आज साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानिए भारत में सूतक मान्य होगा या नहीं…

चंद्र ग्रहण 2023: जब चंद्रमा और पृथ्वी एक रेखा में आते हैं तो ग्रहण लगता है। इस साल साल का पहला चंद्र ग्रहण आज यानि 5 मई को लग रहा है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ग्रहण को अशुभ माना जाता है। यानी ग्रहण में कोई भी शुभ कार्य करना वर्जित होता है। इस बार कई संयोग में साल का पहला ग्रहण लग रहा है। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि 5 मई को वैशाख पूर्णिमा और बुद्ध पूर्णिमा भी है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ये चंद्र ग्रहण उपछाया ग्रहण होगा।

कब लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण?

साल का पहला चंद्र ग्रहण 5 मई, शुक्रवार के दिन लगेगा. यह ग्रहण 5 मई की रात में 8 बजकर 46 मिनट से शुरू होगा और मध्यरात्रि के बाद 1 बजकर 2 मिनट पर समाप्त होगा। 5 मई को लगने वाला यह ग्रहण एक उपछाया चंद्रग्रहण होगा। यह चंद्रग्रहण लगभग 4 घंटे 15 मिनट की अवधि का होगा। इससे पहले साल का पहला सूर्य ग्रहण 20 अप्रैल को लगा था। यह चंद्र ग्रहण तुला राशि और स्वाति और अनुराधा नक्षत्र में लगेगा।

सूतक मान्य होगा या नहीं

चंद्रग्रहण में भगवान विष्णु के सहस्त्र नामो का पाठ करना चाहिए. हालांकि भारत में चंद्र ग्रहण नहीं दिखाई देगा इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। हालांकि जब ग्रहण लगता है तो उसके कुछ घंटे पहले सूतक काल शुरू हो जाता है। उस दौरान पूजा-पाठ खाने पीने की मनाही रहती है।

इन जगहों पर दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

साल का पहला चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा। यह चंद्र ग्रहण एशिया, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण पूर्वी यूरोप के कुछ भागों में दिखाई देगा. चंद्र ग्रहण का सूतक काल 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है। 5 मई को लगने वाला चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा इसलिए यहां इसका सूतक काल भी नहीं माना जाएगा। सूतक काल ना लगने की वजह से यहां पूजा-पाठ या किसी भी धार्मिक कार्यों पर रोक नहीं लगेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button