बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना रहेगी जारी : ओडिशा सरकार

भुवनेश्वर. ओडिशा सरकार ने बृहस्पतिवार को राज्य की जनता को आश्वासन दिया कि बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना (बीएसकेवाई) कार्डधारकों को अस्पतालों में इलाज मिलना जारी रहेगा. राज्य सरकार का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब ऐसे आरोप लगाए जा रहे हैं कि कुछ निजी अस्पताल मौजूदा समय में लाभार्थियों को कैशलेस सेवाएं देने से इनकार कर रहे हैं.

ओडिशा विधानसभा चुनाव परिणाम में बहुमत प्राप्त करने वाली भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने घोषणा की है कि राज्य में सरकार बनने पर वह बीएसकेवाई के स्थान पर आयुष्मान भारत योजना को लागू करेगी. सूत्रों ने दावा किया कि भाजपा के ओडिशा में सत्ता हासिल करने के तुरंत बाद कुछ अस्पतालों ने मरीजों को बीएसकेवाई का लाभ देने से इनकार करना शुरू कर दिया है. राज्य के मुख्य सचिव पी के जेना ने आश्वासन दिया कि बीएसकेवाई कार्डधारकों को सूचीबद्ध अस्पतालों में उपचार मिलता रहेगा.

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार चार जून को सूचीबद्ध अस्पतालों ने 5,800 से अधिक मरीजों के लिए उपचार पैकेज बुक किए, तथा पांच जून को 5,389 से अधिक मरीजों के लिए उपचार पैकेज बुक किए गए. मुख्य सचिव पी के जेना ने कहा, ”बीएसकेवाई पर सूचीबद्ध अस्पतालों के साथ हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन लागू रहेंगे. ” उन्होंने कहा कि सरकार ने सभी सूचीबद्ध अस्पतालों को सामान्य रूप से उपचार जारी रखने का निर्देश दिया है.

ओडिशा सरकार ने एक बयान में कहा, ”स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने स्पष्ट किया है कि स्वीकृत बजटीय सहायता के साथ बीएसकेवाई योजना लागू है. अस्पतालों को यह सुनिश्चित करना है कि मरीजों को सेवाएं प्राप्त करने में कोई कठिनाई या व्यवधान न हो.” जेना ने कहा कि बीएसवाईके के तहत किसी भी अस्पताल में इलाज से इनकार किए जाने पर लोग स्वास्थ्य विभाग की हेल्पलाइन 104 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. उन्होंने कहा कि सरकारी आदेशों का उल्लंघन करने वाले अस्पतालों को सख्त परिणाम भुगतने होंगे. इस बीच, राज्यपाल रघुबर दास ने बीएसवाईके को लेकर मीडिया में आई खबरों पर चिंता व्यक्त की है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button