‘आप’ लोगों के लिए ‘उम्मीद की किरण’, उसे कुचलने के प्रयास हो रहे: केजरीवाल

नयी दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरंिवद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) देश के लिए उम्मीद की किरण बनकर उभरी है और यही वजह है कि उसे कुचलने के प्रयास किए जा रहे हैं। गौरतलब है कि केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने केजरीवाल को आबकारी नीति मामले में पूछताछ के लिए रविवार को तलब किया है। इस पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने कहा कि वह रविवार को एजेंसी के समक्ष पेश होंगे।

दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि पिछले 75 वर्ष में ‘आप’ की तरह किसी भी पार्टी को निशाना नहीं बनाया गया।
उन्होंने कहा, ‘‘…ऐसा इसलिए, क्योंकि ‘आप’ ने लोगों में उम्मीद जगाई है कि वह गरीबी मिटा देगी और उन्हें शिक्षित बनाएगी। वे हमें निशाना बनाकर इस उम्मीद को तोड़ना चाहते हैं।’’ ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक ने कहा कि आबकारी नीति एक उत्कृष्ट नीति है और पंजाब में यह अच्छी तरह से चल रही है, जहां पार्टी सत्ता में है।

सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पर झूठे शपथपत्र दायर करने का आरोप लगाते हुए केजरीवाल ने कहा कि वे आरोप लगा रहे हैं कि पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 14 फोन नष्ट किए, लेकिन ‘सच्चाई अलग’ है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘इनमें से चार फोन ईडी और एक फोन सीबीआई के पास है। ज्यादातर अन्य फोन सक्रिय हैं और लोग इस्तेमाल कर रहे हैं। सीबीआई और ईडी यह जानती हैं। वे अदालत में झूठे शपथपत्र दायर कर रही हैं।’’

केजरीवाल ने कहा कि ऐसा आरोप है कि 100 करोड़ रुपये लिए गए। उन्होंने सवा किया कि यह पैसा कहां हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘400 से अधिक छापे मारे गए… पैसा कहां है? ऐसा कहा गया कि धन का इस्तेमाल गोवा चुनाव में किया गया। उन्होंने गोवा के प्रत्येक विक्रेता से पूछताछ कि जिन्हें हमने नौकरी दी थी, लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिल पाया। आबकारी नीति में सवाल भ्रष्टाचार का नहीं है।’’

केजरीवाल ने कहा कि उन्हें बताया गया था कि पिछले महीने विधानसभा में भ्रष्टाचार के बारे में बोलने के बाद ‘‘अगला नंबर उनका होगा।’’ बाद में एक ट्वीट में केजरीवाल ने कहा, ‘‘हम अदालतों में झूठी गवाही देने और झूठे सबूत पेश करने के लिए सीबीआई और ईडी अधिकारियों के खिलाफ उचित मामले दर्ज कराएंगे।’’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button