Kathua Terrorist Attack: आठ से दस दहशतगर्दों ने घात लगा किया सैन्य वाहनों पर हमला; यहां चुनी थीं दो लोकेशन

कठुआ के बिलावर के बदनोता इलाके में जेंडा नाले के पास सोमवार दोपहर आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया। इस हमले में एक नहीं, बल्कि दो सैन्य वाहनों को निशाना बनाया गया। ये दोनों वाहन करीब-करीब 200 मीटर की दूरी पर चल रहे थे।

आतंकियों ने इलाके की रेकी कर रखी थी। सेना का काफिला हमले से कुछ घंटे पहले ही लोहाई मल्हार की ओर गया था। ऐसा अंदेशा है कि आतंकी घात लगाकर वाहनों के लौटने का इंतजार कर रहे थे। आतंकियों ने बाकायदा यहां दो लोकेशन चुनीं।

उन्हें अंदाजा था कि दोनों वाहनों में दूरी है। ऐसे में आतंकियों के एक दल ने आगे चल रहे तिरपाल से ढके सैन्य ट्रैक पर ग्रेनेड दाग दिया। यह ग्रेनेड वाहन के पिछले हिस्से के भीतर जा गिरा और फट गया।

इसी बीच आतंकियों ने पीछे चल रहे दूसरे सैन्य वाहन पर भी ग्रेनेड फेंककर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। सेना को आगे बढ़ने से रोकने के लिए पहाड़ी की ऊंचाई पर मोर्चा बनाकर बैठे आतंकियों ने दोनों वाहनों के चालकों को निशाना बनाते हुए गोलीबारी की थी।

यह हमला ठीक उसी तरह से था, जिस तरह से आतंकियों ने शिवखोड़ी से लौट रहे श्रद्धालुओं की बस पर और पुंछ में हुए एयरफोर्स के वाहन पर किया था।

वाहनों से निकलकर मोर्चा संभालने के लिए जैसे ही सेना के जवान बाहर निकले वैसे ही आतंकियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी।

आतंकियों के इस हमले में भी एम-4 कारबाइन का इस्तेमाल स्नाइपिंग के लिए किए जाने का शक है। ऐसे ही हीरानगर के सैडा सोहल में भी एक आतंकी ने स्नाइपिंग करते हुए पुलिस के आला अधिकारियों के वाहनों पर गोलीबारी की थी।

सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान की ओर से हाल-फिलहाल के जम्मू संभाग में हुए हमलों में स्नाइपरों का इस्तेमाल शुरू किया गया है, जो घात लगाकर हमला करते हैं। हीरानगर के सैडा सोहल में मारा गया एक आतंकी स्नाइपर था। उसके पास टेलीस्कोप लगी एम-4 कारबाइन बरामद हुई थी।

यह भी आशंका है कि आतंकवाद को जम्मू संभाग में बढ़ावा देने के लिए पाकिस्तान अपने एसएसजी के पूर्व कमांडो को आतंकी बनाकर भारतीय सीमा में भेज रहा है।

हीरानगर में सुरक्षाबलों की ओर से ढेर किए गए एक आतंकी को सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी अकांट्स की ओर से एसएसजी कमांडो बताया गया था। हालांकि किसी भी सुरक्षा एजेंसी ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

कठुआ जिले के सुदूरवर्ती मछेड़ी इलाके में सोमवार को दोपहर बाद घात लगाए आतंकियों ने सेना के गश्ती दल पर हमला किया। इसमें जेसीओ समेत पांच जवान बलिदान हो गए, जबकि पांच गंभीर रूप से घायल हैं। सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है। देर रात तक ऑपरेशन जारी रहा।

घटना शाम लगभग साढ़े तीन बजे की है, जब बिलावर उपजिले में बदनोता के बरनूड इलाके में जेंडा नाले के पास सेना के 22 गढ़वाल राइफल्स के वाहन पर आतंकियों ने हमला किया। सेना का यह वाहन इलाके में गश्त पर था। वाहन में 10 जवान सवार थे। आतंकियों की ओर से पहले ग्रेनेड फेंका गया। इसके बाद अंधाधुंध गोलाबारी शुरू कर दी गई।

दहशतगर्दों की ओर से स्टील बुलेट के इस्तेमाल का शक है। सेना के जवानों ने भी मोर्चा संभालते हुए जवाबी कार्रवाई शुरू की। हमले के बाद भागकर आतंकी घने जंगल में भाग निकले। बताया जा रहा है कि आतंकी ऊंचाई वाले इलाके में थे। जब तक सेना के जवान संभलते, तब तक उन्होंने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी थी।

उधर, सेना ने ऑपरेशन में पैरा कमांडो को भी शामिल कर लिया है। उन्हें एयरलिफ्ट कर हमले वाले इलाके में ले जाया गया है। सेना की ओर से पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली गई है। घायल जवानों को पीएचसी बदनोता में प्राथमिक उपचार के बाद उपजिला अस्पताल बिलावर में भर्ती करवाया गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button