‘स्वच्छ भारत मिशन 2.0’ के तहत भीड़भाड़ वाले स्थानों पर शौचालय उपलब्ध कराये गये: संयुक्त सचिव

नयी दिल्ली. केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार ‘स्वच्छ भारत मिशन’ के दूसरे चरण में पर्यटन स्थलों और महत्वपूर्ण स्थलों जैसे वाले स्थानों पर शौचालय उपलब्ध कराये गये है. मंत्रालय में स्वच्छ भारत मिशन की संयुक्त सचिव एवं राष्ट्रीय मिशन निदेशक रूपा मिश्रा ने यहां एक कार्यक्रम में चलाए गए एक वीडियो संदेश में यह बात कही. उन्होंने कहा कि इस अभियान में उद्योग, सरकार, अन्वेषकों सहित कई हितधारकों को एक साथ लाया गया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2014 में इस मिशन की शुरुआत की थी.

उन्होंने कहा, ‘‘मिशन के पहले चरण में स्वच्छता क्षेत्र में एक अद्भुत यात्रा देखी गई है… आठ साल बीत चुके हैं और स्वच्छता की यात्रा में शहरी और ग्रामीण स्वच्छता का एक उल्लेखनीय अध्याय जोड़ा गया है.’’ मिश्रा ने कहा कि ‘स्वच्छ भारत 2.0’ की शुरुआत के साथ, यह एक ऐसा समय है जहां ‘‘हमें अगले चरण में जाने की आकांक्षा रखने की आवश्यकता है.’’ मंत्रालय की अधिकारी ने कहा कि इन आठ वर्षों में शहरी विस्तार से भारतीय शहरों का विकास हुआ है और लोगों की आकांक्षाएं भी बढ़ रही हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘लोगों की बढ़ती आकांक्षाओं के साथ, शहरी क्षेत्रों में सार्वजनिक शौचालयों की विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने की चुनौतियां कई गुना बढ़ गई हैं. हम एक समुदाय के रूप में इन आवश्यकताओं को कैसे पूरा कर सकते हैं? स्वच्छ भारत 2.0 के तहत पर्यटन स्थलों और महत्वपूर्ण स्थानों जैसे अधिक भीड़भाड़ वाले स्थानों में शौचालय प्रदान किये गये हैं.’’ मिश्रा ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन 2.0 का लक्ष्य पांच साल में कचरा मुक्त शहर बनाना है और यह लक्ष्य बिना कार्यात्मक शौचालयों के कभी भी पूरा नहीं हो सकता है.

अपने वीडियो संबोधन में, मिश्रा ने कहा कि इस साल 15 अगस्त को जब देश की आजादी के 75 साल पूरे होने का जश्न मना रहे थे, ‘‘हमने भारत की स्वच्छता यात्रा में एक सुंदर अध्याय जोड़ा.’’ उन्होंने कहा कि 500 से अधिक शहरों ने खुद को ‘सफाई मित्र सुरक्षित’ घोषित किया. यह कार्यक्रम ‘टॉयलेट बोर्ड कोअलिशन’ द्वारा आयोजित किया गया था जो स्वच्छता संकट के व्यावसायिक समाधान में तेजी लाने की दिशा में काम कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button