पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा अपने आप में अद्भुत : मोदी

भुवनेश्वर/नयी दिल्ली/जयपुर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि ओडिशा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा अपने आप में अद्भुत है क्योंकि यह ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ की सच्ची भावना को दर्शाती है. उन्होंने कहा कि देश भर के विभिन्न राज्यों में बड़ी धूमधाम से यह यात्रा निकाली जाती है.

मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ की 102वीं कड़ी में कहा, ”मेरे प्यारे देशवासियो, 20 जून को अयोजित होने वाली ऐतिहासिक रथ यात्रा की पूरे विश्व में एक अलग पहचान है.” गुजरात में अपने दिनों को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें अहमदाबाद में यात्रा में शामिल होने का अवसर मिलता था.

उन्होंने कहा, ”इन रथ यात्राओं में जिस तरह देश भर से हर समाज, हर वर्ग के लोग आते हैं, वह अपने आप में अनुकरणीय है. आस्था के साथ-साथ यह ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ की भावना का भी प्रतिबिंब है.” इस अवसर पर लोगों को अग्रिम बधाई देते हुए मोदी ने कहा, ”मैं प्रार्थना करता हूं कि भगवान जगन्नाथ सभी देशवासियों को अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और समृद्धि का आशीर्वाद दें.”

कच्छ के लोग जल्द ही ‘बिपारजॉय’ की तबाही से उबर जाएंगे : प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चक्रवात बिपारजॉय से गुजरात के कच्छ जिले में हुई तबाही का उल्लेख करते हुए रविवार को कहा कि वहां के लोगों ने जिस मजबूती से उसका मुकाबला किया, वह अभूतपूर्व है. उन्होंने उम्मीद जताई कि कच्छ के लोग जल्द ही इस तबाही से उबर जाएंगे.

आकाशवाणी के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ की 102वीं कड़ी में अपने विचार साझा करते हुए मोदी ने प्रकृति के संरक्षण को प्राकृतिक आपदाओं से मुकाबला करने का एक बड़ा तरीका बताया. उन्होंने कहा, ”चक्रवात बिपारजॉय ने कच्छ में कितना कुछ तहस-नहस कर दिया, लेकिन कच्छ के लोगों ने जिस हिम्मत और तैयारी के साथ इतने खतरनाक चक्रवात का मुकाबला किया, वह भी उतना ही अभूतपूर्व है. आत्मविश्वास से भरे कच्छ के लोग चक्रवात बिपारजॉय से हुई तबाही से जल्द उबर जाएंगे.” मोदी ने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं पर किसी का जोर नहीं होता, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में भारत ने आपदा प्रबंधन की जो ताकत विकसित की है, वह आज एक उदाहरण बन रही है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि बड़े से बड़ा लक्ष्य हो, कठिन से कठिन चुनौती हो, भारत के लोगों का सामूहिक बल हर चुनौती का हल निकाल देता है. उन्होंने कहा, “आजकल मॉनसून के समय में इस दिशा में हमारी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है. इसीलिए आज देश ‘कैच द रेन’ जैसे अभियानों के जरिये सामूहिक प्रयास कर रहा है.” प्रधानमंत्री हर महीने के आखिरी रविवार को ‘मन की बात’ के जरिये अपने विचार साझा करते हैं. वह 21 से 24 जून तक अमेरिका के दौरे पर रहेंगे. इसलिए इस दफा ‘मन की बात’ का प्रसारण एक सप्ताह पहले किया गया. इसका उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा, ”आप सब जानते ही हैं, अगले हफ्ते मैं अमेरिका में रहूंगा और वहां बहुत सारी भाग-दौड़ भी रहेगी. इसलिए मैंने सोचा वहां जाने से पहले आपसे बात कर लूं.”

‘मन की बात’ अपने आप में एक ऐतिहासिक विश्व स्तरीय कार्यक्रम बन गया है : पीयूष गोयल

केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ‘मन की बात’ कार्यक्रम अपने आप में एक ऐतिहासिक विश्व स्तरीय कार्यक्रम बन गया है. उन्होंने कहा, ”भारत में देश के कोने कोने तक इसका प्रभाव पड़ रहा है.” केन्द्रीय मंत्री गोयल दो दिवसीय प्रवास पर जयपुर पहुंचे हैं. यहां जयपुर हवाई अड्डे पर पहुंचे गोयल से जब मीडियार्किमयों ने सवाल किया कि ”मोदी जी मन की बात कर रहे हैं… काम की बात कब करेंगे”, इसके जवाब में उन्होंने कहा, ”प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मन की बात कर रहे हैं और ‘मन की बात’ के जरिए वे जनता की आशाओं अपेक्षाओं को देश के सामने रख रहे हैं.”

उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा, ”गहलोत जी को भ्रष्टाचारी काम करने की आदत पड़ गई है. उन्हें (गहलोत को) अब ये सब बंद करके वास्तव में देश की सेवा में लगना चाहिए.” उन्होंने कहा, ”हमारा संकल्प राजस्थान को एक बार फिर कांग्रेस के शासन से मुक्त कराना और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन और नेतृत्व में राजस्थान में भी एक अच्छी सरकार बनाना है जो इस भ्रष्टाचारी गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार को जड़ से उखाड़ फेंके.” गोयल ने कहा, ”’मन की बात’ अपने आप में एक ऐतिहासिक विश्व स्तरीय कार्यक्रम बन गया है. भारत में देश के कोने कोने तक इसका प्रभाव पड़ रहा है.” उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को राजस्थान के लोगों ने भरपूर प्यार और आर्शीवाद दिया है और हमारा संकल्प राजस्थान को एक बार फिर कांग्रेस के शासन से मुक्त कराना है.

Related Articles

Back to top button