एफसीआई प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करे, परिचालन लागत घटाए, ‘भ्रष्टाचार-मुक्त’ बने : गोयल

नयी दिल्ली. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) से अपने समग्र कामकाज में आधुनिक प्रौद्योगिकियों को अपनाने, परिचालन की लागत को कम करने और सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत किसानों और गरीब लाभार्थियों का भरोसा जीतने के लिए कहा.

खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री गोयल ने एफसीआई और उसके कर्मचारियों से किसी भी गलत काम को रोकने और अपने परिचालन में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं करने को भी कहा. वह खाद्यान्न की खरीद और वितरण के लिए सरकार की नोडल एजेंसी एफसीआई के 60वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. एफसीआई की स्थापना 14 जनवरी, 1965 को हुई थी.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गोयल ने किसानों को उनकी उपज के लिए उचित मूल्य सुनिश्चित करने और 81 करोड़ लोगों को खाद्यान्न उपलब्ध करान के लिए एफसीआई की सराहना की. उन्होंने एफसीआई और उसके कर्मचारियों को तीन प्राथमिकताओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, ”सबसे पहले हमें अपने किसानों के साथ-साथ लाभार्थियों (गरीब और निम्न-मध्यम आय वालों) का विश्वास जीतना चाहिए. लोगों का विश्वास जीतना हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए और हमें संवेदनशीलता और ईमानदारी से उन तक पहुंच बनानी चाहिए.” उन्होंने खाद्यान्नों की खरीद, भंडारण और वितरण को पूरी ईमानदारी के साथ पारदर्शी तरीके से करने पर जोर दिया.

दूसरी बात, गोयल ने कहा, ”हमें परिचालन दक्षता में सुधार के लिए प्रौद्योगिकी और डिजिटलीकरण को अपनाना चाहिए.” मंत्री ने तीसरी चीज का जिक्र करते हुए कहा, ”हम जो राशि खर्च कर रहे हैं, हम खर्च को कैसे नियंत्रित कर सकते हैं और कैसे इसे कम कर सकते हैं.”

Related Articles

Back to top button