प्रधानमंत्री की टिप्पणी से भाजपा और बीआरएस के बीच आपसी समझ की अफवाहों पर लगा विराम : जावड़ेकर

हैदराबाद. भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की टिप्पणी के बाद भाजपा एवं भारत राष्ट्र समिति के बीच रणनीतिक आपसी समझ होने की कांग्रेस द्वारा फैलायी गयी अफवाहों पर विराम लग गया है. प्रधानमंत्री ने कहा था कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने 2020 में राजग में शामिल होने के अनुरोध को उन्होंने खारिज कर दिया था.

तेलंगाना में सत्तारूढ. बीआरएस द्वारा 2020 में राजग में शामिल होने के बारे में प्रदेश के मुख्यमंत्री के चंद्रशखर राव के अनुरोध को अस्वीकार किये जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की टिप्पणी के बाद कांग्रेस द्वारा फैलाई गई भाजपा और राज्य में सत्तारूढ दलके बीच गुप्त समझौते की अफवाहों पर विराम लग गया है. तेलंगाना में भाजपा के चुनाव प्रभारी जावड़ेकर ने कहा कि अब इस तरह की अटकलों पर विराम लग गया है.

जावड़ेकर ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ”इसके विपरीत, बीआरएस और कांग्रेस एक हैं. हमने इसे दसियों बार दिखाया है. हर कोई जानता है कि वे (बीआरएस और कांग्रेस) गठबंधन में कैसे थे, वे कैसे विलय करना चाहते थे, कैसे वह (मुख्यमंत्री केसीआर) केंद्र (की संप्रग सरकार) में कैबिनेट मंत्री थे .” पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अपने दावे के समर्थन में 2019 में कांग्रेस विधायकों के बीआरएस में जाने की ओर इशारा किया.

उन्होंने जोर देकर कहा कि भाजपा आगामी तेलंगाना विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ. पार्टी को हरा देगी. उन्होंने आरोप लगाया कि राजग में प्रवेश से इनकार किए जाने से निराश मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव और बीआरएस प्रधानमंत्री के राज्य के दौरे के दौरान उनकी अगवानी करने के लिए प्रोटोकॉल का पालन नहीं कर रहे थे.

मोदी की टिप्पणी के जवाब में बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष के टी रामा राव के बयान की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि केसीआर और केटीआर को बताना चाहिए कि क्या केसीआर ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की थी या नहीं? भाजपा नेता ने पूछा, ”क्या वह (रामा राव) प्रधानमंत्री को झूठा बता रहे हैं . मोदी जी ने सच कहा है . केसीआर तथा केटीआर को यह बताना चाहिये कि उन्होंने प्रधानमंत्री से मुलाकात की थी या नहीं . क्या आपने राजग में शामिल होने में रुचि दिखाई थी या नहीं . आप (राजग में) शामिल नहीं हो सकते क्योंकि प्रधानमंत्री ने इनकार कर दिया था. आप ये सच क्यों नहीं बताते .” जावड़ेकर ने कहा कि तेलंगाना की जनता बीआरएस और इनके विधायकों को ‘लूट’ मचाने के लिये सबक सिखायेगी .

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को दावा किया कि तेलंगाना की सत्तारूढ. भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) के मुखिया और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने उनसे दिल्ली में मुलाकात कर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल होने की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने राव को सत्तारूढ. गठबंधन में प्रवेश की अनुमति देने से मना कर दिया था.

मोदी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, तेलंगाना के मंत्री और केसीआर के बेटे के. टी. रामाराव ने पत्रकारों से कहा कि प्रधानमंत्री “सरासर झूठ बोल रहे हैं” और यही कारण है कि भाजपा को “सबसे बड़ी झूठ फैक्टरी” कहा जाता है. उन्होंने मोदी से पूछा, “क्या हमें पागल कुत्ते ने काटा था जो हम राजग में शामिल होना चाहते? आजकल सभी पार्टियां राजग को छोड़ रही हैं. शिव सेना ने आपको (राजग को) छोड़ दिया. जनता दल (यूनाइटेड) ने आपको छोड़ दिया है. तेलुगु देशम ने आपको छोड़ दिया है.

शिरोमणि अकाली दल ने आपको छोड़ दिया है. अब आपके साथ कौन है? सीबीआई, आईटी और ईडी के अलावा, अब भारत में कौन है?” इस बीच, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ए रेवंत रेड्डी ने आज दावा किया कि राजग सरकार पर ‘बीआरएस और भाजपा के बीच मौन सहमति’ के कारण भ्रष्टाचार को लेकर केसीआर के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप, मोदी की टिप्पणियों से साबित होता है.

Related Articles

Back to top button