उडुपी शौचालय वीडियो विवाद: सीआईडी ने आरोपी छात्राओं के बयान दर्ज किये

मंगलुरु. उडुपी पैरामेडिकल कॉलेज के शौचालय में एक छात्रा का वीडियो बनाने के मामले में अपराध जांच विभाग (सीआईडी) की टीम ने आरोपी छात्राओं के बयान दर्ज किये हैं. इस मामले में तीन छात्राओं पर आरोप है कि उन्होंने पिछले माह कॉलेज के शौचालय में मोबाइल कैमरे से एक लड़की का वीडियो बनाया था. हालांकि, पीड़िता ने इसकी औपचारिक शिकायत दर्ज नहीं कराई, लेकिन पुलिस ने स्वत: संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी, जिसे हाल ही में सीआईडी को सौंपा गया है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सीआईडी के पुलिस अधीक्षक राघवेंद्र और उप पुलिस अधीक्षक अंजुमला नायक के नेतृत्व में अधिकारियों ने आरोपी छात्राओं के बयान दर्ज किये. साथ ही टीम ने कथित घटना स्थल पर अपराध के दृश्य को रूपांतरित किया है. ‘बेंगलुरु मोबाइल फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला’ के विशेषज्ञों ने घटनास्थल का सत्यापन कर वहां से उंगलियों के निशान एकत्र किए हैं.

सीआईडी टीम ने कॉलेज के कर्मचारियों से भी सबूत जुटाए हैं और घटना स्थल के आसपास के सीसीटीवी फुटेज की भी समीक्षा कर रही है, जो पूर्व में जांच कर रही जिला पुलिस ने उन्हें उपलब्ध कराए हैं. सूत्रों ने बताया कि तीनों छात्राओं के मोबाइल फोन जांच के लिए हैदराबाद स्थित केंद्रीय फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला में भेज दिए गए हैं. प्रमुख वीडियो सबूत नहीं होने के कारण अभी इस मामले में स्पष्टता की कमी है.

इसी बीच, सीआईडी के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजीपी) मनीष कारबिकर उडुपी पहुंचे और उन्होंने स्थानीय पुलिस अधीक्षक हाके अक्षय मच्छिन्द्र और सीआईडी के पुलिस अधीक्षक राघवेंद्र हेगड़े के साथ चर्चा की. बाद में एक बयान में कारबिकर ने कहा कि उन्होंने मामले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए पुलिस और सीआईडी अधिकारियों के साथ चर्चा की है. उन्होंने यह भी बताया कि सीआईडी उप पुलिस अधीक्षक अंजुमला को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है और जांच की निगरानी सीआईडी पुलिस अधीक्षक राघवेंद्र हेगड़े करेंगे.

फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट जांच अधिकारी को सौंपी जाएगी. जांच के बाद रिपोर्ट अदालत में जमा कराई जाएगी. उन्होंने बताया कि सीआईडी टीम ने जांच के सिलसिले में तीन मोबाइल की फॉरेंसिक रिपोर्ट भी हासिल की हैं.

Related Articles

Back to top button