बंदूकें, टैंक और ट्विटर: कैसे रूस और यूक्रेन युद्ध में सोशल मीडिया का उपयोग कर रहे हैं

सोशल मीडिया यूक्रेन पर रूसी आक्रमण को समझने की कोशिश कर रहे दुनिया भर के जिज्ञासु लोगों के लिए सूचना का प्राथमिक स्रोत बन गया है। साथ ही, इसका उपयोग रूस और यूक्रेन की सरकारों द्वारा व्यापक मीडिया रिपोर्टिंग का एजेंडा निर्धारित करने के लिए किया जा रहा है।

ट्विटर पर रूस के आधिकारिक अकाउंट्स पर रूस के समर्थन में जमकर प्रचार किया जा रहा है। इस बीच, यूक्रेनी सरकार ने अपने 20 लाख फॉलोअर्स से समर्थन की अपील के लिए इसी मंच का सहारा लिया है। सूचना युद्ध अब रणनीति का एक अतिरिक्त अंग नहीं है, बल्कि सैन्य अभियानों का एक समानांतर घटक है। सोशल मीडिया के उदय ने यह देखना पहले से कहीं अधिक आसान बना दिया है कि राज्य जन संचार को एक हथियार के रूप में कैसे उपयोग करते हैं।

सोशल मीडिया का इस्तेमाल

साम्राज्यों की स्थापना और नियंत्रण के उद्देश्य से राजनीतिक संचार के रूप में जन संचार शुरू हुआ। चाहे वह फारसी साम्राज्य को नियंत्रित करने में मदद के लिए इमारतों और सिक्कों पर अपनी छवि उकेरने वाला दारियस द ग्रेट हो; हेनरी श्ककक का छवियों का उपयोग , या द्वितीय विश्व युद्ध में रेडियो और फिल्म के अच्छी तरह से प्रलेखित उपयोग – राजनीतिक विचारों को फैलाने के लिए मीडिया तकनीकों का लंबे समय से उपयोग किया जाता रहा है।

सोशल मीडिया ने इसमें एक और तत्व जोड़ा है, और रणनीतिक राजनीतिक संचार में तात्कालिकता को जन्म दिया है। विषम संघर्षों में (जैसे कि हम अब यूक्रेन में देख रहे हैं), एक सफल सोशल मीडिया अकाउंट कई बंदूकों और टैंकों के साथ विरोधी के खिलाफ एक उपयोगी हथियार हो सकता है। 2010 के अरब स्थानीय विद्रोह, विशेष रूप से मिस्र और ट्यूनीशिया में, उन पहले अभियानों में से थे जहां सोशल मीडिया ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

लोकतंत्र के पैरोकारों ने संचार के नेटवर्क को बनाए रखने के लिए ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब का इस्तेमाल किया और दुनिया के सामने अपनी सरकारों की खुले तौर पर आलोचना की। सरकारों को सोशल मीडिया की ताकत का एहसास होने में देर नहीं लगी। और उन्होंने सोशल मीडिया तक पहुंच को प्रतिबंधित करने के साथ-साथ स्वयं इसका उपयोग करके दोनों का जवाब दिया।

यह सच है कि अकेला सोशल मीडिया व्यापक परिवर्तन को भड़काने में सक्षम नहीं हो सकता है, लेकिन यह इसमें निस्संदेह एक भूमिका जरूर निभा सकता है।

सूचना युद्ध

रूस और यूक्रेन के बीच तनाव का एक लंबा इतिहास रहा है, और इस ताजा हमले से पहले ही सोशल मीडिया पर इन दोनो में एक दूसरे के खिलाफ गर्मागर्मी शुरू हो गई थी। रूस समर्थक अकाउंट्स से 2014 से पहले से डोनेट्स्क क्षेत्र में रूस की भूमिका के बारे में प्रचार किया जा रहा है, जिससे भ्रम और अस्थिरता को बढ़ावा मिला, और इससे इलाके पर रूस के अधिग्रहण में मदद मिली। यह वास्तव में रूस के ‘‘आधुनिक युद्ध’’ विचार का एक महत्वपूर्ण तत्व था।

रूस की रणनीतिक कार्रवाइयों और यूक्रेन की जवाबी कार्रवाइयों का शोधकर्ताओं द्वारा व्यापक रूप से अध्ययन किया गया है। अप्रत्याशित रूप से, अध्ययन ने पाया गया कि प्रत्येक पक्ष बहुत अलग, और भिन्न्-भिन्न तरीकों से संघर्ष की तैयारी कर रहा है। शोध में यह भी पाया गया कि सोशल मीडिया न सिर्फ यूक्रेनियन और रूसियों के बीच आॅनलाइन शत्रुता को बनाए रख सकता है, बल्कि इसे बढ़ा भी सकता है।

उदाहरण के लिए, मलेशियाई एयरलाइन की उड़ान एमएच17 को यूक्रेन के ऊपर रूस द्वारा मार गिराए जाने के बाद, 950, 000 ट्विटर पोस्ट के विश्लेषण में आॅनलाइन प्रतिस्पर्धी दावों का अंबार मिला, जो सच तक पहुंचने में रूकावट पैदा कर रहा था और यह सिलसिला आज भी जारी है।

2014 की शुरुआत में, नाटो के सर्वोच्च सहयोगी कमांडर, जनरल फिलिप ब्रीडलोव ने यूक्रेन में रूसी संचार रणनीति को ‘‘सूचना युद्ध के इतिहास के सबसे आश्चर्यजनक सूचना युद्ध’’ के रूप में र्विणत किया था। यूक्रेन के क्षेत्र में रूस के हमले के हालिया विस्तार के बाद से ये प्रयास और तेज हो गए हैं। जिसमें उपयोगकर्ताओं के लिए विरोधाभासी, भावनात्मक और (अक्सर) सत्यापित न हो पाने वाली जानकारी की बाढ़ को समझना मुश्किल होता जा रहा है।

यह तब और भी मुश्किल हो जाता है जब पोस्ट का लहजा तेजी से बदलता है। यूक्रेन सरकार का ट्विटर अकाउंट सामग्री और टोन दोनों ही लिहाज से परस्पर विरोधाभासी है। शांतिपूर्ण समय में स्थापित किए जाने के कारण यह प्रोफÞाइल खुशी से बताता है: ‘‘हाँ, यह यूक्रेन का आधिकारिक ट्विटर अकाउंट है। सुंदर तस्वीरें: हैशटैगब्यूटीफुलयूक्रेन हमारा संगीत: हैशटैगयूकीबीट्स’’।

लेकिन अब उसी अकाउंट पर रणनीतिक संचार अभियान के हिस्से के रूप में युद्ध से संबंधित कई सामग्री, चित्र और वीडियो नजर आ रहे हैं। इसमें गंभीर समाचार अपडेट, ऐतिहासिक घटनाओं और लोगों के लिए देशभक्ति के संदेश, रूस विरोधी सामग्री और – सामूहिक मौतों की हालिया रिपोर्टों से पहले – काफी हास्य शामिल है।

हास्य का उपयोग क्यों करें?

हास्य का संचार और सार्वजनिक कूटनीति के एक तत्व के रूप में उपयोग किए जाने का एक लंबा इतिहास रहा है – यहां तक ??कि युद्धों के दौरान भी। उदाहरण के लिए, तानाशाह स्लोबोडन मिलोसेविक को उखाड़ फेंकने के अपने अभियान में र्सिबयाई ओटपोर प्रतिरोध आंदोलन द्वारा हास्य का प्रभावी ढंग से उपयोग किया गया था।

और यूक्रेन की रक्षा के मामले में, यह अवज्ञा प्रर्दिशत करता है। आखिरकार, यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जÞेलेंस्की (एक पूर्व कॉमेडियन) एक व्यंग्यपूर्ण टेलीविजन कार्यक्रम की वजह से राजनीतिक सुर्खियों में थे। इसमें उन्होंने एक शिक्षक की भूमिका निभाई, जिसका भ्रष्टाचार के बारे में गुप्त रूप से फिल्माया गया व्यंग्य वायरल हो जाता है, जिससे वह चरित्र राष्ट्रपति बन जाता है।

ग्रैमी अवार्ड्स के लिए जÞेलेंस्की का हालिया संबोधन इस बात को पुष्ट करता है कि वह इस महत्वपूर्ण ंिबदु पर दुनिया को नजर आने की अहमियत को समझते हैं। इसके विपरीत रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का ट्विटर अकाउंट 16 मार्च से निष्क्रिय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

Happy Navratri 2022


Happy Navratri 2022

This will close in 10 seconds