2009 के लोकसभा चुनाव में योगी के खिलाफ ‘अनिच्छा’ से चुनाव लड़ा था: मनोज तिवारी

नयी दिल्ली. दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो बार के सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि साल 2009 में योगी आदित्यनाथ के खिलाफ समाजवादी पार्टी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव उन्होंने ‘अनिच्छा’ से लड़ा था, जिन्हें वह हमेशा से, अपने सिद्धांतों के प्रति अडिग रहने वाला नेता मानते हैं. उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट से तीसरी बार संसदीय चुनाव लड़ रहे तिवारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत में कहा कि उन्होंने योगी के खिलाफ कभी भी एक शब्द नहीं कहा.

तिवारी ने 2009 में योगी के खिलाफ चुनाव लड़ने के अपने फैसले को याद करते हुए कहा कि वह तब राजनीति में नहीं थे और यह एक अलग स्थिति थी. उन्होंने कहा कि इसके पीछे बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन एक ‘कारक’ थे. उन्होंने कहा, ”मैं अमिताभ बच्चन के साथ एक फिल्म कर रहा था और अमर सिंह से मिला. मैंने भले ही चुनाव लड़ा हो लेकिन अनिच्छा से.”

मशहूर भोजपुरी गायक व अभिनेता तिवारी ने कहा कि यह फैसला एक बैठक में किया गया जिसमें बच्चन, अमर सिंह और अनिल अंबानी भी मौजूद थे. उन्होंने कहा, ”मैं सिर्फ एक कलाकार था और वे तीनों मेरे लिए बड़े लोग थे. वे मुझे चुनाव लड़ने के लिए कह रहे थे. इसलिए मैं मना नहीं कर सका.” दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान भी योगी के खिलाफ कभी एक शब्द नहीं कहा. उन्होंने कहा, ”मैं तब भी मानता था कि वह अपने सिद्धांतों के प्रति प्रतिबद्ध व्यक्ति थे और एक धार्मिक व्यक्ति के रूप में न्याय कर रहे थे.”

तिवारी ने कहा कि जब वह उन दिनों योगी से मिले तो उन्होंने प्रणाम कहकर उनका अभिवादन किया था क्योंकि ‘यह मेरा धर्म था’. उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी ने 2009 के चुनाव में गोरखपुर लोकसभा सीट से दो लाख से अधिक मतों के साथ जीत हासिल की थी और तिवारी बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के उम्मीदवार के बाद, चुनाव में तीसरे स्थान पर रहे थे. वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए तिवारी ने दावा किया कि पार्टी राष्ट्रीय राजधानी में सभी सात संसदीय सीटों पर जीत दर्ज करने जा रही है. वह दिल्ली से एकमात्र मौजूदा सांसद हैं जिन्हें भाजपा ने फिर से चुनाव मैदान में उतारा है.

Related Articles

Back to top button