आईएएस अधिकारी की निजी कार पर लालबत्ती के अनधिकृत इस्तेमाल की जांच करेगी पुणे पुलिस

पुणे. पुणे पुलिस विवादास्पद आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर के पुणे में पदस्थापन के दौरान उनकी निजी कार पर अनधिकृत तौर पर ‘लाल और नीली’ बत्ती लगाने तथा महाराष्ट्र सरकार की ‘नेमप्लेट’ लगाने की गहन जांच करेगी और जरूरी कार्रवाई करेगी. एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि खेडकर द्वारा इस्तेमाल की गयी ऑडी कार एक निजी कंपनी के नाम से पंजीकृत है और अतीत में इस वाहन के खिलाफ चालान काटे गये हैं.

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) की 32 वर्षीय परिवीक्षाधीन अधिकारी खेडकर ने अलग केबिन और र्किमयों की मांग कर विवाद खड़ा कर दिया था जिसके बाद प्रशिक्षण पूरा होने से पहले ही उनका तबादला पुणे से विदर्भ क्षेत्र के वाशिम में कर दिया गया. उन्होंने बृहस्पतिवार को वाशिम जिला समाहरणालय में सहायक जिलाधिकारी के तौर पर अपना पदभार संभाला. पूजा खेडकर पर ये आरोप भी हैं कि उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा पास करने के लिए कथित रूप से फर्जी दिव्यांग और अन्य पिछड़ा वर्ग प्रमाणपत्र सौंपे थे. जब पुणे पुलिस की एक टीम बृहस्पतिवार को यहां पाषाण क्षेत्र में खेडकर के बंगले पर लालबत्ती और वीआईपी नंबर संबंधी उल्लंघन के सिलसिले में ऑडी कार का निरीक्षण करने गई, तो उसे बंगले के द्वार बंद मिले.

पुणे पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बाद में कहा, ”ऑडी कार से संबंधित कथित उल्लंघन के सिलसिले में मोटर वाहन अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी. पाया गया है कि खेडकर ने जो कार इस्तेमाल की थी, वह एक निजी कंपनी के नाम से पंजीकृत थी.” उन्होंने कहा, ”इस मामले की गहन जांच की जाएगी क्योंकि उनकी निजी गाड़ी पर ‘लाल-नीली’ बत्ती लगायी गयी थी और उस पर ‘महाराष्ट्र शासन’ की नेमप्लेट भी लगी थी. अतीत में उस कार के खिलाफ चालान भी काटे गये थे लेकिन हम उन उल्लंघनों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं जो गाड़ी से किए गए हैं.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button