आतंकी गतिविधियों का केंद्र बना जम्मू क्षेत्र, सरकार उपयुक्त कदम उठाए: कांग्रेस

नयी दिल्ली. कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आतंकी हमले को लेकर मंगलवार को कहा कि कश्मीर घाटी के बाद अब जम्मू क्षेत्र आतंकवादी गतिविधियों का नया केंद्र बन गया है और सरकार को इसे गंभीरता से लेते हुए उपयुक्त कदम उठाना चाहिए. पार्टी सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि इस मामले पर सरकार को देश को भरोसे में लेना चाहिए कि वह आंतरिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए क्या कदम उठा रही है. उनका यह भी कहना था कि अब पाकिस्तान को उसके दुस्साहस के लिए जवाब देने का समय आ गया है.

कठुआ के बदनोटा इलाके में भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने सोमवार को एक गश्ती दल पर घात लगाकर हमला किया था, जिसमें पांच जवान शहीद हो गए थे और कई अन्य घायल हो गए थे. इस महीने जम्मू संभाग में यह पांचवां आतंकवादी हमला है.
हुड्डा ने संवाददाताओं से कहा, ”जम्मू-कश्मीर के कठुआ में भारतीय सेना के वाहन पर हुए आतंकी हमले में 5 सैनिक शहीद हो गए, वहीं 5 सैनिक गंभीर रूप से घायल हैं. मातृभूमि के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले वीर शहीदों को नमन. शहीदों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए मैं कहना चाहता हूं कि पूरा देश आपके साथ खड़ा है.”

उन्होंने कहा, ”इससे पहले भी दिसंबर-2023 में राजौरी में हमारे 4 जवान शहीद हुए थे. कुलगाम में मुठभेड़ हुई थी, जिसमें हमारे दो जवान शहीद हुए थे. 26 जून को डोडा में एक आतंकी हमला हुआ था. 9 जून को भी एक बस पर आतंकी हमला किया गया था. इसलिए कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर गंभीर चिंता जताते हुए सरकार का ध्यान इस ओर खींचना चाहती है.” हुड्डा का कहना था, ”हम चाहते हैं कि सरकार इस मामले को बेहद गंभीरता से ले.”

उनका कहना था, ”राहुल गांधी जी ने कहा है कि लगातार हो रहे आतंकी हमलों का हल कठोर कार्रवाई से होगा, न कि खोखले वादों से. आंकड़े बताते हैं कि जम्मू क्षेत्र में जनवरी 2023 के बाद आतंकवादी घटनाओं में नागरिकों और शहीद हुए सुरक्षा बलों की संख्या दोगुनी हुई है. आतंकवादी घटनाओं का केंद्र अब कश्मीर घाटी नहीं, बल्कि जम्मू क्षेत्र हो गया है. इसको लेकर हम चिंतित हैं.” हुड्डा ने कहा, ”सेना विशेषज्ञों की मानें तो हमलों का मुख्य कारण सैन्य तैनाती का पाकिस्तान की तरफ कम और लद्दाख की तरफ ज्यादा होना है. सेना विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार को पहले से ही इस बारे में सचेत रहना चाहिए था.” उन्होंने आरोप जगाया कि मोदी सरकार जम्मू-कश्मीर में जमीनी हालात को लेकर गंभीर नहीं है और वह अपने विमर्श को देश के सामने रखने में ज्यादा व्यस्त है.

कांग्रेस नेता ने कहा, ”मोदी सरकार जब भी कोई योजना लाती है, तो उसे आतंकवाद से जोड़ते हुए कहती है कि आतंकवाद का सफाया हो जाएगा. जब देश में नोटबंदी और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी बनाने का काम हुआ, तब भी आतंकवाद के सफाये की बात कही गई थी. लेकिन अब जिस तरह के हालात बने हैं, सरकार को उस पर सोचना चाहिए.” उन्होंने कहा, ”पाकिस्तान विफल राष्ट्र बनने की कगार पर पहुंच चुका है, लेकिन फिर भी वो ऐसा दुस्साहस कर रहा है. अब पाकिस्तान को जवाब देने का समय है.” लोकसभा सदस्य ने कहा कि सरकार को उपयुक्त कदम उठाना चाहिए और देश को विश्वास में लेना चाहिए. हुड्डा ने कहा, ”देश की सुरक्षा के लिए एक जिम्मेदार विपक्ष के रूप में हम सरकार के साथ हैं.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button