कर्नाटक में भाजपा ने जारी किया ‘झूठ-लूट घोषणापत्र : कांग्रेस

कर्नाटक में कांग्रेस की जीत पार्टी के लिए ‘सुपर बूस्टर डोज’ साबित होगी: रमेश

नयी दिल्ली. कांग्रेस ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से जारी किए गए घोषणापत्र को ‘झूठ-लूट घोषणापत्र’ करार देते हुए सोमवार को कहा कि लोग सत्तारूढ़ पार्टी के ‘झूठ’ और ‘बकवास जुमलों’ से तंग आ चुके हैं. पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘‘यह कुछ नहीं, बल्कि भाजपा का झूठ-लूट घोषणापत्र है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने पिछले नौ वर्षों में एलपीजी सिलेंडर की कीमत तीन गुना बढ़ा दी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में साल में दो सिलेंडर मुफ्त देने का वादा किया था. आज कर्नाटक में भी हर साल तीन सिलेंडर मुफ्त देने का वादा किया गया.’’ रमेश ने दावा किया, ‘‘लोग महंगाई, भाजपा के झूठ और बकवास जुमलों से तंग आ चुके हैं. 10 मई को कर्नाटक की जनता भाजपा को सत्ता से बाहर कर देगी.’’

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने 10 मई को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सोमवार को जारी अपने घोषणापत्र में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू करने का वादा किया है. भाजपा ने कहा कि वह गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) जीवन यापन करने वाले सभी परिवारों को उगादि, गणेश चतुर्थी और दीपावली के महीनों के दौरान तीन मुफ्त रसोई गैस सिलेंडर प्रदान करेगी.

कर्नाटक में कांग्रेस की जीत पार्टी के लिए ‘सुपर बूस्टर डोज’ साबित होगी: रमेश
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा है कि अगर उनकी पार्टी कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करती है तो यह उसके लिए ‘सुपर बूस्टर डोज’ होगी. उनका यह भी कहना है कि पहले ‘भारत जोड़ो यात्रा’ ने कांग्रेस संगठन में नयी ऊर्जा का संचार किया था और कर्नाटक की जीत पार्टी को चुनावी नजरिये से मजबूती प्रदान करेगी.

कांग्रेस महासचिव रमेश ने ‘पीटीआई-भाषा’ के साथ बातचीत में कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में अभी कई महीने बाकी हैं और ऐसे में कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे इस साल के आखिर में होने वाले मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव पर असर डालेंगे.

उन्होंने कहा, ‘‘कर्नाटक में जीत कांग्रेस के लिए सुपर बूस्टर डोज होगी. इससे कांग्रेस को उस समय मजबूती मिलेगी जब हम तेलंगाना, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और मिजोरम के विधानसभा चुनावों की तरफ बढ़ रहे हैं.’’ रमेश के मुताबिक, ‘भारत जोड़ो यात्रा’ ने कांग्रेस में वैचारिक और संगठन के स्तर पर नयी ऊर्जा का संचार किया है, लेकिन कर्नाटक में जीत चुनावी रूप से पार्टी को मजबूती देगी.

आगामी विधानसभा चुनावों में पार्टी की संभावना के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘हैरानी नहीं होगी, अगर हम छत्तीसगढ़ और राजस्थान में अपनी सरकार बरकरार रखें और मध्य प्रदेश में वापसी करें. मध्य प्रदेश में तो हमें जनादेश मिला था लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके साथियों ने विश्वासघात किया और कांग्रेस से सरकार चोरी कर ली गई.’’ कांग्रेस महासचिव ने तेलंगाना के बारे में कहा कि वहां मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भारत राष्ट्र समिति के बीच ही होगा क्योंकि भाजपा सिर्फ हौव्वा खड़ा कर रही है, लेकिन लड़ाई में वह कहीं नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘‘2024 के बारे में अभी से कुछ कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन मैं यह जरूर कहूंगा कि 2023 के विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस की कर्नाटक में जीत सुपर बूस्टर डोज साबित होगी.’’ रमेश ने दावा किया कि कर्नाटक में कांग्रेस के पक्ष में मजबूत लहर है और चारों तरफ बदलाव की भावना है. कर्नाटक में सभी 224 विधानसभा सीटों के लिए 10 मई को मतदान होगा और 13 मई को मतगणना होगी.

भाजपा और जद(एस) के बीच मिलीभगत, आप, एमआईएमआईएम और एसडीपीआई भाजपा की ‘बी टीम’

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने सोमवार को आरोप लगाया कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी और जनता दल (एस) के बीच मिलीभगत है तथा आम आदमी पार्टी, एआईएमआईएम और एसडीपीआई जैसी पार्टियां भाजपा की ‘बी टीम’ हैं. उन्होंने यहां यह भी कहा कि भाजपा की ओर से साल में तीन एलपीजी सिलेंडर मुफ्त में देने का चुनावी वादा आंखों में धूल झोंकने जैसा है, क्योंकि उत्तर प्रदेश में भी उसने ऐसा ही वादा किया था, जो कभी पूरा नहीं हुआ.

रमेश ने दावा किया, ‘‘कर्नाटक की भाजपा सरकार ने अपने चुनावी घोषणापत्र के 90 फीसदी वादों को पूरा नहीं किया, जबकि सिद्धरमैया के नेतृत्व वाली सरकार ने 95 प्रतिशत वादों को पूरा किया था. उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस विधानसभा चुनाव को राज्य के मुद्दों पर लड़ रही है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह राष्ट्रीय मुद्दों को उठा रहे हैं.

Related Articles

Back to top button