छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं से रुका है पलायन: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज महासमुंद जिले के खल्लारी विधानसभा के ग्राम-बगारपाली में भेंट मुलाकात में लोगों से संवाद के दौरान कहा कि भेंट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान प्रदेशभर में लोगों ने उन्हें बताया है कि अब उन्हें रोजगार के लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं है. छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की वजह से पलायन रुका है.

मुख्यमंत्री ने बताया की जांजगीर में एक मजदूर साथी ने बताया की गांव में गौठान खुलने से उन्हें रोजगार के लिए बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ी. आज बगारपाली में हेमलता ने बताया की पहले काम के लिए उसे पलायन करना पड़ता था. मगर अब गौठान में काम मिल रहा है. अभी सरायपाली में भी मुझे एक व्यक्ति ने ऐसा ही संस्मरण सुनाया था. जशपुर में भी पलायन में कमी आने की बात सामने आई थी. इससे यही समझ में आता है कि योजनाओं से लोगों की आर्थिक स्थिति सुधरी है. ये बहुत अच्छा संकेत है. मुख्यमंत्री ने योजनाओं से आ रहे सामाजिक परिवर्तन का कमेटी द्वारा अध्ययन कराने की घोषणा की. उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ी बात है की आज लोगों को काम के लिए बाहर नहीं जाना पड़ रहा. भूमिहीन मजदूरों को भी हम 7 हजार रुपए दे रहे हैं. ये भी भूमिहीन श्रमिकों के लिए एक बड़ा सहारा बना है.

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि राज्य सरकार प्रत्येक ब्लॉक में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की स्थापना कर रही है, जिसके लिए शासकीय भूमि और दो करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है. रूरल इंडस्ट्रियल पार्क में सुगमता से पहुंच के लिए अप्रोच रोड भी बनाएंगे और आधे दर बिजली की उपलब्धता भी की जाएगी ताकि गांव के बच्चों को भी स्थानीय स्तर पर रोजगार मिल सके. रूरल इंडस्ट्रियल पार्क से पलायन रुकेगा, देश में ऐसी योजना कहीं और नहीं है. मुुख्यमंत्री ने नौजवानों को इस योजना का हिस्सा बनकर आर्थिक रूप से सशक्त होने की बात कही.

मुख्यमंत्री ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए कहा कि वे शासन की महत्वाकांक्षी योजनाओं के जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन की जानकारी लेने और क्षेत्रवासियों से मिलने आए हैं. उन्होंने नरवा योजना की जानकारी देते हुए बताया कि बड़े सिंचाई प्रोजेक्ट में किसानों के खेत डूब जाते हैं, इसलिए हम छोटे-छोटे स्ट्रक्चर बना रहे हैं. जिसके जरिए पानी रोकते हैं. इससे सतह पर पानी मिल जाता है, साथ ही जल स्तर बढ़ता है. पानी रोकने से जमीन में नमी बनी रहती है. आज जरूरी है कि सभी नरवा में पानी रोका जाए ताकि किसान के साथ पशु-पक्षी को पीने के लिए पानी मिले. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार गोबर के साथ गोमूत्र की भी खरीदी कर रही है. हम गौमाता की सेवा कर रहे हैं. मुख्यमंत्री बघेल ने किसानों से पैरादान करने की भी अपील की. उन्होंने कहा कि गौमाता की सेवा के लिए चारा की भी आवश्यकता होगी इसलिए आप सभी पैरादान जरूर करें.

भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में हेमलता ने मुख्यमंत्री को बताया कि गौठान बनने से रोजगार के अवसर बढ़े हैं. लोगों को स्थानीय स्तर पर ही काम मिलने से गांवों से पलायन रुका है. हेमलता की मांग पर मुख्यमंत्री ने उनकी बेटी वर्षा कुमारी ठाकुर की पढ़ाई सुचारू रूप से चल सके इसलिए छात्रावास की व्यवस्था के निर्देश अधिकारियों को दिए.

नयापारा कला की नरबाई बघेल ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके पति की मृत्यु कोरोना संक्रमण से हो गई और उन्हें कोरोना मुआवजा नहीं मिला है, जिसे गम्भीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को तत्काल राहत देने के निर्देश दिए. साथ ही उन्होंने नरबाई के बच्चों को पढ़ाने के लिए एक लाख रुपए की राशि देने की घोषणा की. ग्राम घोंच निवासी दिव्यांग लाभार्थी ने बताया कि गांव में हाट बाजार क्लिनिक की गाड़ी आती है. मुफ्त में इलाज होता है, दवाई भी मुफ्त मिलती है, जांच का भी पैसा नहीं लगता है. हितग्राही ठाकुर राम को साढ़े 3 एकड़ का वन अधिकार पट्टा मिला है, पट्टा मिलने से शासन की सभी महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ मिलने लगा है. किशोर सोनवानी ने बताया कि उन्होंने घरेलू उपयोग के लिए लगाए गए धान में वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग किया है. जिससे उत्पादन अच्छा हुआ और फसल में किसी भी प्रकार की बीमारी की शिकायत नहीं आयी. मुख्यमंत्री ने किशोर की पहल की सराहना करते हुए कहा कि रासायनिक खाद से भूमि की उर्वरता खत्म हो रही है. हम सभी को धरती माता की सेवा करनी है इसलिए अधिक से अधिक वर्मी कंपोस्ट का उपयोग करना है.

नंदिनी ने छत्तीसगढ़िया ओपलम्पिक को लेकर बात की, उन्होंने कबड्डी में संभाग स्तर पर जीत दर्ज की है, अपने ससुराल में जाने के बाद कबड्डी खेलना शुरू किया है. उन्होंने बताया कि एक 60 साल की महिला गेड़ी में फर्स्ट आई है महासमुंद में. उनकी बात सुनकर मुख्यमंत्री ने नंदिनी की तारीफ़ की. लेखराम दीवान ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे राजीव युवा मितान क्लब के समन्वयक हैं. छत्तीसगढ़िया ओलंपिक के आयोजनों के बारे में जानकारी दी. किसान चंद्रभान साहू ने बताया कि 85 हजार रुपये का कर्ज माफ हुआ है. योजना के लाभ से मिले पैसे से छोटी बेटी की शादी की और एक गाड़ी भी ले ली है. बेटा आईटीआई में पढ़ रहा है.

मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात में बगारपाली तालाब के सौंदर्यीकरण, ग्राम पंचायत बगारपाली के लिये नये भवन के निर्माण, कोमाखान में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल शुरू करने, ग्राम कोमाखान में शहीद वीर नारायण सिंह जी की प्रतिमा स्थापित करने, गड़बेड़ा-सिंधुपाली-परसापाली मार्ग और पुल-पुलिया निर्माण की स्वीकृति, हनुमानडीह जलाशय और ठाकुरदिया जलाशय के शीर्ष कार्य मरम्मत, नहरों की रिमॉडलिंग, लाइनिंग और मरम्मत कार्य की स्वीकृति की घोषणा की.

इसी प्रकार उन्होंने शासकीय महाविद्यालय बागबाहरा में ओपन स्टेडियम, उप स्वास्थ्य केन्द्र नर्रा का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में उन्नयन, बगारपाली से तेंदुकोना पक्की सड़क निर्माण, कौहाकूड़ा से खुसरूपाली सड़क निर्माण, बगारपाली में राजीव गांधी सेवा केंद्र भवन, खुसरूपाली में मंगल भवन, कौहाकूड़ा हाई स्कूल का नामकरण स्वतंत्रता संग्राम सेनानी जहान सिंह के नाम पर करने और घोंच में उप स्वास्थ्य केंद्र की घोषणा की.

Back to top button