आरोपी के साथ घूम रहे हैं केजरीवाल, यह दर्शाता है कि उनकी वफादारी किसके प्रति है: भाजपा

दिल्ली पुलिस ने मालीवाल से मारपीट मामले में केजरीवाल के माता-पिता से पूछताछ टाली

नयी दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बृहस्पतिवार को कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) की सांसद स्वाति मालीवाल पर कथित हमला मामले की जांच में किसी को बाधा नहीं डालनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह पता लगाने के लिए जांच करने की जरूरत है कि घटना के वक्त दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर कौन-कौन मौजूद था और उनकी क्या भूमिका थी.

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ”केजरीवाल के आवास पर उनके परिवार और कार्यालय के कौन-कौन लोग मौजूद थे, उनकी क्या भूमिका थी और जब मालीवाल की पिटाई की जा रही थी तब उन्होंने क्या देखा, ये जांच का हिस्सा हैं. मैं भाजपा की प्रवक्ता हूं, पुलिस की नहीं. मैं केवल यह अनुरोध करूंगी कि कोई भी जांच में बाधा न डाले.” ईरानी इस मुद्दे पर केजरीवाल के माता-पिता से पूछताछ करने के दिल्ली पुलिस के कदम को लेकर भाजपा पर आम आदमी पार्टी (आप) के हमले के बारे में पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रही थीं.

उन्होंने कहा कि तथ्य यह है कि केजरीवाल को आरोपी और उसके सहयोगी बिभव कुमार के साथ यात्रा करते देखा गया है, जिससे संकेत मिलता है कि मामले में उनकी वफादारी किसके प्रति है. उन्होंने सवाल किया, ”क्या उनसे न्याय की उम्मीद की जा सकती है?” दिल्ली के मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता ने पूछा कि केजरीवाल देश में महिला सुरक्षा पर कैसे बोल सकते हैं जब उनकी पार्टी की महिला सदस्य उनके ही आवास पर सुरक्षित नहीं है. केजरीवाल ने बुधवार को कहा था कि वह इस मामले में निष्पक्ष जांच की उम्मीद करते हैं और न्याय किया जाना चाहिए.

आप की राज्यसभा सदस्य मालीवाल ने आरोप लगाया है कि 13 मई को जब वह मुख्यमंत्री से मिलने गई थीं तो केजरीवाल के निजी सहायक कुमार ने उन पर ‘हमला’ किया. पुलिस मामला दर्ज कर इस सिलसिले में कुमार को गिरफ्तार कर चुकी है. ईरानी ने संवाददाता सम्मेलन में लोगों से आबकारी नीति मामले में दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को जमानत देने से इनकार करने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को पढ.ने का भी आग्रह किया.

उन्होंने कहा कि अदालत ने तीन मुख्य टिप्पणियां कीं जो सिसोदिया और अन्य आरोपियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों को बल देती हैं. अदालत ने कहा है कि आप नेता के खिलाफ प्रथम दृष्ट्या मामला बनता है और उन्होंने भ्रष्टाचार के लिए सरकार में अपने पद का दुरूपयोग किया. ईरानी ने अदालत के आदेश का हवाला देते हुए कहा कि उन्होंने सबूतों को भी नष्ट किया और वह गवाहों पर दबाव डालने की क्षमता में हैं. उन्होंने दावा किया कि इस घोटाले में केजरीवाल के साथ सिसोदिया ने भी अहम भूमिका निभाई.
उन्होंने आरोप लगाया कि बदलाव और सेवा के नाम पर सत्ता हथियाने वाली पार्टी का पर्दाफाश हो गया है कि उसने किस तरह सरकारी खजाना लूटा.

दिल्ली पुलिस ने मालीवाल से मारपीट मामले में केजरीवाल के माता-पिता से पूछताछ टाली

दिल्ली पुलिस आम आदमी पार्टी (आप) की राज्यसभा सदस्य स्वाति मालीवाल से कथित ”मारपीट” के मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के माता-पिता से पूछताछ करने बृहस्पतिवार को केजरीवाल के आवास पर नहीं जाएगी. सूत्रों ने यह जानकारी दी.  जरीवाल ने बुधवार को कहा था कि पुलिस बृहस्पतिवार को उनके बूढ.े और बीमार माता-पिता से पूछताछ करने आएगी. पुलिस इस मामले में केजरीवाल के निजी सहायक बिभव कुमार को गिरफ्तार कर चुकी है.

सूत्रों ने कहा कि पुलिस आने वाले दिनों में पूछताछ के लिए केजरीवाल के आवास जा सकती है लेकिन वह बृहस्पतिवार को वहां नहीं जा रही. सूत्रों ने बताया कि पुलिस आने वाले दिनों में केजरीवाल से भी पूछताछ कर सकती है. केजरीवाल ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा,” मैं अपने माता-पिता और पत्नी के साथ पुलिस का इंतज़ार कर रहा हूं. कल पुलिस ने फोन करके मेरे माता-पिता से पूछताछ के लिए वक्त मांगा था. लेकिन वो आएंगे या नहीं – इसकी उन्होंने कोई जानकारी अभी नहीं दी.” आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी पुलिस के जरिए केजरीवाल के माता पिता को प्रताड़ित कर रही है.

दिल्ली की कैबिनेट मंत्री आतिशी ने कहा,” जब से अरविंद केजरीवाल को जमानत मिली है, भाजपा बौखला गई है. वे अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के खिलाफ हमले और साजिश रच रहे हैं. लेकिन आज दिल्ली पुलिस की ओर से अरविंद केजरीवाल के माता-पिता को पूछताछ के लिए बुलाने के बाद उन्होंने सारी हदें पार कर दीं.” पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा,” भाजपा इतनी नीचे गिर गई है कि वह केजरीवाल के बीमार और बुजुर्ग माता-पिता को प्रताड़ित करने के लिए दिल्ली पुलिस का इस्तेमाल कर रही है. उनके पिता 84 वर्ष के हैं. बिना सहारे के नहीं चल सकते और उन्हें सुनने में भी समस्या है. उनकी मां को भी सुनाई देने में दिक्कत है. लोग वोट के जरिए इसके जवाब देंगे.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button