अगर विपक्षी सांसद माफी मांगें तो निलंबन वापस लिया जा सकता है: प्रह्लाद जोशी

नयी दिल्ली. संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बुधवार को कहा कि अगर निलंबित विपक्षी सांसद माफी मांग लें और आश्वासन दें कि वे सदन में तख्तियां नहीं दिखाएंगे तो आसन उनके निलंबन को वापस ले सकता है. संसद में अशोभनीय व्यवहार करने और आसन की अवमानना करने के मामले में राज्यसभा के 20 और लोकसभा के चार सदस्यों को निलंबित किया गया है.

जोशी ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम कहते आ रहे हैं कि सरकार महंगाई पर चर्चा को तैयार है और आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोविड से उबरने के बाद कामकाज फिर से संभाल लिया है.’’ उन्होंने कहा कि अगर विपक्ष चाहे तो आज से ही चर्चा शुरू करा सकते हैं.

सांसदों के निलंबन के बारे में पूछे जाने पर मंत्री ने कहा, ‘‘अगर वे माफी मांग लें और आश्वासन दें कि वे दोबारा सदन में तख्तियां नहीं लाएंगे तो आसन उनके निलंबन को समाप्त कर सकता है.’’ इससे पहले आज लोकसभा में रांकापा, द्रमुक और तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने कांग्रेस के चार सदस्यों का निलंबन वापस लिये जाने की मांग की. इस पर जोशी ने कहा कि क्या विपक्ष के नेता इस बात की गारंटी देंगे कि फिर से सदन में तख्तियां नहीं दिखाई जाएंगी.

Related Articles

Back to top button