैपिड ट्रांजिट) नेटवर्क के विस्तार के माध्यम से 2030 तक व्यस्त अवधि (पीक पीरियड) के दौरान 75 प्रतिशत यात्राओं को सार्वजनिक परिवहन के जरिये संपन्न कराना है, जो अभी 64 प्रतिशत से थोड़ा अधिक है.

कार्यवाहक परिवहन मंत्री ची होंग टैट ने संसद को बताया कि सिंगापुर में वाहनों की संख्या का बढ़ना ‘उचित नहीं’ है, फिलहाल वाहनों की संख्या करीब 10 लाख है जिसमें 6,50,000 से अधिक कार शामिल हैं. सिंगापुर की जनसंख्या 59.2 लाख है जबकि इसका क्षेत्रफल 710 वर्ग किलोमीटर है. चीन ने कहा कि एक तिहाई सिंगापुरी परिवारों और स्थायी प्रवासियों के पास कार हैं. वर्ष 2013 में कार स्वामियों की यह संख्या 40 फीसदी थी जो अपेक्षाकृत अधिक है.

मंत्री ने वाहनों की संख्या में ‘शून्य बढ़ोतरी’ की नीति की बात भी दोहराई ताकि कम क्षेत्रफल वाले इस देश में यातायात जाम का प्रबंधन किया जा सके. उन्होंने जोर देकर कहा कि सिंगापुर की कुल भूमि के लगभग 12 प्रतिशत हिस्से पर सड़कें बनी हैं, जबकि सिंगापुर के कुल घरेलू कार्बन उत्सर्जन में भू परिवहन प्रणाली का हिस्सा लगभग 15 प्रतिशत है. सरकार सार्वजनिक परिवहन पर सालाना दो अरब सिंगापुर डॉलर (एसजीडी) से अधिक मूल्य की सब्सिडी प्रदान करती है, जो प्रति यात्रा एक एसजीडी से अधिक के बराबर है.

Related Articles

Back to top button