रोहित और गिल के शतकों से भारत की स्थिति मजबूत

धर्मशाला. कप्तान रोहित शर्मा और शुभमन गिल के शतकों की मदद से भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन शुक्रवार को आखिरी सत्र में विकेट जल्दी गिरने के बावजूद अपनी स्थिति मजबूत करते हुए आठ विकेट पर 473 रन बना लिये .

भारत ने आखिरी सत्र में 97 रन के भीतर पांच विकेट गंवाये . इससे पहले रोहित (162 गेंद में 103 रन) और गिल (150 गेंद में 110 रन) ने दूसरे विकेट के लिये 244 गेंद में 171 रन जोड़े . पहला टेस्ट खेल रहे देवदत्त पड्डिकल ने 103 गेंद में 65 रन बनाये जबकि सरफराज खान ने 60 गेंद में 56 रन बनाने के बाद चाय के बाद पहली ही गेंद पर अपना विकेट गंवा दिया . भारत ने एक विकेट पर 135 रन से आगे खेलते हुए दूसरे दिन के आखिर में 255 रन की बढत बना ली .

इंग्लैंड के लिये आफ स्पिनर शोएब बशीर ने 44 ओवर में 170 रन देकर चार विकेट लिये जबकि बायें हाथ के स्पिनर टॉम हार्टली ने 39 ओवर में 126 रन देकर दो विकेट लिये . चाय ब्रेक के समय भारत का स्कोर तीन विकेट पर 376 रन था लेकिन आखिरी सत्र में इंग्लैंड ने अच्छी गेंदबाजी की तो भारतीयों ने अपने विकेट गैर जिम्मेदाराना तरीके से गंवाये . बशीर की गेंद पर सरफराज ने पहली स्लिप में जो रूट को कैच थमाया . वहीं पड्डिकल को बशीर ने बोल्ड किया . सरफराज की तरह ही ध्रुव जुरेल (15) भी खराब शॉट खेलकर आउट हुए .

लंच के बाद इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने नौ महीने में पहली गेंद डाली और क्रीज पर जमे हुए रोहित को बोल्ड कर दिया लेकिन उसके बाद सरफराज और पड्डिकल ने पारी को आगे बढाया . अब तक इस दौरे पर नेट्स पर ही गेंदबाजी कर रहे स्टोक्स ने आखिरकार मैच में गेंदबाजी का फैसला किया . उन्होंने पिछले साल घुटने के आपरेशन के बाद गेंदबाजी करना बंद कर दिया था . पहले सत्र में अपने गेंदबाजों को नाकाम होता देख उन्होंने दूसरे सत्र में गेंद संभाली . पहली ही गेंद पर उन्होंने रोहित का आफ स्टम्प उखाड़ दिया.

अगले ओवर में जेम्स एंडरसन ने गिल को बोल्ड किया . उस समय भारत का स्कोर तीन विकेट पर 279 रन था . पहली बार टेस्ट खेल रहे पड्डिकल का आफ साइड का खेल इतना जबर्दस्त था कि अधिकांश रन वहीं से बने . वहीं सरफराज ने धीमी शुरूआत के बाद लय पकड़ी . उन्होंने 81वें ओवर में श्रृंखला में तीसरा अर्धशतक पूरा किया . अपने कल के स्कोर एक विकेट पर 135 रन से आगे खेलते हुए भारत ने सुबह शानदार शुरूआत की . इंग्लैंड की टीम पहली पारी में 218 रन पर आउट हो गई थी .

रोहित और गिल की साझेदारी को तोड़ने की इंग्लैंड की हर कोशिश नाकाम रही . रोहित के लिये शोएब बशीर की गेंदबाजी पर लेग स्लिप लगाने या मार्क वुड के शॉर्ट गेंद डालने का भी कोई फायदा नहीं हुआ . एचपीसीए स्टेडियम पर भारतीय प्रशंसकों से अधिक शोर ‘ बार्मी आर्मी’ (इंग्लैंड के समर्थकों) ने मचाया लेकिन इसका भी कोई असर नहीं हुआ . रोहित और गिल ने सुबह दो घंटे के खेल में 30 ओवर में 129 रन बनाये .

आफ स्पिनर बशीर ने अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन के साथ गेंदबाजी की शुरूआत की . रोहित ने दूसरे ही ओवर में उन्हें छक्का और चौका लगाकर दबाव में डाल दिया . वहीं गिल ने एंडरसन को शानदार छक्का जड़ने के बाद स्क्वेयर कट पर चौका लगाया .
इंग्लैंड को पहले सत्र में एकमात्र मौका मिला लेकिन जाक क्रॉली लेग स्लिप में रोहित का कैच नहीं लपक सके .

पहले घंटे में 15 ओवर में 60 रन बने . एंडरसन की जगह आये वुड को गिल ने नसीहत दी . इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने लेग साइड में छह फील्डर लगाये लेकिन निराशा हाथ लगी . मिड आफ खाली देखकर रोहित ने वुड को वहां चौका जड़ दिया . बशीर को दूसरे स्पैल में गिल ने सिर के ऊपर से छक्का लगाया . रोहित ने टॉम हार्टली की गेंद पर एक रन लेकर अपना 12वां टेस्ट शतक पूरा किया . दो गेंद बाद गिल ने बशीर को चौका जड़कर सौ रन पूरे किये .श्रृंखला में दूसरा शतक जमाने के बाद उन्होंने हेलमेट उतारकर दर्शकों का झुककर अभिवादन किया जिसमें उनके पिता भी बैठे थे .

Related Articles

Back to top button