बांग्लादेश को रोमांचक मुकाबले में दो विकेट से हराकर श्रीलंका ‘सुपर फोर’ में

दुबई. किस्मत के रथ पर सवार कुसल मेंडिस की 60 रन की पारी के साथ कप्तान दासून शनाका (45 रन) के साथ पांचवें विकेट के लिए 54 रन की साझेदारी के दम पर श्रीलंका ने एशिया कप टी20 टूर्नामेंट के रोमांचक मुकाबले में गुरुवार को यहां बांग्लादेश को दो विकेट से शिकस्त देकर ‘सुपर फोर’ में अपनी जगह पक्की की.

दोनों टीमों के लिए करो और मरो के मुकाबले में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट पर 183 रन बनाये. श्रीलंका ने चार गेंद शेष रहते इस लक्ष्य को हासिल कर लिया.  टीम को पदार्पण कर रहे 10वें क्रम के बल्लेबाज असिथा फर्नांडो ने तीन गेंद में नाबाद 10 रन बनाकर जीत दिला दी.

दुबई के मैदान पर यह लक्ष्य का पीछा करते हुए यह सबसे बड़ी जीत है.  मेंडिस को अपनी पारी के दौरान चार जीवनदान मिले. उन्होंने 37 गेंद में चार चौके और तीन छक्के जड़े. शनाका ने 33 गेंद की पारी में तीन चौके और दो छक्के लगाये. श्रीलंका के लिए पदार्पण कर रहे इबादत हुसैन ने चार ओवर में 51 रन देकर तीन विकेट लिये.

इससे पहले अफीफ हुसैन (22 गेंद में 39 रन), मेहदी हसन मिराज (26 गेंद में दो चौके और दो छक्के की मदद से 38 रन), महमूदुल्लाह (22 गेंद में 27 रन) और मोसादेक हुसैन की आक्रामक पारियों के दम पर बांग्लादेश ने श्रीलंका के खिलाफी टी20 अंतरराष्ट्रीय में अपना सर्वोच्च स्कोर खड़ा किया. मोसादेक हुसैन ने आखिरी ओवरों में नौ गेंद की नाबाद पारी में चार चौकों की मदद से 24 रन बनाकर टीम के स्कोर को 183 के पार पहुंचाया.

टीम के लिए कप्तान शाकिब अल हसन ने 22 गेंद में 24 रन का योगदान दिया. वह इस दौरान टी20 (घरेलू, लीग और अंतरराष्ट्रीय) में 6000 रन और 400 विकेट पूरा करने वाले दूसरे क्रिकेटर बने.   श्रीलंका के लिए वांिनदु हसरंगा और चमिका करुणारत्ने ने दो -दो विकेट लिये.

बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए पथुम निसंका और मेंडिस ने शुरुआती पांच ओवर में 44 रन जोड़कर श्रीलंका को शानदार शुरुआत दिलायी. इस दौरान दूसरे ओवर में तस्कीन अहमद की गेंद पर विकेटकीपर रहीम ने मेंडिस का कैच टपका दिया. निसंका ने चौथे ओवर में गेंदबाजी के लिये आये मुस्ताफिजुर रहमान के खिलाफ छक्का और चौका लगाया तो वहीं मेंडिस ने पांचवें ओवर शाकिब के खिलाफ लगातार दो छक्के और चौका जड़ा.

पदार्पण कर रहे इबादत हुसैन ने इसके बाद छठे ओवर में बांग्लादेश को दो सफलता दिलायी. उन्होंने निसंका (20 रन) की पारी को खत्म करने के बाद चरिथ असलंका को एक रन पर पवेलियन भेजा. इबादत ने इसके बाद दनुष्का गुणतिलका की पारी को तस्कीन के हाथों कैच कराकर खत्म किया. उन्होंने छह गेंद में 11 रन बनाये.

तस्कीन ने नौवें ओवर में भानुका राजपक्षे (दो रन)  को आउट कर बांग्लादेश को बड़ी सफलता दिलायी. शनाका 13वें ओवर में इबादत के खिलाफ लगातार दो छक्के लगाकर जरूरी रन गति को कम किया. इसी ओवर में मेंडिस ने 32 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया. श्रीलंका ने इस ओवर से 22 रन बटोरे. मेंडिस ने इसके बाद गेंदबाजी पर आये मिराज की गेंद पर छक्का जड़ा लेकिन 15वें ओवर में मुस्तफिजुर रहमान की गेंद पर उन्होंने  तस्कीन को कैच थमा दिया.

लगातार दो विकेट गिरने के बाद भी शनाका ने 17वें ओवर में मुस्तफिजुर और 18वें ओवर में मेहदी हसन के खिलाफ चौके जड़े. मेहदी ने हालांकि 18वें ओवर में उन्हें बाउंड्री के पास मोसादेक हुसैन के हाथों कैच कराया. चमिका करूणारत्ने (16 रन) ने इबादत हुसैन के खिलाफ चौका लगाया लेकिन इसी ओवर में एक रन चुराने के चक्कर में शाकिब के थ्रो पर रन आउट हो गये. पदार्पण कर रहे असिथा फर्नांडो ने इसके बाद तीन गेंद में दो चौके जड़े जिससे मैच श्रीलंका के नाम हो गया.

टॉस जीतकर गेंदबाजी करने का फैसला करने के बाद फर्नांडो (51 रन पर एक विकेट) ने पारी के तीसरे ओवर में शब्बीर रहमान (पांच रन) को पवेलियन की राह दिखाकर श्रीलंका को पहली सफलता दिलायी. मिराज ने चौथे ओवर में महीश तीक्षना की गेंद पर छक्का और पांचवें ओवर में फर्नांडो के खिलाफ लगातार गेंदों पर छक्का और चौका लगा कर रन गति को तेज किया. फर्नांडो के इस ओवर से बांग्लादेश ने 18 रन बटोरे.

अगले ओवर में  मिराज ने एक और चौका जड़ा जिससे पावरप्ले में टीम का स्कोर एक विकेट पर 55 रन हो गया. सातवें ओवर में गेंदबाजी के आये हसरंगा ने मिराज को बोल्ड कर 26 गेंद में 38 रन की उनकी पारी को खत्म किया. अगले ओवर में करुणारत्ने की उछाल लेती गेंद पर मुशफिकुर रहीम (चार रन) विकेटकीपर मेंडिस को कैच देकर आउट हुए.

कप्तान शाकिब अल हसन ने जोखिम उठाकर नौवें और 10वें ओवर में चार गेंद पर तीन चौके जड़े. तीक्षना ने 11वें ओवर में उन्हें बोल्ड करके उनकी पारी को खतरनाक होने से पहले ही रोक दिया.  इसके बाद अफीफ हुसैन और महमुदुल्लाह तेजी से रन बटोरे. अफीफ इस दौरान ज्यादा आक्रामक रहे. उन्होंने 13वें ओवर में हसरंगा और 16वें ओवर में फर्नांडो के खिलाफ लगातार गेंदों पर चौका और छक्का लगाया तो वहीं महमुदुल्लाह ने यही काम पारी के 15वें ओवर में हसरंगा के खिलाफ किया.

दोनों की अर्धशतकीय साझेदारी को मदुशंका ने 17वें ओवर में अफीफ को आउट कर तोड़ा. 18वें ओवर में हसरंगा ने महमुदुल्लाह को चलता किया. इसके के बाद मोसादेक ने अपनी आक्रामक बल्लेबाजी से श्रीलंका के गेंदबाजों को दबाव में ला दिया. आखिरी ओवर में तस्कीन (नाबाद 11) ने भी छक्का लगाया जिससे टीम ने 180 के स्कोर को पार किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button