तीसरे कार्यकाल में भ्रष्टाचार पर प्रहार और तेज होगा : मोदी

रूद्रपुर. विपक्ष पर भ्रष्टाचारियों को बचाने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को जोर देकर कहा कि चुनाव के बाद उनके तीसरे कार्यकाल में भ्रष्टाचार पर प्रहार और तेज होगा . उत्तराखंड में 19 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार की शुरुआत करते हुए यहां ‘विजय शंखनाद’ रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ”तीसरे कार्यकाल में भ्रष्टाचार पर और तेज प्रहार होगा. यह गारंटी मैं आपको देने आया हूं.”

उन्होंने कहा, ”भ्रष्टाचार हर गरीब का हक छीनता है, मध्यम वर्ग का हक छीनता है और मैं गरीब या मध्यम वर्ग का हक किसी को छीनने नहीं दूंगा. ‘ कथित शराब घोटाले में घिरे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के समर्थन में एकजुट विपक्ष का परोक्ष रूप से जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि 2024 के चुनाव में स्पष्ट रूप से दो खेमे बन गए हैं. उन्होंने कहा कि एक तरफ हम लोग ईमानदारी और पारर्दिशता के साथ जनता के सामने हैं जबकि दूसरी तरफ, भ्रष्टाचारी और परिवारवादी लोगों का जमावड़ा है .

उन्होंने कहा, ”ये भ्रष्टाचारी उन्हें धमकी दे रहे हैं, दिन-रात गाली दे रहे हैं. देखिए, क्या खेल चल रहा है. हम कहते हैं कि भ्रष्टाचार मिटाओ और वह कह रहे हैं कि भ्रष्टाचारी बचाओ.” प्रधानमंत्री ने कहा कि आने वाले पांच साल अभूतपूर्व काम और बड़े फैसलों के लिए होंगे लेकिन उसके लिए जनता को उन्हें और मजबूत करना होगा .

विपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ‘इंडी गठबंधन’ में शामिल कांग्रेस के शाही परिवार के शहजादे ने ऐलान किया है कि अगर देश ने तीसरी बार भाजपा सरकार को चुना तो आग लग जाएगी . प्रधानमंत्री ने कहा कि 60 साल तक देश पर राज करने वाले 10 साल सत्ता से बाहर रहते ही देश में आग लगाने की बात कर रहे हैं .

उन्होंने जनता से पूछा कि क्या वे ऐसे लोगों का सजा नहीं देंगे और चुन-चुन कर ऐसे लोगों को मैदान से बाहर नहीं करेंगे. मोदी ने कहा कि इमरजेंसी की बात करने वाली कांग्रेस को लोकतंत्र पर भरोसा नहीं बचा है और इसलिए वह जनादेश के विरूद्ध लोगों को भड़काने में जुट गयी है . उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस देश को अस्थिरता की तरफ ले जाना चाहती है और अराजकता में झोंकना चाहती है .

उन्होंने कांग्रेस की आलोचना करते हुए कहा कि दक्षिण भारत को देश से अलग करने की बात कहने वाले कर्नाटक के अपने एक बड़े नेता को सजा देने की बजाय उसने उसे चुनाव में टिकट दे दिया. मोदी ने कहा कि कांग्रेस तुष्टिकरण के दलदल में ऐसी धंस गयी है कि कभी देशहित के बारे में सोच ही नहीं सकती . इस संबंध में उन्होंने सीएए का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस घुसपैठियों को तो बढ़ावा देती है, लेकिन जब भाजपा देश में आस्था रखने वालों शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देती है तो उसे तकलीफ होती है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश से जो शरणार्थी आए हैं,उनमें से अधिकतर दलित परिवार हैं लेकिन कांग्रेस इन्हें नागरिकता देने का विरोध कर रही है. हालांकि उन्होंने कहा, ”कांग्रेस इसका कितना भी विरोध करे, इन लोगों के पास मोदी की गारंटी है.” उन्होंने उत्तराखंड की जनता को याद दिलाया कि कांग्रेस ने दिवंगत प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत का भी अपमान किया था.

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के ‘गुनाह’ का एक और ताजा उदाहरण सामने आया है जहां तमिलनाडु के पास समुद्र में स्थित ‘कच्छद्वीप’ नाम के टापू को उसने श्रीलंका को दे दिया . उन्होंने कहा कि भारतीय मछुआरे यदि गलती से भी उस द्वीप के आसपास चले जाते है तो उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाता है . उन्होंने कहा, ”देश के टुकड़े करने वाली कांग्रेस क्या देश की रक्षा कर सकती है.” मोदी ने जनता से प्रदेश की पांचों सीटों पर एक बार फिर भाजपा को विजयी बनाने का आग्रह करते हुए उनसे गांव-गांव जाकर मंदिरों में उनकी तरफ से माथा टेकने और लोगों से प्रणाम कहने की भी अपील की.

उत्तराखंड के प्रति अपने अपनत्व का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 10 वर्षो में राज्य में जितना विकास हुआ, उतना आजादी के बाद के 60-65 वर्षों में भी नहीं हुआ . उन्होंने कहा कि वर्तमान दशक उत्तराखंड का है और उसे सबसे आगे लेकर जाना है .
अपने नेतृत्व वाली सरकार द्वारा लागू की गयी योजनाओं से उत्तराखंड की जनता को हुए लाभ के आंकड़े पेश करते हुए उन्होंने कहा कि इतने सारे काम इसीलिए संभव हो पाए क्योंकि जब नीयत सही होती है तो नतीजे भी सही होते हैं.

मोदी ने कहा कि घर-घर में ‘सौर उर्जा’ पैनल योजना को बढ़ावा दिया जा रहा है जिससे न केवल लोगों को निशुल्क बिजली मिलेगी, बल्कि उनकी कमाई भी होगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि वह इतना सारा काम करने के बावजूद न तो वह थकते हैं और न ही रूकते हैं, क्योंकि वह मौज करने के लिए नहीं, बल्कि मेहनत करने के लिए पैदा हुए हैं.

Related Articles

Back to top button