भाजपा ने पूछा, क्या वोट कम हो जाने के डर से विज्ञापनों में नेताओं की तस्वीर नहीं लगा रही कांग्रेस

'इंडी अलायंस' के आधे नेता जेल में और आधे नेता 'बेल' पर हैं: नड्डा

नयी दिल्ली/जयपुर/पटना. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस की ओर से जारी विज्ञापनों में किसी भी नेता की तस्वीर उपयोग ना करने को लेकर बुधवार को विपक्षी पार्टी पर तंज कसा और सवाल किया है कि क्या वह इस डर से अपने शीर्ष नेताओं की तस्वीर नहीं लगा रही है कि इससे उसका वोट कम हो जाएगा.

कांग्रेस ने पिछले दिनों अखबारों में ‘हाथ बदलेगा हालात’ के नारे वाले विज्ञापन जारी किए थे और इसके माध्यम से महंगाई, बेरोजगारी, किसानों की आय और महिला सुरक्षा जैसे मुद्दों को उठाते हुए केंद्र सरकार से पूछा था कि ‘पिछले जुमलों का दो जवाब, मेरे विकास का दो हिसाब’. इन विज्ञापनों में किसी नेता की तस्वीर नहीं है, सिर्फ कांग्रेस का चुनाव चिह्न ‘हाथ’ नजर आता है.

भाजपा महासचिव विनोद तावड़े ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, ”कांग्रेस के विज्ञापन अब आने लगे हैं. लेकिन उनमें कांग्रेस अध्यक्ष (मल्लकार्जुन खरगे) की फोटो नहीं है. न ही राहुल गांधी की है.” उन्होंने सवाल किया, ”क्या कांग्रेस को डर है कि किसी नेता का फोटो डालने से उसके वोट कम हो जाएंगे. इसलिए विज्ञापन में न सोनिया गांधी, न राहुल गांधी और न ही खरगे का फोटो है.” तावड़े ने प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ की राजनीतिक शाखा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया’ (एसडीपीआई) द्वारा केरल में संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) को दिए गए समर्थन पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी से रुख स्पष्ट करने को कहा.

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी केरल में एसडीपीआई का समर्थन ले रहे हैं जबकि उसे प्रतिबंधित संगठन पीएफआई का राजनीतिक मोर्चा माना जाता है और यह भाजपा शासित ही नहीं बल्कि उसके शासन वाले कर्नाटक में भी प्रतिबंधित है. उन्होंने कहा, ”आतंकवाद और देशविरोधी गतिविधियों में उनके संलिप्त होने के पुख्ता सबूत मिले हैं. आंतकवादी और टकड़े टुकड़े गैंग के प्रति कांग्रेस का यह प्रेम जारी है.” उन्होंने कोयंबटूर बम कांड के मुख्य आरोपी अब्दुल नासिर मदनी की रिहाई के लिए कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टी की ओर से केरल विधानसभा में प्रस्ताव पारित किए जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि यह इतिहास का इकलौता उदाहरण है जब बम कांड के आरोपी की रिहाई की मांग विधानसभा में की गई. तावड़े ने सवाल किया, ”क्या एसडीपीआई राहुल गांधी के मोहब्बत की दुकान की श्रेणी में आती है?”

‘इंडी अलायंस’ के आधे नेता जेल में और आधे नेता ‘बेल’ पर हैं: नड्डा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने विपक्षी ‘इंडिया’ गठबंधन पर कटाक्ष करते हुए बुधवार को कहा कि ‘इंडी अलायंस’ के आधे नेता जेल में हैं और आधे ‘बेल’ (जमानत) पर हैं. उन्होंने कहा ,” इनको देश से कोई लेना देना नहीं है. ये परिवार बचाने में लगे हैं, अपनी पार्टियां बचाने में लगे हैं. इसके विपरीत, भाजपा मोदी जी के नेतृत्व में देश को आगे ले जाने का काम कर रही है.” नड्डा झालावाड़ में भाजपा की चुनाव सभा को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा, ”आज-कल ‘इंडी अलायंस’ बहुत चल रहा है. यह ‘इंडी अलायंस’ क्या है? यह दो ही चीजों का अलायंस (गठबंधन) है… एक तो भ्रष्टाचार बचाओ गठबंधन और दूसरा उन परिवारों की पार्टियां हैं जिसमें अध्यक्ष भी परिवार का, संसदीय बोर्ड भी परिवार का, महासचिव भी परिवार का और उसमें मंत्री भी परिवार का… ऐसी परिवारवादी पार्टियां अपनी पार्टी को बचाने में लगी हैं.” कांग्रेस पर कोयला घोटाले सहित कई घोटालों में संलिप्त होने का आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा, ”यानि गगन नहीं छोड़ा, पाताल नहीं छोड़ा, जल नहीं छोड़ा, तीनों लोकों में घोटाला ही घोटाला.” उन्होंने विपक्षी गठबंधन से जुड़े अखिलेश यादव, लालू यादव, तेजस्वी यादव, ममता बनर्जी एवं अरविंद केजरीवाल सहित अनेक नेताओं पर विभिन्न घोटालों में शामिल होने का आरोप लगाया.

नड्डा ने कहा,” आप बताइए राहुल गांधी जमानत पर हैं या नहीं? सोनिया गांधी जमानत पर हैं या नहीं? पी चिदंबरम जमानत पर हैं या नहीं? आप बताइए संजय सिंह जमानत पर हैं या नहीं?… सब जमानत पर हैं कि नहीं? आप बताइए अरविंद केजरीवाल जेल में हैं कि नहीं? आप बताइए कविता जेल में है या नहीं? आप बताइए मनीष सिसोदिया जेल में है कि नहीं है? आप बताइए सत्येंद्र जैन जेल में हैं कि नहीं हैं? ये इंडी एलायंस के नेता आधे जेल में हैं और आधे जमानत पर हैं.”

भाजपा अध्यक्ष ने कहा,”.. यह भाजपा है जो मोदी जी के नेतृत्व में देश को आगे ले जाने का काम कर रही है. हम विकसित भारत के संकल्प को लेकर आगे बढ़े हैं. हम गांव, गरीब, वंचित, पीड़ित, शोषित, दलित, युवा, किसान, महिला– इनकी आंखों के आंसू को पोंछ कर एक नए भारत को आगे बढ़ाने के काम में मोदी जी के नेतृत्व में लगे हैं. इस काम में हम जुटे हैं.” उन्होंने कहा कि भारत देश में भ्रष्टाचार मुक्त और विकासोन्मुखी सरकार की आकांक्षा रखता है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज गांवों की तस्वीर बदल गई है.

उन्होंने कहा,”भारत की आकांक्षा है कि देश में भ्रष्टाचार मुक्त, विकास युक्त सरकार हो. भारत की आकांक्षा है कि नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश तेज गति से आगे बढ़े. भारत की आकांक्षा है कि मोदी के नेतृत्व में देश अकल्पनीय विकास के माध्यम से एक विकसित देश के रूप में खड़ा हो जाए.” उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश तेज गति से आगे बढ़ा है और उनके नेतृत्व में गांवों की तस्वीर बदल गई है. उन्होंने दावा किया कि 2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने मात्र 1,000 दिन में 18,000 गांवों को बिजली पहुंचाई.

राहुल गांधी अमेठी से भाग गये, वायनाड में भी उन्हें कड़ी टक्कर मिलेगी: रविशंकर प्रसाद

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर अमेठी से फरार होने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि उन्हें वायनाड में भी कड़ी टक्कर मिलेगी. उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में यह भी आरोप लगाया कि गांधी केरल के निर्वाचन क्षेत्र वायनाड में ”मुसलमानों और ईसाइयों की भारी संख्या के कारण” वहां से चुनाव लड रहे हैं, पर उन्हें वहां भी कड़ी टक्कर मिलेगी.

भाजपा नेता ने कहा ,” राहुल गांधी अमेठी से क्यों भाग गये. उन्होंने वहां से चुनाव जीता था. इससे पहले इस सीट का प्रतिनिधित्व उनके पिता और दिवंगत चाचा संजय गांधी ने किया था. उन्हें वहां से चुनावी लड़ाई में उतरने का साहस करना चाहिए था.” जहां भाजपा ने घोषणा कर दी है कि ईरानी अमेठी से फिर से चुनाव लड़ेंगी, वहीं कांग्रेस ने अभी तक इस सीट के लिए अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है. फलस्वरूप अटकलें लगाई जा रही हैं कि 2019 के लोकसभा चुनाव में हार के बाद गांधी इस बार यहां से चुनावी मैदान में उतरने को अनिच्छुक हो सकते हैं.

प्रसाद ने कहा, ”आप जानते हैं कि राहुल गांधी ने वायनाड को क्यों चुना. ऐसा इसलिए है क्योंकि वहां मुसलमानों और ईसाइयों की भारी संख्या है… लेकिन सर्वेक्षण बताते हैं कि इस बार उन्हें कड़ी टक्कर मिल रही है.” बताया जा रहा है कि राहुल गांधी को वायनाड में त्रिकोणीय लड़ाई का सामना करना पड रहा है क्योंकि वहां उनकी प्रमुख प्रतिद्वंद्वी भाकपा की एनी राजा हैं. भाजपा ने अपनी प्रदेश इकाई प्रमुख के सुरेंद्रन को इस सीट से चुनावी मैदान में उतारकर टक्कर को और भी दिलचस्प बना दिया है. वैसे भाजपा इस दक्षिणी राज्य में एक बड़ी ताकत के रूप में उभरने में कामयाब नहीं हो सकी है. नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए सुरेंद्रन के साथ ईरानी के बृहस्पतिवार को वायनाड में रहने की संभावना है. राहुल गांधी ने एक शानदार रोड शो के बाद बुधवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया.

अयोध्या विवाद मामले में ”राम लला” वकील रहे प्रसाद ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा सनातन संस्कृति का सम्मान करती है लेकिन राहुल गांधी जैसे कांग्रेस नेताओं ने वोट बैंक की राजनीति के कारण ”प्राण प्रतिष्ठा” के निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया.
उन्होंने कहा, ”बुधवार को जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार में अपनी पहली चुनावी सभा को संबोधित करने के लिए जमुई में होंगे, तो वह लोगों को बताएंगे कि केंद्र सरकार ने पिछले 10 वर्षों में क्या हासिल किया है और वह भविष्य में क्या करने का प्रस्ताव रखती है.” प्रसाद ने कहा कि दूसरी ओर ‘इंडिया’ गठबंधन के पास लोगों को बताने के लिए कुछ भी नहीं है इसलिए वह लोकतंत्र, स्वतंत्र प्रेस, न्यायपालिका और चुनाव आयोग को लेकर तथाकथित खतरों के बारे में दुष्प्रचार करता रहता है. प्रसाद पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं स्थानीय सांसद भी हैं. वह पटना साहिब से फिर से चुनाव लड़ रहे हैं.

Related Articles

Back to top button