मेरी सभी फिल्मों के लिए अमिताभ बच्चन सबसे बड़े प्रेरणास्रोत रहे हैं : प्रशांत नील

मुंबई. ‘केजीएफ’ फिल्म के निर्देशक प्रशांत नील का कहना है कि महानायक अमिताभ बच्चन जिस खूबी के साथ पेचीदा और लीक से हटकर भूमिकाएं निभाते हैं, उस तरह से कोई भी कलाकार नहीं कर सकता. प्रशांत नील का मानना है कि उनकी फिल्मों के सभी प्रमुख पात्र अमिताभ बच्चन के नायक-विरोधी व्यक्तित्व का थोड़ा सा अंश होते हैं और वे इससे प्रेरित होते हैं.

प्रशांत ने 2018 में ‘केजीएफ : चैप्टर 1’ का निर्देशन किया था, जिसे दर्शकों और आलोचकों द्वारा काफी सराहा गया था जबकि फिल्म का दूसरा संस्करण ‘केजीएफ : चैप्टर 2’ 2022 में रिलीज हुई थी. प्रशांत इस समय 22 दिसंबर को रिलीज होने वाली अपनी आगामी फिल्म ‘सालार पार्ट 1: सीजफायर’ का प्रचार कर रहे हैं.

लेखक-निर्देशक प्रशांत नील ने पीटीआई-भाषा को दिए एक विशेष साक्षात्कार में कहा, ” मेरी सभी फिल्मों के लिए अमिताभ बच्चन सबसे बड़ी प्रेरणा हैं. ऐसी बहुत सी फिल्में हैं जिनमें उन्होंने नायक की भूमिका निभाई लेकिन साथ ही वह खलनायक के किरदार में भी थे. अभिनय की यह एक ऐसी शैली है जिसे उस अवधि के बाद बहुत कम देखा गया. जिस तरह से वह पेचीदा किरदार को लीक से हटकर निभाते हैं, उसका कोई मुकाबला नहीं है.”

उन्होंने कहा, ”अमिताभ बच्चन ने फिल्मों में जिस तरह से खलनायक का किरदार निभाया, दर्शकों को उस किरदार से प्यार हो गया. इसलिए, मैं अपनी फिल्मों के साथ ऐसा करने की कोशिश करता हूं… मैं अपने किरदारों को यथासंभव नकारात्मक, यहां तक कि सकारात्मक दिखाने की कोशिश करता हूं. मैं कोशिश करता हूं कि नायक को मेरी फिल्म का सबसे बड़ा खलनायक होना चाहिए.” प्रशांत ने कहा कि अमिताभ की उनकी सर्वकालिक पसंदीदा फिल्म 1990 की हिट ‘अग्निपथ’ है. निर्देशक का कहना है कि उनका सपना महानायक को एक फिल्म में निर्देशित करना है.

प्रशांत ने कहा, ” मरने से पहले मैं अमिताभ बच्चन के साथ एक फिल्म करना चाहता हूं. 1970, 1980 और 1990 के दशक के सिनेमा का छात्र होने के नाते, मैं उनके अलावा किसी और के बारे में नहीं सोच सकता. अमिताभ बच्चन के लिए फिल्म बनाना मेरा सबसे बड़ा सपना है. मुझे उन्हें अपनी फिल्म का सबसे बड़ा खलनायक बनाना है. मैं इसे दूसरे तरीके से नहीं बनाऊंगा. अगर वह कुछ करने को राजी हो जाएं तो यह मेरे जीवन का सबसे बड़ा सम्मान होगा. ”

Back to top button