रूस ने अपने सैन्य बलों को लामबंद करने के लिए ‘थोड़ा विराम’ लिया है : विश्लेषक

कीव. विश्लेषकों का कहना है कि रूस ने संभवत: अस्थायी रूप से यूक्रेन में हमलों को धीमा कर लिया है क्योंकि नए सिरे से आक्रमण के लिए वह अपने सैनिकों को लामबंद कर रहा है. वांिशगटन स्थित ंिथकटैंक ‘इंस्टीट्यूट फॉर द स्टडी आॅफ वार’ के मुताबिक बुधवार को रूसी सुरक्षा बलों ने 133 दिन से जारी युद्ध में पहली बार यूक्रेन के किसी क्षेत्र में बढ़त बनाने या नियंत्रण का दावा नहीं किया. संस्थान ने कहा कि अस्थायी विराम का यह मतलब नहीं है कि अशांति का दौर बीत चुका है.

संस्थान ने कहा, ‘‘रूसी सेना खुद को अपेक्षाकृत छोटे स्तर के हमलों तक सीमित रखेगी क्योंकि वे ज्यादा घातक हमलों की तैयारी कर रहे हैं और बड़े लक्ष्य के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं.’’ रूस के रक्षा मंत्रालय के बृहस्पतिवार के बयान से विश्लेषकों की राय की पुष्टि हुई. मंत्रालय ने कहा कि यूक्रेन में अभियान में शामिल सैन्य टुकड़ियों को आराम दिया गया है.

रूस की सरकारी समाचार एजेंसी ‘तास’ के मुताबिक, ‘‘विशेष सैन्य अभियानों में जुटी सैन्य टुकड़ियां फिर से युद्धक क्षमता जुटाने के लिए कदम उठा रही हैं. इस दौरान सैन्यर्किमयों को आराम दिया गया है.’’ वहीं, यूक्रेन के अधिकारियों ने कहा कि यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में गोलाबारी जारी हैं जहां पिछले 24 घंटे में कम से कम नौ लोगों की मौत हो गई और छह लोग घायल हो गए.

यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने बृहस्पतिवार सुबह बताया कि पिछले दिन यूक्रेन के सात क्षेत्रों में शहरों और कस्बों को निशाना बनाया गया. अधिकतर मौतें दोनेत्सक क्षेत्र में हुई जहां लड़ाई जारी है. दोनेत्सक, डोनबास क्षेत्र का हिस्सा है जहां की अधिकतर आबादी रूसी भाषा बोलती है. अधिकारियों ने बताया कि दोनेत्सक में 10 शहरों और कस्बों को निशाना बनाया गया और एक स्कूल, एक व्यावसायिक कॉलेज तथा एक अस्पताल सहित 35 इमारतें बर्बाद हो गईं.

उन्होंने बताया कि यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में एक स्कूल को निशाना बनाया गया लेकिन कोई घायल नहीं हुआ.
खारकीव क्षेत्र रूस की सीमा के पास है. इस क्षेत्र में पिछले 24 घंटे में गोलाबारी में दो लोगों की मौत हो गई. यूक्रेन की सेना ने बृहस्पतिवार को कहा कि रूसी सैन्य बलों ने उत्तर-पूर्वी क्षेत्र सूमी में भी गोलाबारी की. इस बीच, ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि उसे लगता है कि रूसी सेना खुद को नए सिरे से संगठित कर रही है.

मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को खुफिया विश्लेषण जारी करते हुए कहा कि रूस द्वारा अपनी पिछली बढ़त को बनाए रखने के लिए दोनेत्सक में मुख्य जगहों पर भारी गोलाबारी किए जाने की आशंका है. यूक्रेन के ‘आॅपरेशनल कमांड साउथ’ ने एक बयान में कहा कि यूक्रेन की सैन्य टुकड़ियों ने स्रैक आइलैंड पर रूस के सैन्य साजो सामान और अन्य उपकरणों को क्षतिग्रस्त कर दिया है.

रूस की सेना आइलैंड से 30 जून को हट गई थी जिसे रूस के रक्षा मंत्रालय ने ‘सद्भावना’ वाला कदम बताया था. हालांकि मंत्रालय ने कहा कि रूस की वायु सेना के विमानों ने आइलैंड पर मिसाइल दागी क्योंकि यूक्रेन के सैनिकों ने वहां एक संयंत्र पर अपना झंडा लगाने का प्रयास किया था. यूक्रेन ने कहा कि रूस ने काला सागर में मोल्दोवा के झंडा लगे एक तेल टैंकर पर दो मिसाइल दागी जिससे उसमें आग लग गई.

Related Articles

Back to top button