जो सनातन धर्म को नष्ट करने आए थे वे स्वयं नष्ट हो गए : फडणवीस

भोपाल. महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने सोमवार को कहा कि जो आक्रमणकारी सनातन धर्म को नष्ट करने आए थे, वे स्वयं नष्ट हो गए. उनकी यह टिप्पणी विपक्षी गठबंधन ‘इंडिया’ के एक प्रमुख सदस्य द्रमुक के नेताओं द्वारा प्राचीन आस्था के खिलाफ की गई आलोचनात्मक टिप्पणियों की पृष्ठभूमि में आई है.

फडणवीस ने मध्य प्रदेश के धार जिले में भाजपा की ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ के दौरान आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ”पिछले 10,000 साल में सनातन धर्म को नष्ट करने आये आक्रांता स्वयं नष्ट हो गये….यह धर्म बना रहा. आप में सनातन को खत्म करने की ताकत या साहस नहीं है.” विपक्षी मोर्चे को विचारधाराओं की ‘खिचड़ी’ और ‘घमंडी’ लोगों का जमावड़ा करार देते हुए फडणवीस ने सनातन धर्म के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए तमिलनाडु के मंत्री व द्रमुक नेता उदयनिधि स्टालिन पर निशाना साधा.

उन्होंने कहा कि इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के पुत्र व कर्नाटक सरकार में मंत्री प्रियांक खरगे ने भी सनातन धर्म को उखाड़ फेंकने का आ”ान किया. भाजपा नेता ने कहा कि जब-जब सनातन पर आक्रमण हुआ, तब-तब छत्रपति शिवाजी महाराज जैसे राजा सामने आये और सनातन की रक्षा की. उन्होंने कहा, जब-जब सनातन मंदिर तोड़े गए, अहिल्याबाई होल्कर जैसी हमारी रानियों ने आगे आकर उनका पुर्निनर्माण कराया.

उन्होंने लोगों से सनातन धर्म को नष्ट करने का आ”ान करने वालों को कड़ा संदेश देने के लिए अपने मतों का उपयोग करने का आग्रह किया. महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री ने मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि इन दिनों देश में ‘चुनावी हिंदू’ आ गए हैं.

उन्होंने कहा, ”चुनाव आते ही उन्हें हनुमान चालीसा, मंदिर, भोलेनाथ याद आते हैं. वे उज्जैन जाते हैं (जहां महाकालेश्वर मंदिर है) मैं इन चुनावी हिंदुओं से पूछना चाहता था – यदि आप में साहस है तो खुले तौर पर कहें कि आप सनातन का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे.” भाजपा नेता ने कहा कि अगर कमलनाथ में साहस है तो उन्हें अपने पार्टी सहयोगी प्रियांक खरगे को सनातन धर्म का अपमान करने के लिए हिंदुओं से माफी मांगने के लिए कहना चाहिए.

उन्होंने सवाल किया कि अगर आप (विपक्षी गठबंधन इंडिया) चंद वोटों के लिए सनातन धर्म को गाली देंगे तो देश के 80 प्रतिशत हिंदू आपको माफ नहीं करेंगे. उन्होंने कहा, ”भाजपा सभी धर्मों का सम्मान करती है, लेकिन केवल सनातन धर्म को ही क्यों निशाना बनाया जा रहा है… वे अन्य धर्मों के खिलाफ क्यों नहीं बोलते?” फडणवीस ने कहा कि अगर भाजपा विरोधी पार्टियां किसी दूसरे धर्म के खिलाफ बोलती हैं तो उन्हें उस धर्म के अनुयायियों का वोट नहीं मिलेगा.

उन्होंने कहा कि भाजपा का एजेंडा विकास और गरीबों का कल्याण है, लेकिन ”हमें आगामी चुनावों के माध्यम से हमारे धर्म, संस्कृति और राष्ट्रवाद का दुरुपयोग करने वाले लोगों को सबक सिखाने की जरूरत है.” मध्य प्रदेश में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं. इन चुनावों के मद्देनजर, सत्तारूढ़ भाजपा ने “लोगों का आशीर्वाद लेने” के लिए ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ शुरू की है. ऐसी कई यात्राएं वर्तमान में राज्य के विभिन्न हिस्सों में चल रही हैं और उनका समापन 25 सितंबर को भोपाल में होगा.

Related Articles

Back to top button