अजय मिश्रा को मंत्री पद से कब बर्खास्त करेंगे प्रधानमंत्री: कांग्रेस

पीड़ित परिवारों की: न्याय की लड़ाई में अंत तक खड़े रहना सबकी जिम्मेदारी: प्रियंका

नयी दिल्ली. कांग्रेस ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की जमानत उच्चतम न्यायालय द्वारा रद्द किए जाने के बाद सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि वह अजय मिश्रा को अपने मंत्रिपरिषद से कब बर्खास्त करेंगे.

पार्टी महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने ट्वीट किया, ‘‘लखीमपुर किसान नरसंहार के पीड़ित परिवार संघर्षों से भरी न्याय की लड़ाई लड़ रहे हैं. सत्ता के संरक्षण में उन पर क्रूरतम दर्जे का अन्याय व अत्याचार हुआ. अन्नदाताओं के इन पीड़ित परिवारों की न्याय की लड़ाई में अंत तक खड़े रहना हम सबकी जिम्मेदारी है, चाहे संघर्ष कितना भी लंबा हो.’’

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘‘आख़रिकार उच्चतम न्यायालय ने लखीमपुर में किसानों को रौंदने वाले मंत्री पुत्र की जमानत रद्द कर दी. अब मोदी जी अपने मंत्रिमंडल से अजय मिश्रा टेनी को कब बर्खास्त करेंगे? किसानों से विश्वासघात और हत्यारे को बचाकर ताकÞत देना, भाजपा कब बंद करेगी? मोदी सरकार किसानों पर कब तक जÞुल्म ढाती रहेगी?’’

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा दी गई जमानत सोमवार को रद्द कर दी और उससे एक सप्ताह के भीतर आत्मसमर्पण करने को कहा. प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण और न्यायमूर्ति सूर्यकांत व न्यायमूर्ति हिमा कोहली की विशेष पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालय ने अप्रासंगिक विचारों को ध्यान में रखा और प्राथमिकी की सामग्री को अतिरिक्त महत्व दिया.

पिछले साल तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हिंसा के दौरान आठ लोग मारे गए थे. यह हिंसा तब हुई थी, जब किसान उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के इलाके के दौरे का विरोध कर रहे थे. उत्तर प्रदेश पुलिस की प्राथमिकी के अनुसार, एक वाहन जिसमें आशीष मिश्रा बैठे थे, उसने चार किसानों को कुचल दिया था. घटना के बाद गुस्साए किसानों ने वाहन चालक और दो भाजपा कार्यकर्ताओं की कथित तौर पर पीट-पीट कर हत्या कर दी थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button