सर्बिया में किशोर ने स्कूल में की गोलीबारी, आठ बच्चों और एक सुरक्षाकर्मी की मौत

बेलग्रेड. सर्बिया में एक किशोर ने राजधानी बेलग्रेड के एक स्कूल में बुधवार सुबह गोलीबारी की, जिससे आठ बच्चों और एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई. सर्बिया पुलिस ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी. बयान में कहा गया है कि गोलीबारी में एक शिक्षक और छह बच्चे घायल भी हुए हैं, जिन्हें नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बयान के अनुसार, पुलिस ने गोलीबारी करने वाले छात्र की पहचान के.के. के रूप में की है. इसमें कहा गया है कि आरोपी किशोर ने अपने पिता की बंदूक से अन्य छात्रों और स्कूल के सुरक्षाकर्मी पर गोलीबारी की. बयान के मुताबिक, गोलीबारी करने वाले किशोर की उम्र करीब 14 साल है और वह इसी स्कूल में पढ़ता है. उसे स्कूल प्रांगण से गिरफ्तार किया गया.

पुलिस ने कहा कि उसे सुबह आठ बजकर 40 मिनट के आसपास व्लादिस्लाव रिबनिकार प्राइमरी स्कूल में गोलीबारी की सूचना मिली.
गोलीबारी के समय स्कूल में मौजूद एक छात्र ने कहा, ‘‘मैंने गोलियों की आवाज सुनी. वह ताबड़तोड़ गोलियां बरसा रहा था. मुझे नहीं पता था कि वहां क्या हो रहा है. हमें फोन पर कुछ संदेश प्राप्त हो रहे थे.’’ र्सिबया में सार्वजनिक स्थानों, खासतौर पर स्कूलों में गोलीबारी की घटनाएं बेहद दुर्लभ हैं. देश में गोलीबारी की पिछली घटना 2013 में हुई थी, जिसमें एक पूर्व सैनिक ने 13 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

स्थानीय मीडिया चैनलों पर प्रसारित फुटेज में स्कूल के बाहर बच्चों को लेकर ंिचतित अभिभावकों की भीड़ नजर आई. वहीं, पुलिसकर्मी संदिग्ध को गिरफ्तार कर सड़क पर खड़े पुलिस वाहन की तरफ ले जाते दिखाई दिए. व्लादिस्लाव रिबनिकार प्राइमरी स्कूल मध्य बेलग्रेड का एक जाना-माना स्कूल है. पुलिस ने गोलीबारी की घटना के बाद इस स्कूल के आसपास के इलाके को सील कर दिया. र्सिबया में प्राइमरी स्कूलों में कक्षा आठ तक के बच्चे पढ़ते हैं.

गोलीबारी के दौरान स्कूल में मौजूद एक छात्रा ने कहा, ‘‘संदिग्ध बहुत शांत और सौम्य स्वभाव का था. वह पढ़ाई में भी अच्छा था, लेकिन हम उसके बारे में ज्यादा नहीं जानते थे.’’ छात्रा ने कहा, ‘‘वह (संदिग्ध किशोर) दूसरों से ज्यादा घुलता-मिलता नहीं था. मुझे यकीनन ऐसा कुछ होने का अंदेशा नहीं था.’’ एक अन्य छात्र ने बताया कि संदिग्ध किशोर ने पहले शिक्षक पर गोली चलाई और फिर छात्रों की तरफ बंदूक घुमा दी, जो जान बचाने के लिए मेज के नीचे छिप गए.

Related Articles

Back to top button