इजराइल अल जजीरा का संचालन बंद करेगा, यह ‘आंतकवदी चैनल’ है : नेतन्याहू

यरुशलम. इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने संसद द्वारा अल जजीरा चैनल को बंद करने जैसे फैसले के लिए कानून पारित किए जाने के बाद सोमवार को संकल्प जताया कि देश में इस चैनल का परिचालन बंद कर दिया जाएगा. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि यह ‘आंतकवादी चैनल’ है जो उकसाता है.

प्रसारक ने नेतन्याहू के उकसाने वाले दावे की निंदा करते हुए इसे ‘खतरनाक, हास्यास्पद झूठ’ बताया. अल जजीरा ने सोमवार देर रात एक बयान में कहा कि वह नेतन्याहू को अपने कर्मचारियों और कार्यालयों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार मानता है. चैनल के मुताबिक, उसके पत्रकार अपने साहसिक और पेशेवर कवरेज को जारी रखेंगे, और वह ”हर कानूनी कदम उठाने का अधिकार सुरक्षित रखता है.” इजराइल के अल जजीरा के साथ लंबे समय से खराब संबंध रहे हैं. इजराइल चैनल पर उसके प्रति पूर्वाग्रह रखने का आरोप लगाता है. लगभग दो साल पहले दोनों के संबंध तब और बिगड़ गए जब इजराइली कब्जे वाले वेस्ट बैंक में इजराइली सैन्य हमले के दौरान अल जजीरा की संवाददाता शिरीन अबू अकलेह की हत्या कर दी गई थी.

अल जजीरा उन कुछ अंतरराष्ट्रीय मीडिया घरानों में से एक है जिसने पूरे युद्ध के दौरान गाजा से खबरें दीं, हवाई हमलों और भीड़भाड़ वाले अस्पतालों के खूनी दृश्य प्रसारित किए और इजराइल पर नरसंहार का आरोप लगाया. इजराइल ने अल जजीरा पर हमास के साथ सहयोग करने का आरोप लगाया है.

नेतन्याहू ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ”अल जजीरा ने इजराइल की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाया, सात अक्टूबर के नरसंहार (हमास द्वारा इजराइल पर हमला) में सक्रिय रूप से भाग लिया और इज.राइली सैनिकों के खिलाफ उकसाया. अब हमारे देश से हमास के गुंडों को हटाने का समय आ गया है.”

Related Articles

Back to top button