भारत व्यापार, निवेश समझौतों पर खुले विचार से बातचीत करता है: गोयल

नयी दिल्ली. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा कि भारत व्यापार तथा निवेश समझौतों पर निष्पक्षता और खुले विचार से बातचीत करता है. साथ ही लोगों के हितों को ध्यान में रखता है. उन्होंने कहा कि जो देश भारत के साथ मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) और निवेश समझौते पर बातचीत कर रहे हैं, उन्हें यह ध्यान में रखना चाहिए कि भारत उन्हें मांग तथा व्यापार अवसरों के मामले में बड़ा बाजार प्रदान करता है.

‘सीआईआई इंडिया-यूरोप कॉन्क्लेव’ में उन्होंने कहा, ” मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि भारत निष्पक्षता के साथ, खुले विचार से बातचीत करता है… भारत अपने दीर्घकालिक व्यापक हित का भी ख्याल रखता है.” उन्होंने कहा कि एफटीए या द्विपक्षीय निवेश संधियां (बीआईटी) या भौगोलिक संकेतों पर समझौतों को निष्पक्ष, न्यायसंगत और संतुलन समझौतों की कसौटी पर खरा उतरना होगा क्योंकि आर्थिक वृद्धि का स्तर अलग-अलग होता है.

गोयल ने कहा, ”हमें अन्य देशों की पेशकश की तुलना में भारत द्वारा पेश किए गए बहुत अलग अवसरों का सम्मान करना होगा.” उन्होंने कहा कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ.ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है. मंत्री ने कहा कि युवा आबादी, वस्तुओं व सेवाओं की मांग दुनिया भर में व्यवसायों के लिए बड़े अवसर उत्पन्न करती है. ये टिप्पणियां महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ब्रिटेन, ओमान और यूरोपीय संघ जैसे देशों के साथ भारत ऐसे समझौतों पर बातचीत कर रहा है.

Related Articles

Back to top button