मेंगलुरु में ऑटोरिक्शा में विस्फोट ‘आतंकवाद का कृत्य’ : कर्नाटक के डीजीपी

बेंगलुरु/उधगमंडल. कर्नाटक के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) प्रवीण सूद ने रविवार को कहा कि मेंगलुरु में एक चलते ऑटोरिक्शा में हुआ विस्फोट ‘‘आतंकवाद का कृत्य’’ है. डीजीपी ने ट्वीट किया, ‘‘अब इसकी पुष्टि हो गई है. विस्फोट दुर्घटनावश नहीं हुआ, बल्कि आतंकवाद का कृत्य है जिसका उद्देश्य गंभीर नुकसान पहुंचाना था. कर्नाटक राज्य पुलिस केंद्रीय एजेंसियों के साथ गहनता से जांच कर रही है.’’ यह विस्फोट एक थाने के पास एक ऑटोरिक्शा में शनिवार शाम को हुआ जिसमें एक यात्री और चालक घायल हो गया. दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

राज्य के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा कि विस्फोट में घायल हुए लोगों को अच्छा इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है लेकिन वे अभी बात करने की स्थिति में नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘‘हमें जो सूचना मिली है उससे पता चलता है कि इस घटना के पीछे बहुत बड़ा षड्यंत्र था. दोषियों के आतंकवादी संगठनों से ताल्लुक होने की बात स्पष्ट है.’’ ज्ञानेंद्र ने कहा कि राज्य की पुलिस केंद्रीय एजेंसियों के संपर्क में है तथा एक या दो दिन में सभी जानकारियां सामने आ जाएंगी.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि विस्फोट एक कुकर में हुआ जिसमें डेटोनेटर, तार और बैटरी लगी हुई थीं. उन्होंने कहा कि विस्फोट के कारण ऑटोरिक्शा को काफी नुकसान पहुंचा है. उन्होंने कहा कि यह भी संदेह है कि यह अधिक से अधिक नुकसान पहुंचाने की कोशिश में आत्मघाती धमाके का एक नाकाम प्रयास हो. पुलिस ने बताया कि मेंगलुरु में हुआ विस्फोट कोयंबटूर में हुए कार विस्फोट से मिलता-जुलता है. शहर के पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार ने लोगों से सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने से बचने की अपील की.

आटोरिक्शा विस्फोट: बोम्मई ने कहा- संदिग्ध के आतंकी संबंध थे बल्लारी

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने रविवार को कहा कि मंगलुरु में कथित तौर पर बम विस्फोट करने वाले संदिग्ध के आतंकी संबंध थे क्योंकि वह पड़ोसी तमिलनाडु के कोयंबटूर सहित विभिन्न स्थानों पर गया था. मुख्यमंत्री बोम्मई ने यहां संवाददाताओं से कहा कि प्रारंभिक जानकारी के अनुसार यह एलईडी से जुड़ा उपकरण था. विस्फोट शनिवार शाम को एक पुलिस थाने के पास एक ऑटोरिक्शा में हुआ, जिसमें यात्री और चालक घायल हो गए. दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस सूत्रों के अनुसार विस्फोट के लिए डेटोनेटर, तार और बैटरी से लैस एक कुकर का इस्तेमाल किया गया. विस्फोट के बाद ऑटोरिक्शा के अंदरूनी हिस्से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए.

बोम्मई ने कहा, ‘‘जब संदिग्ध का अतीत खंगाला गया, तो यह स्पष्ट हो गया कि मौके से मिले आधार कार्ड में उल्लेखित नाम उस व्यक्ति से अलग था जो उसे रखे हुए था. संदिग्ध के पास एक डुप्लिकेट आधार कार्ड था. उसमें हुबली का पता था.’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिक जानकारी तब सामने आयी जब पुलिस ने संदिग्ध के मूल पते और उन स्थानों का पता लगाया जहां वह ठहरा था.

बोम्मई ने कहा, ‘‘प्रथम दृष्टया, यह एक आतंकवादी कृत्य है. वह जिन स्थानों पर गया था, जैसे कोयंबटूर या अन्य स्थान, उससे उसके आतंकी संबंधों की ओर इशारा मिलता है.’’ उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) और गुप्तचर ब्यूरो (आईबी) के अधिकारी भी मामले की जांच में राज्य पुलिस के साथ शामिल हो गए हैं. एनआईए की चार सदस्यीय टीम मौके पर पहुंच गई है और पुलिस के साथ समन्वय कर रही है.

उन्होंने कहा, ‘‘संदिग्ध अस्पताल में है. उसके होश में आने के बाद, आगे की जांच की जाएगी. जांच से और विवरण सामने आएंगे. एक व्यापक नेटवर्क है जिसका भंडाफोड़ किया जाएगा.’’ जब उनका ध्यान इस ओर आकृष्ट किया गया कि घटना उस दिन हुई जब वे मंगलुरु में थे, मुख्यमंत्री ने कहा कि वह तटीय शहर में कार्यक्रम में शामिल हुए थे और वहां से अपराह्न तीन बजे लौटे थे जबकि विस्फोट उसके बाद हुआ.

आतंकी घटना के प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया से संबंध के बारे में बोम्मई ने कहा कि जांच से सच्चाई सामने आएगी.
इस बीच, पुलिस सूत्रों ने कहा कि संदिग्ध ने जाली आधार कार्ड का उपयोग करके एक मोबाइल सिम कार्ड प्राप्त किया था, जो विस्फोट स्थल से मिला था. उन्होंने बताया कि उसने उक्त सिम कार्ड का इस्तेमाल हर जगह किया. सूत्रों ने कहा कि मामले की जांच के लिए पांच टीमों को कोयंबटूर सहित विभिन्न स्थानों पर भेजा गया है.

तमिलनाडु पुलिस आरोपी से संबंध रखने के संदेह में कर रही है एक व्यक्ति से पूछताछ

कर्नाटक के मेंगलुरु में आॅटोरिक्शा में हुए विस्फोट के सिलसिले में तमिलनाडु के उधगमंडल में 40 वर्षीय एक व्यक्ति से पूछताछ की जा रही है, क्योंकि आरोपी द्वारा इस्तेमाल किया गया मोबाइल सिमकार्ड कथित रूप से उसके आधार कार्ड पर खरीदा गया था. पुलिस ने यह जानकारी दी.

उसने बताया कि सूचना के आधार पर पुलिस कुंडासप्पाई गांव पहुंची और उसने इस घटना के बारे में सुरेंद्रन से पूछताछ की क्योंकि आरोपी ने उसके आधार कार्ड के जरिए ही सिमकार्ड हासिल किया था. पुलिस ने दावा किया था कि आरोपी द्वारा इस्तेमाल किया गया सिमकार्ड फर्जी आधार कार्ड सौंपकर खरीदा गया था जिसके बाद पुलिस सुरेंद्रन तक पहुंची.

उसने बताया कि यह पता करने के लिए पूछताछ की जा रही है कि सुरेंद्रन ने आरोपी को सिमकार्ड खरीदने में मदद पहुंचायी थी या आरोपी ने बिना उसकी जानकारी के उसका मोबाइल नंबर उपयोग किया था. उसने कहा कि सुरेंद्रन को आगे की पूछताछ के लिए कोयंबटूर ले जाया जा रहा है. मेंगलुरु में यह विस्फोट एक थाने के पास एक आॅटोरिक्शा में शनिवार शाम को हुआ था जिसमें एक यात्री और चालक घायल हो गया. दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सूत्रों ने बताया कि विस्फोट एक कुकर में हुआ जिसमें डेटोनेटर, तार और बैटरी लगी हुई थीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button