‘आप’ का प्रदर्शन: पंजाब के मंत्री, सोमनाथ भारती समेत कई नेता हिरासत में लिए गए

नयी दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ आम आदमी पार्टी (आप) मंगलवार को यहां सड़कों पर उतरी और जब उसके कई नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ‘इंकलाब जिंदाबाद’ और ‘केजरीवाल जिंदाबाद’ के नारे लगाते हुए पटेल चौक से लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री निवास की ओर कूच करने की कोशिश की तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया.

राष्ट्रीय राजधानी को ‘किले’ में तब्दील किए जाने का दावा करते हुए आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जिस तरह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत केंद्र सरकार ने ‘शहर भर’ में धारा 144 के तहत पाबंदियां लगायी हैं, उससे ऐसा लगता है कि दिल्ली ‘पुलिस राज्य’ बन गयी है.

पुलिस ने प्रधानमंत्री आवास के आसपास के इलाके समेत राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में भी सुरक्षा कड़ी कर रखी है. पुलिस ने अपने र्किमयों के साथ-साथ अर्धसैनिक बलों के र्किमयों को भी तैनात किया है. लोक कल्याण मार्ग मेट्रो स्टेशन बंद कर दिया गया है जबकि पटेल चौक और केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशनों पर भी अगले आदेश तक प्रवेश एवं निकास संबंधी कुछ बंदिशें लगायी गयी हैं.

आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता सोमनाथ भारती, दिल्ली विधानसभा की उपाध्यक्ष राखी बिड़लान, और पंजाब सरकार के मंत्री हरजोत सिंह बैंस समेत पार्टी के कई नेताओं/कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. राय ने कहा, ” मैं केंद्र को चेतावनी देना चाहता हूं कि पुलिस बल का प्रयोग करने से यह आंदोलन नहीं रुकेगा.” उन्होंने दावा किया कि पार्टी की महिला कायकर्ताओं को घसीटा गया और उन्हें हिरासत में ले लिया गया.

‘आप’ के कार्यकर्ता और नेता सुबह से ही समूह में पटेल चौक मेट्रो स्टेशन के पास पहुंचने लगे क्योंकि पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लोक कल्याण मार्ग स्थित आधिकारिक आवास को घेरने के लिए मार्च का आह्वान किया था. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पटेल चौक क्षेत्र में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगायी गयी है और पुलिस किसी को भी जमा होने की अनुमति नहीं दे सकती.

उन्होंने कहा कि इसके मद्देनजर, ”हमें इस क्षेत्र को खाली कराना है.ह्व उन्होंने कहा, ”हम यहां किसी को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं देंगे.” नयी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) देवेश कुमार ने कहा था कि जो भी प्रदर्शन करने के लिए पटेल चौक पर इकट्ठा होने की कोशिश करेगा, उसे तुरंत हिरासत में ले लिया जाएगा.

राय ने कहा कि इस देश में ‘तानाशाही’ के खिलाफ लड़ाई उन लोगों का संघर्ष है जिन्हें लोकतंत्र एवं संविधान पसंद है. उन्होंने घोषणा की कि 31 मार्च को यहां रामलीला मैदान में होने वाली ‘महारैली’ की तैयारी चल रही है. राय ने कहा कि इस रैली में लाखों लोग मौजूद रहेंगे तथा विपक्षी ‘इंडिया’ गठबंधन के नेता केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ आवाज उठायेंगे.

यह विपक्षी गठबंधन लोकसभा चुनाव में भाजपा का मुकाबला करने के लिए आप, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) और समाजवादी पार्टी समेत कुछ विपक्षी दलों के साथ आने से बना है. प्रवर्तन निदेशालय ने अब रद्द की जा चुकी आबकारी नीति से जुड़े धनशोधन से संबंधित मामले में 21 मार्च को केजरीवाल को गिरफ्तार किया था. वह बृहस्पतिवार तक एजेंसी की हिरासत में हैं. उन पर नीति बनाने के दौरान कुछ व्यक्तियों को फायदा पहुंचाने संबधी कथित साजिश में सीधे शामिल होने का आरोप है.

कविता नाम की एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ह्लभाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए हर उस व्यक्ति को निशाना बना रही है जो ईमानदार है.ह्व ‘आप’ के वरिष्ठ नेता भारती ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर किए पोस्ट में कहा कि पुलिस ने उन्हें दिल्ली विधानसभा की उपाध्यक्ष एवं मंगोलपुरी से पार्टी की विधायक राखी बिड़लान के साथ हिरासत में ले लिया है.

भारती ने कहाह्ल यह देखकर हैरानी होती है कि दिल्ली पुलिस शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे ‘आप’ समर्थकों को गिरफ्तार कर रही है, जबकि भाजपा को रोकने के लिए कुछ नहीं कर रही है.ह्व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भी मुख्यमंत्री पद से केजरीवाल के इस्तीफे की मांग को लेकर मंगलवार को प्रदर्शन किया. पुलिस ने कहा कि भाजपा के प्रदर्शन के दौरान पानी की बौछार की गयी और कम से कम 57 पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया.

केजरीवाल ने अपने ऊपर लगे आरोपों का खंडन किया है और भाजपा नीत केंद्र सरकार पर ‘राजनीतिक मकसद के लिए जांच एजेंसियों का अपने ढंग से इस्तेमाल करने’ का आरोप लगाया है. ईडी ने कहा है कि केजरीवाल आप मंत्रियों, नेताओं और अन्य व्यक्तियों साथ मिलीभगत में इस आबकारी नीति मामले में ‘सरगना और मुख्य षडयंत्रकर्ता’ हैं. यह नीति काफी पहले निरस्त की जा चुकी है.

योजनाएं बंद होने की अफवाहों पर ध्यान न दें : दिल्ली सरकार ने नागरिकों से कहा

दिल्ली सरकार ने मंगलवार को नागरिकों से अपील की कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी से उत्पन्न स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे उपद्रवी तत्वों के दुष्प्रचार से बचें. योजना विभाग द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि ”दिल्ली में निहित स्वार्थ वाले कुख्यात तत्वों द्वारा अटकलें और अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी और कल्याणकारी योजनाएं बंद कर दी जाएंगी.”

इसमें कहा गया, ”आपराधिक जांच की प्रक्रिया में कानून अपना काम करेगा, वहीं यह स्पष्ट किया जाता है कि योजनाएं और शासन कभी व्यक्ति केंद्रित नहीं होते और पहले की तरह सामान्य तरीके से जारी रहेंगे.” आम आदमी पार्टी के सूत्रों ने कहा कि केजरीवाल के निर्देश के बाद बयान जारी किया गया.

इसमें कहा गया है कि दिल्ली सरकार द्वारा वर्तमान में दी जाने वाली सभी सार्वजनिक सेवाएं, समाज कल्याण योजनाएं और सब्सिडी निर्बाध रूप से जारी रहेंगी. बयान में लोगों से ‘इस संबंध में किसी भी भय फैलाने वाली और दुर्भावनापूर्ण गलत सूचना’ से गुमराह नहीं होने के लिए कहा गया है.

उसने कहा, ”दिल्ली के सभी नागरिकों से अपील है कि वे किसी भी अफवाह फैलाने वाले से दूर रहें, जो 21 मार्च, 2024 को प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी/रिमांड से उत्पन्न स्थिति का गलत सूचना फैलाकर फायदा उठाने की कोशिश करेंगे.” प्रवर्तन निदेशालय ने अब रद्द की जा चुकी दिल्ली आबकारी नीति से जुड़े धनशोधन से संबंधित मामले में 21 मार्च को केजरीवाल को गिरफ्तार किया था. वह 28 मार्च तक एजेंसी की हिरासत में हैं.

बयान में योजना सचिव निहारिका राय ने कहा, ”इस तरह की अफवाहें आम जनता में भय का माहौल बनाती हैं.” इसमें कहा गया, ”स्वीकार्य सब्सिडी, पेंशन, कल्याणकारी लाभ आदि के वितरण में किसी भी प्रकार का व्यवधान नहीं होगा. समाज कल्याण योजनाओं को बजटीय आवंटन द्वारा सर्मिथत समेकित निधि के माध्यम से सार्वजनिक धन से वित्त पोषित किया जाता है.”

Related Articles

Back to top button