पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सुरक्षा बलों की गोलीबारी में तीन लोगों की मौत

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में अर्धसैनिक रेंजर पर हमला करने वाले प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षा बलों द्वारा गोलियां चलाए जाने से कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई और छह अन्य लोग घायल हो गए. मंगलवार को मीडिया में आई खबरों में यह जानकारी दी गई है. खबरों के मुताबिक, पीओके में प्रदर्शनकारी गेहूं के आटे की ऊंची कीमतों और बिजली के बढ़े हुए दामों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. ‘डॉन’ समाचार पत्र की खबर के मुताबिक, विवादित क्षेत्र में कानून-व्यवस्था को बनाये रखने के लिए अर्द्धसैनिक रेंजर को बुलाया गया था.

खबर के मुताबिक, पांच ट्रक समेत 19 वाहनों के काफिले ने खैबर पख्तूनख्वा की सीमा से लगे गांव ब्रारकोट के बजाय कोहाला से बाहर निकलने का विकल्प चुना था. खबर में कहा गया, जैसे ही काफिला ‘आक्रोशित माहौल’ में मुजफ्फराबाद के पास पहुंचा, शोरां दा नक्का गांव के पास उस पर पत्थरों से हमला किया गया, जिसका जवाब उन्होंने आंसू गैस और गोलीबारी से दिया.

‘डॉन’ द्वारा सत्यापित एक सोशल मीडिया क्लिप में मुजफ्फराबाद-ब्रारकोट मार्ग पर रेंजर के तीन वाहनों में आग लगाते हुए दिखाया गया खबर के मुताबिक, पश्चिमी बाईपास के रास्ते शहर में प्रवेश करने के बाद, रेंजर पर फिर से पथराव हुआ, जिसके बाद उन्हें आंसूगैस और गोलियों का इस्तेमाल किया. गोलीबारी इतनी भीषण थी कि पूरा इलाका दहल उठा. मुजफ्फराबाद के संभागीय आयुक्त सरदार अदनान खुर्शीद ने कहा कि रेंजर की गोलीबारी में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गयी और छह अन्य लोग घायल हो गए.

प्रदर्शनकारियों और क्षेत्रीय सरकार के बीच गतिरोध बढ़ने के बाद सोमवार को प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने क्षेत्र के लिए 23 अरब रुपये की सब्सिडी की तत्काल मंजूरी दी थी. खबर के मुताबिक, सब्सिडी देने का सरकार का फैसला इस क्षेत्र को शांत करने में विफल रहा. खबर के अनुसार, 40 किलोग्राम आटे की सब्सिडी दर 3,100 पाकिस्तानी रुपये से कम करके 2,000 पाकिस्तानी रुपये कर दी गई है. खबर के अनुसार 100, 300 और 300 यूनिट से अधिक के लिए बिजली के दाम घटाकर क्रमश: तीन रुपये, पांच रुपये और छह रुपये प्रति यूनिट कर दिए गए हैं.

Related Articles

Back to top button