चार अमेरिकी प्रशिक्षकों पर चाकू से हमले के मामले में संदिग्ध को हिरासत में लिया: चीन की पुलिस

बीजिंग. पूर्वोत्तर चीन के जिलिन शहर स्थित एक विश्वविद्यालय में पढ.ा रहे कॉर्नेल कॉलेज के चार प्रशिक्षकों पर चाकू से हमला करने के मामले में चीनी पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. जिलिन शहर की पुलिस ने बताया कि सोमवार को कुई नाम का 55 वर्षीय व्यक्ति सार्वजनिक पार्क में टहल रहा था, तब उसकी टक्कर एक विदेशी से हुई. पुलिस ने बताया कि उसने विदेशी और उसके साथ मौजूद तीन अन्य विदेशियों पर चाकू से हमला किया और बीच-बचाव करने आए एक चीनी व्यक्ति को भी चाकू मार दिया. अमेरिकी स्कूल के अधिकारियों ने बताया कि कॉर्नेल कॉलेज के प्रशिक्षक बीहुआ विश्वविद्यालय में पढ.ा रहे थे.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लिन जियान ने मंगलवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि घायलों को उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया है और किसी की हालत गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि पुलिस का मानना है कि जिलिन शहर के बेइशान पार्क में हुआ हमला एक अलग घटना थी. उन्होंने कहा कि यह प्रारंभिक आकलन पर आधारित है और जांच जारी है. कॉर्नेल कॉलेज के अध्यक्ष जोनाथन ब्रांड ने एक बयान में कहा कि जब प्रशिक्षक बीहुआ के एक संकाय सदस्य के साथ पार्क में थे, उसी समय उनपर हमला हुआ. यह बीजिंग से करीब एक हजार किलोमीटर (600 मील) उत्तर पूर्व में स्थित औद्योगिक शहर जिलिन के बाहरी हिस्से में है. सोमवार को चीन में सार्वजनिक अवकाश था.

गृह विभाग ने एक बयान में बताया कि वह चाकू मारने की खबरों से अवगत है और स्थिति पर नजर रख रहा है. यह हमला ऐसे समय पर हुआ जब बीजिंग और वाशिंगटन दोनों ही व्यापार और ताइवान, दक्षिण चीन सागर और यूक्रेन युद्ध जैसे अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर तनाव के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए जनसंपर्क को बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं.

आयोवा राज्य के एक विधायक ने इंस्टाग्राम पर एक बयान पोस्ट किया, जिसमें बताया कि उनके भाई डेविड जबनर को जिलिन में चाकू से हमला करके घायल कर दिया गया था. एडम जबनर ने अपने भाई को टफ्ट्स विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट का छात्र बताया जो कॉर्नेल-बीहुआ संबंध के तहत चीन में था. एडम जबनर ने लिखा, ”मैने कुछ मिनट पहले डेविड से बात की थी, वह अपनी चोटों से उबर रहा है और अच्छा महसूस कर रहा है.” उन्होंने आगे कहा कि उसका भाई अस्पताल में मिली देखभाल के लिए आभारी है.

इस घटना की खबर को चीन ने तवज्जो नहीं दी जहां सरकार ऐसी किसी भी सामग्री पर नियंत्रण रखती है जिसे वह संवेदनशील मानती है. समाचार मीडिया प्रतिष्ठानों ने घटना की खबर नहीं दी. कुछ सोशल मीडिया खातों ने हमले के बारे में विदेशी मीडिया की खबर पोस्ट की, लेकिन एक लोकप्रिय पोर्टल पर इसके बारे में हैशटैग ब्लॉक कर दिया गया. कॉर्नेल के प्रवक्ता जेन वाइजर ने एक ईमेल में कहा कि कॉलेज अभी भी इस बारे में जानकारी जुटा रहा है कि क्या हुआ था.

वाइजर ने कहा कि माउंट वर्नोन, आयोवा में निजी कॉलेज, बेहुआ विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी करता है. 2018 में जब यह कार्यक्रम शुरू हुआ तब की कॉलेज की एक समाचार विज्ञप्ति के अनुसार बीहुआ कॉर्नेल के प्रोफेसरों को दो सप्ताह की अवधि में कंप्यूटर विज्ञान, गणित और भौतिकी में पाठ्यक्रमों का एक हिस्सा पढ.ाने के लिए चीन की यात्रा करने के लिए धन मुहैया कराता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button