मालदीव से ‘विदेशी’ सैन्य टुकड़ी को जल्द वापस भेजा जाएगा : राष्ट्रपति मुइज्जू

माले. मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने बुधवार को कहा कि मालदीव अपनी रक्षा क्षमताओं को बढ़ाकर जल्द ही उस बिंदु पर पहुंच जाएगा जहां किसी ”विदेशी” सैन्य टुकड़ी की उपस्थिति नहीं होगी. उन्होंने कुछ सप्ताह पहले भारत से मांग की थी कि वह मालदीव से अपने सैनिकों को वापस बुला ले.

भारत विरोधी रुख अपनाकर सत्ता में आए मुइज्जू ने एक दिन पहले घोषणा की थी कि मालदीव पानी के भीतर सर्वेक्षण करने के लिए देश की क्षमताओं को बढ़ाने के अलावा समुद्री, हवाई और स्थलीय क्षेत्रों सहित अपने सभी क्षेत्रों पर स्वायत्त नियंत्रण बनाए रखेगा.
चीन समर्थक नेता के रूप में देखे जा रहे मुइज्जू ने राष्ट्रपति के रूप में अपने पहले संबोधन में कहा था कि भारतीय सैन्य र्किमयों के पहले समूह को 10 मार्च से पहले मालदीव से वापस भेज दिया जाएगा और शेष दो विमानन प्लेटफॉर्म पर तैनात सैन्य र्किमयों की 10 मई से पहले वापसी हो जाएगी.

वर्तमान में, 88 भारतीय सैन्यकर्मी मुख्य रूप से दो हेलीकॉप्टर और एक विमान संचालित करने के लिए मालदीव में हैं, जिन्होंने सैकड़ों चिकित्सा निकासी और मानवीय मिशन को अंजाम दिया है. भारतीय प्लेटफॉर्म पिछले कुछ वर्षों से मालदीव के लोगों को मानवीय और चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराते रहे हैं.

न्यूज पोर्टल ‘सनडॉटएमवी’ के अनुसार, बुधवार को ‘रईस गे जावाबू’ मंच पर मुइज्जू से विदेशी सैनिकों को बाहर निकालने के लिए प्रयासों के बारे में पूछा गया. इस मंच के तहत जनता अपने प्रतिनिधियों से सीधे सवाल पूछ सकती है. मुइज्जू ने कहा, ”मैं लोगों को आश्वस्त करता हूं कि मालदीव को उस बिंदु पर ले जाया जाएगा, जहां देश में कोई विदेशी सैन्य टुकड़ी नहीं होगी.”

यह उल्लेख करते हुए कि मालदीव में स्थित भारतीय सैन्य टुकड़ी को बाहर निकालने के लिए आवश्यक सभी प्रयास आधिकारिक तौर पर उनके पदभार ग्रहण करने के दिन (17 नवंबर, 2023) से शुरू हो गए थे, मुइज्जू ने कहा कि इस संदर्भ में चर्चा, कूटनीतिक सिद्धांतों के अनुसार तेज गति से आगे बढ़ रही है.

न्यूज पोर्टल ने मुइज्जू के हवाले से कहा, ”उम्मीद है कि एक विमानन प्लेटफॉर्म पर तैनात सैन्य र्किमयों को 10 मार्च तक और शेष प्लेटफॉर्म पर तैनात सैन्यर्किमयों की मई में वापसी हो जाएगी.” उन्होंने कहा कि मौजूदा प्रयास मालदीव के लोगों की क्षमताओं को बढ़ाने से संबंधित हैं. मुइज्जू ने कहा कि मालदीव के लोगों के लिए आपातकालीन चिकित्सा निकासी और देश के विशेष आर्थिक क्षेत्र की निगरानी की व्यवस्था करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

मुइज्जू ने सितंबर 2023 के चुनावी मुकाबले में विदेशी सैनिकों को वापस भेजने के वादे के साथ जीत हासिल की थी. मालदीव सरकार ने बताया है कि भारत सरकार द्वारा दिए गए हेलीकॉप्टर और डोर्नियर विमानों के संचालन और रखरखाव के लिए मालदीव में 88 भारतीय सैन्यकर्मी हैं. यहां की वर्तमान सरकार पिछले प्रशासन द्वारा भारत के साथ हस्ताक्षरित 100 से अधिक द्विपक्षीय समझौतों की भी समीक्षा कर रही है.

Related Articles

Back to top button