ओम बिरला के खिलाफ उम्मीदवार उतारने के लिए नड्डा ने की विपक्ष की आलोचना

हार सुनिश्चित दिखती है तो कांग्रेस किसी दलित को उम्मीदवार बना देती है: चिराग पासवान

नयी दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जे पी नड्डा ने मंगलवार को कांग्रेस को ‘आपातकाल के काले दिनों’ की याद दिलाते हुए सबसे पुरानी पार्टी पर जमकर हमला बोला . इसके साथ ही लोकसभा अध्यक्ष पद के लिये सत्तारूढ़ गठबंधन के खिलाफ उम्मीदवार उतारने के लिए विपक्ष की आलोचना की.

लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव में कांग्रेस ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के ओम बिरला के खिलाफ अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता के सुरेश को उम्मीदवार बनाया है. पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा 1975 में लगाए गए आपातकाल की 49 वीं बरसी के मौके पर भाजपा मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नड्डा ने लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव के मुद्दे पर कांग्रेस पर ‘पाखंड’ और ‘दोहरे मापदंड’ अपनाने का आरोप लगाया.

उन्होंने दावा किया कि मुख्य विपक्षी दल की मानसिकता में लोकतंत्र के लिए कोई जगह नहीं है. नड्डा ने सवाल किया, ”आज तक कभी भी लोकसभा के अध्यक्ष का चुनाव सशर्त हुआ है. ये (विपक्ष) कह रहे हैं कि उपाध्यक्ष तय करो तब हम अध्यक्ष को समर्थन देंगे.” उन्होंने कहा कि यह बात वे लोग कह रहे हैं जिन्होंने अपने शासन वाले राज्यों में खुद इसका पालन नहीं किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार में तेलंगाना में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों उनकी अपनी पार्टी से हैं .

उन्होंने कहा, ”कनार्टक में इनका ही अध्यक्ष और उपाध्यक्ष है. ममता बनर्जी लोकतंत्र की बात करती हैं लेकिन पश्चिम बंगाल में भी दोनों पद तृणमूल कांग्रेस के पास है. तमिलनाडु में भी उनका ही अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, केरल में वामपंथी दलों के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष हैं .” उन्होंने कहा कि हाथी के दांत दिखाने के कुछ और तथा खाने के कुछ और हैं. उन्होंने कहा कि ये ऐसे लोग हैं जो पाखंड करते हैं और दोहरे मापदंड में जीते हैं.

कांग्रेस से अपील कि लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव को मजबूर न करें: किरेन रीजीजू

संसदीय कार्य मंत्री किरेन रीजीजू ने मंगलवार को कांग्रेस से अपील की कि वह लोकसभा अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए दबाव नहीं डाले, क्योंकि पीठासीन अधिकारी किसी पार्टी से संबंधित नहीं होता है. लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार ओम बिरला के खिलाफ कांग्रेस नेता कोडिकुन्निल सुरेश के नामांकन दाखिल करने के बाद रीजीजू का यह बयान सामने आया है.
संसदीय कार्य मंत्री ने कहा, ”मैं एक बार फिर अपील करता हूं कि उन्हें (कांग्रेस को) अध्यक्ष पद की गरिमा को ध्यान में रखते हुए एक

बार फिर से सोचना चाहिए. हमारे पास (जरूरी) संख्या है, फिर भी हम अनुरोध कर रहे हैं कि अध्यक्ष पद के लिए चुनाव नहीं होना चाहिए, क्योंकि यह पद किसी पार्टी से संबंधित नहीं होता है.” उन्होंने कहा कि सरकार ने अध्यक्ष पद पर आम सहमति के लिए पिछले दो दिन में प्रमुख विपक्षी दलों से संपर्क किया है. रीजीजू ने कहा, ”हम चाहते हैं कि अध्यक्ष का चुनाव सर्वसम्मति से और निर्विरोध हो, इसलिए हमने उनसे (विपक्ष से) संपर्क किया और उनसे अपील की. आज, हमने कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक की. हमने उनसे अध्यक्ष पद के लिए समर्थन की अपील की. ??उन्होंने (विपक्ष ने) कहा कि वे समर्थन करेंगे लेकिन वे उपाध्यक्ष का पद चाहते हैं.”

हार सुनिश्चित दिखती है तो कांग्रेस किसी दलित को उम्मीदवार बना देती है: चिराग पासवान

केंद्रीय मंत्री चिराग पासवान ने मंगलवार को कांग्रेस पर आरोप लगाया कि महत्वपूर्ण पदों पर जब उसे हार सुनिश्चित दिखती है तो वह किसी दलित नेता को ‘प्रतीकात्मक उम्मीदवार’ के रूप में मैदान में उतार देती है. लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव में विपक्षी दलों की ओर से कोडिकुन्नील सुरेश को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद दलित नेता और लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए यह टिप्पणी की है.

चिराग पासवान ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ”जब भी कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष को पता चलता है कि उनकी हार सुनिश्चित है तो वे दलित कार्ड चल देते हैं.” पासवान ने कहा कि साल 2002 में उन्हें पता था कि वे उपराष्ट्रपति पद का चुनाव हार रहे हैं फिर भी उन्होंने सुशील कुमार शिंदे को उम्मीदवार बनाया था. उन्होंने कहा कि इसी प्रकार 2017 में जब वे जानते थे कि वे राष्ट्रपति पद का चुनाव हार रहे हैं तो उन्होंने मीरा कुमार को उम्मीदवार बनाया.

उन्होंने कहा, ”अब जब उनके पास स्पष्ट रूप से लोक सभा अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए संख्याबल नहीं है तो वे कांग्रेस के दलित के नेता के.सुरेश जी को नामांकित कर रहे हैं.” उन्होंने सवाल किया, ”विपक्ष के लिए क्या दलित नेता केवल और केवल प्रतीकात्मक उम्मीदवार हैं?”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button