किसान पहले साहूकार के घर जाते थे, अब बैंक जाते हैं: भूपेश बघेल

रायपुर. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के किसान खेती की जमीन खरीद रहे हैं, खेती-किसानी में निवेश कर रहे हैं और अपने बच्चों का भविष्य गढ़ रहे हैं. पहले किसान साहूकार के घर जाते थे, अब बैंक में उनका पैसा जमा रहता है. किसानों को योजनाओं के माध्यम से दिया जा रहा पैसा बैंकिंग सिस्टम में आ रहा है, इससे विकास तेज होगा, ये किसानों की समृद्धि लाने का बड़ा परिवर्तन है. मुख्यमंत्री बघेल आज भेंट-मुलाकात में बेमेतरा जिले की नवागढ़ विधानसभा के ग्राम-दाढ़ी में आम जनता को संबोधित कर रहे थे.

मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य सरकार की किसान हितैषी योजनाओं से छत्तीसगढ़ के किसानों की स्थिति में बड़ा बदलाव आया है, हमारा प्रदेश धान का कटोरा है, फिर भी कुछ समय पहले तक हमारे प्रदेश में यह स्थिति थी कि लोगों को खेती छोड़नी पड़ रही थी. लेकिन अब ऐसा नहीं है. छत्तीसगढ़ के किसान खुशहाल हैं. खेती में निवेश कर रहे हैं. बाइक ले रहे हैं. ये खुशहाली का सिलसिला जारी रहेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि आज नवागढ़ विधानसभा के दाढ़ी गांव में आया हूँ. यहां आने का उद्देश्य यह देखना है कि हमारी योजनाओं का लाभ जमीनी स्तर पर लोगों को किस प्रकार से मिल पा रहा है. मंत्रालय के अधिकारी और विधानसभा के सदस्य भी साथ हैं. उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य जनता से संवाद करना है. और इस तरह से प्रदेश को निरंतर विकास के रास्ते में ले जाना है.

मुख्यमंत्री बघेल ने कर्ज माफी और धान खरीदी पर चर्चा करते हुए कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना की चौथी किश्त 31 मार्च को देंगे. कोरोना के बाद भी हमने आपके लिए हितकारी योजनाओं को जारी रखा. बहुत कठिन स्थिति थी फिर भी हमने किश्त देना जारी रखा. राजीव गांधी जी के शहादत के दिन पहला किश्त दिया, तीजा के समय, फिर धान लुवाई के समय और उन्हारी के समय चौथी किश्त मिलेगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि बेमेतरा में यह समय बहुत खूबसूरत होता है,पपीता, गन्ना, केला की फसल होती है. मैंने नवागढ़ में देखा कि कहीं भी पैरा नहीं जलाया गया. मैंने आपसे अपील की और आपने सम्पूर्णतः इसे माना, इसके लिए आपको बधाई.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ग्राम दाढ़ी में आयोजित भेंट-मुलाकात में अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं की. उन्होेंने ग्राम दाड़ी को पूर्ण तहसील का दर्जा देने, ग्राम दाड़ी में स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल, साहड़ा देव चौक से मुख्य प्रवेश द्वार तक सीसी रोड का निर्माण, ग्राम दाड़ी में सामुदायिक भवन का निर्माण, सेमरिया से भैंसबोड़ होते हुए सेंदरी तक सड़क का निर्माण, राजा बाड़ा के जीर्णाेद्धार, ग्राम प्रतापपुर में जिला सहकारी बैंक की शाखा प्रारंभ करने तथा चरगवां में हाई स्कूल व तरके में प्राथमिक स्कूल के लिए नवीन भवन के निर्माण की घोषणा की.

गौठान समिति स्वयं की राशि से कर रही है गौठान का रखरखाव
भेंट-मुलाकात में दमेडीह गौठान समिति के अध्यक्ष प्रभुराम ने बताया कि हमारी समिति में 6 लाख रुपया आया है. गौठान के रखरखाव का खर्च उसी में होता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे समाजवादी नेता कहते थे कि एसी रूम में बैठकर नीति नहीं बनती. आप लोग गांव में बैठकर योजना बना रहे हैं और यहीं पर खर्च कर रहे हैं. हम सब यह सपना देखते थे. हमारे पुरखे भी यही सपना देखते थे. महात्मा गांधी का भी यही सपना था. आज यह सपना पूरा हो रहा है. आप लोग गांव का पैसा, गांव के ही विकास में लगा रहे हैं.

दिव्यांगजनों द्वारा अधिकृत व्यक्ति भी राशन दुकान से राशन ले सकेंगे
भेंट-मुलाकात में दिव्यांगजनों को राशन दुकान जाकर राशन लेने में आ रही दिक्कत की समस्या एक हितग्राही ने रखी, इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसका निर्देश आ गया है कि ऐसे मामले में नियमानुसार अधिकृत व्यक्ति भी राशन ले सकते हैं. जब दुकान तक आने में गंभीर दिक्कत हो.

गेंद सिंग का 90 हजार रूपए का कर्ज हुआ माफ
भेंट-मुलाकात में गेंदसिंग वर्मा ने बताया कि उनकी साढ़े चार एकड़ जमीन है. 90 हजार का कर्ज माफ हुआ. पैसे का बोर खनन कराया. तार फेंसिंग की है ताकि रबी फसल ले पाऊं. मुख्यमंत्री से बात करते हुए इन्द्रू साहू ने बताया कि ऋण माफी में उनका एक लाख का कर्ज माफ हुआ है, धान भी बेच दिया हूँ, पैसा खाते में आ गया है. इसे सुनकर मुख्यमंत्री ने पूछा – पत्नी के लिए क्या लिया, उत्तर में इन्द्रू ने बताया कि पत्नी और 2 बहू दोनों के लिए करधन लिया हूँ. राजीव गांधी किसान न्याय योजना की हितग्राही अनिता साहू ने मुख्यमंत्री को बताया कि योजना से जो पैसा मिला, उससे बच्चों को पढ़ा रही हूं. इस पर उनकी तारीफ करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छा भविष्य गढ़ रही हैं अपने बच्चों का.

मुख्यमंत्री जी भूमिहीन योजना बहुत बढ़िया हे
भेंट-मुलाकात में ग्राम दाढ़ी की रहने वाली नीलम साहू ने बताया कि हमारे परिवार में 4 सदस्य हैं, 40 किलो चावल, दो किलो नमक निःशुल्क मिलता है. शक्कर के बस 17 रुपए देना पड़ता है. आशीष सिन्हा ने कहा कि मुख्यमंत्री जी भूमिहीन योजना बहुत बढ़िया हे, थोड़किन पैसा अऊ बढ़ा देतेव. इस पर मुख्यमंत्री खूब मुस्कुराए और कहा राहुल जी आये थे, उन्होंने भी कहा, तब राशि बढ़ाई.

दुलापा को गोधन योजना से घर चलाने में मिली बड़ी मदद
भेंट-मुलाकात में गोधन न्याय योजना के बारे में पूछने पर मुख्यमंत्री बघेल को दुलापा यादव ने बताया कि 500 क्विंटल गोबर बेच चुकी हूं. 50 हजार आ चुका है. 50 हजार और आने हैं. खेती नहीं है. अब गोधन योजना से घर चलाने में बड़ी मदद मिल रही है. श्रीमती लीला साहू ने बताया कि हमारा समूह 2020 में बना, हम लोगों ने 2 लाख 82 हजार रुपये वर्मी बेचकर कमाए. कोदो का भी काम कर रहे हैं. इसे सुनकर मुख्यमंत्री ने उन्हें बधाई दी. टेकचंद बंजारे ने कहा कि मेरा गांव झाझडीह है, सड़क नहीं है इस कारण आवाजाही में समस्या होती है. मुख्यमंत्री ने उनकी बात सुनकर गांव में सड़क कनेक्टिविटी के निर्देश दिए. सहबीन ने बताया कि गोधन न्याय योजना का लाभ मिल रहा है.गोबर बेचकर अब तक 40 हजार रुपए आमदनी की है. इन पैसों का उपयोग अब बच्चों की पढ़ाई के लिए कर रही हूं.

राजीव युवा मितान क्लब को अगली किश्त 12 जनवरी को
भेंट-मुलाकात में राजीव युवा मितान क्लब उमरिया के पन्ना लाल ने मुख्यमंत्री को राजीव युवा मितान क्लब की गतिविधियों बारे में बताते हुए कहा कि पहले इतनी सुंदर योजना नहीं थी. हम लोगों ने इसकी राशि से रामायण कराया. छत्तीसगढ़िया ओलंपिक के बारे में राधिका ने बताया कि मैंने बरसों बाद खेल खेला, फुगड़ी खेली. मेरे बच्चों ने भी खेला. बहुत आनंद आया. प्रदीप पाठक ने बताया कि हम लोगों ने गांव में खेल कराया. इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राजीव युवा मितान क्लब को 12 जनवरी को किश्त देंगे.

Back to top button